UP Panchayat Chunav 2021: कानपुर की आरक्षण सूची जारी, जानिए कुख्यात क्रिमिनल विकास दुबे के गांव से कौन लड़ेगा चुनाव

यूपी पंचायत चुनाव में कानपुर की आरक्षण लिस्ट जारी कर दी गई है. (File photo)

यूपी पंचायत चुनाव में कानपुर की आरक्षण लिस्ट जारी कर दी गई है. (File photo)

उत्तर प्रदेश निर्वाचन आयोग ने कानपुर जिले की आरक्षण सूची जारी कर दी है. यहां पर सबसे ज्यादा चर्चा में रही कुख्यात अपराधी विकास दुबे के गांव बिकरू में अनुसूचित जाति (SC) के उम्मीदवार के लिए आरक्षित कर दी गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2021, 7:27 PM IST
  • Share this:
कानपुर. उत्तर प्रदेश में त्रिस्‍तरीय पंचायत चुनाव 2021 (UP Panchayat Chunav 2021) के लिए कानपुर की अनंतिम आरक्षण लिस्‍ट (Reservation list) जारी हो गई है। जिले के 10 में से 5 क्षेत्र पंचायत प्रमुख की सीटों में बदलाव हुआ है. पिछले साल पुलिस एनकाउंटर में मारे गए कुख्‍यात अपराधी विकास दुबे के गांव में ग्राम प्रधान की सीट अनुसूचित जाति के उम्‍मीदवार के लिए आरक्षित हो गई है. पिछले चुनाव में यहां से विकास के छोटे भाई दीपप्रकाश की पत्नी अंजली दुबे निर्विरोध चुनी गईं थीं.

हाईकोर्ट के आदेश के बाद नए सिरे से तैयार की गई आरक्षण की अनंतिम लिस्‍ट शनिवार को उत्‍तर प्रदेश के कई जिलों में जारी की गई. इस लिस्‍ट में बिकरू गांव की सीट एससी के खाते में दर्ज की गई है. अनारक्षित होने के बावजूद किसी भी व्यक्ति ने इस सीट पर दावेदारी नहीं दिखाई थी. इससे पहले दो मार्च को जारी आरक्षण सूची में यह सीट ओबीसी कोटे में गई थी. इसी बिकरू कांड में भीटी ग्राम पंचायत का भी नाम खूब उछला.

विकास दुबे के वर्चस्व और दहशत को देखते हुए यहां उसके खास विष्णुपाल सिंह के खिलाफ किसी ने चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं दिखाई थी. इस बार भीटी ओबीसी महिला के लिए आरक्षित है, जबकि 2 मार्च वाले आरक्षण में यह ओबीसी वर्ग के लिए थी. पूरे शिवराजपुर ब्लॉक में सिर्फ बिकरू और भीटी ग्राम पंचायतों के प्रधान निर्विरोध निर्वाचित हुए थे, जबकि अन्य जगह मतदान हुआ था।

विकास दुबे के परिवार का कोई सदस्य नहीं लड़ पाएगा चुनाव
विकास दुबे की पत्नी रिचा दुबे कुछ दिनों से एक बार फिर सुर्खियों में थींं, असल में उनके घिमऊ सीट से पंचायत सदस्‍य का चुनाव लड़ने की चर्चा ने जोर पकड़ा था. लेकिन अब तक विकास के परिवार के कब्‍जे में रही उसके गांव बिकरू ग्राम प्रधान की सीट इस बार अनुसूचित जाति (SC) के लिए आरक्षित हो गई. ऐसे में अब उनके परिवार से किसी का बिकरू से ग्राम प्रधान बनना तो नामुमकिन हो चुका है. जिला पंचायत की जिस घिमऊ सीट से रिचा दुबे के चुनाव लड़ने की चर्चा थी, उस पर गैंगस्टर विकास दुबे का दबदबा रहा है. रिचा पहले भी वहां से जिला पंचायत सदस्य चुनी जा चुकी हैं. विकास दुबे के परिवार का अपने गांव बिकरू के ग्राम प्रधान पद पर कब्‍जा रहा है. पिछली बार भी यह सीट उसी के परिवार के कब्‍जे में रही.

इन जिलों की जारी हो चुकी आरक्षण लिस्ट

यूपी पंचायत चुनाव के लिए मैनपुरी, बलिया, मिर्जापुर, लखीमपुर खीरी, कानपुर, महोबा और गाजियाबाद जिले में अब तक नई आरक्षण सूची जारी हो गई है. नई आरक्षण सूची के मुताबिक ग्राम प्रधान से लेकर जिला पंचायत सदस्य, BDC पदों में काफी बदलाव हुआ है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज