लाइव टीवी

कानपुर पुलिस का अजब कारनामा, सात साल के मासूम को उठा लायी थाने !
Kanpur News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 7, 2020, 1:21 AM IST
कानपुर पुलिस का अजब कारनामा, सात साल के मासूम को उठा लायी थाने !
कानपुर पुलिस पर 7 साल के बच्चे को थाने पर बैठाने के आरोप (प्रतीकात्मक फोटो)

वायरल वीडियो (viral video) में साफ़ तौर पर देखा जा सकता है कि एक महिला सात साल के मासूम को अपने सीने से चिपकाये मुंसियाने में बैठी हुई है. वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस अधिकारी सफाई देते हुए नजर आ रहे हैं.

  • Share this:
कानपुर. नगर के चमनगंज थाने का एक वीडियो वायरल होने से पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है. इस वीडियो में एक महिला 7 साल के मासूम को सीने से चिपकाए बैठी है. पुलिस (Kanpur Police) पर आरोप है कि वो इस सात साल के मासूम को उसके घर से सोते समय उठा लायी थी जिसके बाद उसकी बहन थाने में पहुंच कर उसे सांत्वना देने की कोशिश कर रही थी. इस वीडियो के वायरल होने के बाद अब पुलिस अधिकारी जांच की बात कहते हुए बचने की कोशिश कर रहे हैं.

पुलिस पर संगीन आरोप!
वायरल वीडियो (viral video) में साफ़ तौर पर देखा जा सकता है कि एक महिला सात साल के मासूम को अपने सीने से चिपकाये मुंसियाने में बैठी हुई है. वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस अधिकारी सफाई देते हुए नजर आ रहे हैं. रिपोर्ट के मुताबिक सुफियान कनखड़े नाम के अपराधी को पकड़ने के लिए पुलिस लगातार दबिश दे रही थी. लेकिन वो अपराधी को पकड़ नहीं सकी इसलिए देर रात चमनगंज थाना क्षेत्र की दलेलपुरवा चौकी के इंचार्ज ब्रज मोहन पर आरोप है कि उनकी टीम सुफियान के छोटे भाई जिसकी उम्र महज 7 साल है को घर से पकड़कर थाने ले आई. सुफियान की बहन के मुताबिक जब उसे इस बात की जानकारी हुई तो वह भी थाने पहुंच गई और अपने छोटे भाई को सीने से चिपकाकर मुंसियाने में बैठ गई. इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो जब सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा तो पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया.

kanpur police
वायरल वीडियो में एक महिला 7 साल के मासूम को सीने से चिपकाए बैठी है




वायरल वीडियो के बारे में जब news 18 संवाददाता ने एसपी पश्चिमी डॉ. अनिल कुमार से बात की तो उन्होंने कहा कि चमनगंज थाना क्षेत्र के रहने वाले सुफियान पर दो बार गोली चलाने व कई आपराधिक घटनाओं में संलिप्त होने का आरोप है. सुफियान वांछित चल रहा है. उसको पकड़ने के लिए पुलिस ने दबिश दी तो उसके परिजन दबाव बनाने के उद्देश्य से थाने में आये थे. एसपी का कहना है कि युवती और उसके छोटे भाई को पूरे सम्मान के साथ थाने के स्वागत कक्ष में बैठाया गया था. उन्होंने पुलिस का बचाव करते हुए कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है फिर भी मामले की जांच कराई जा रही है यदि किसी तरह की नकारात्मक बात सामने आती है तो जांच के बाद आवश्यक कार्यवाही की जाएगी.

वहीं पुलिस के आलाअधिकारियों को जब इसके बारे में पता चला तो उन्होंने वांछित सुफियान के 7 साल के भाई व उसकी बहन को फ़ौरन थाने से घर भेजने का आदेश दे दिया. पीड़ित परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने उन पर अत्याचार किया. सात वर्षीय मासूम मोहम्मद रहमान ने सहमते हुए कहा कि 'सोते समय पुलिस वाले आये और बाल पकड़ कर थाने ले गए.' वहीं रहमान की मां का कहना है कि जब पुलिस वालों से बच्चे को छोड़ने की गुहार लगाई तो उन्होंने अभद्र भाषा का प्रयोग किया. वजह कुछ भी हो पर अगर आरोप सही हैं तो पुलिस पर सवाल उठना लाजिमी है कि क्या वो अपराधी पर दबाव बनाने के लिए 7 साल के मासूम पर बल प्रयोग कर सकती है.

ये भी पढ़ें- कौशांबी गैंगरेप कांड के तीनों आरोपियों को Special Court ने दी उम्रकैद की सजा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कानपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 6, 2020, 11:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर