कानपुर कांड: मुखबिरी के शक में पूरा चौबेपुर थाना, 10 नए सिपाहियों की तैनाती
Kanpur News in Hindi

कानपुर कांड: मुखबिरी के शक में पूरा चौबेपुर थाना, 10 नए सिपाहियों की तैनाती
एसएसपी कानपुर दिनेश कुमार पी

Kanpur Encounter: मुखबिरी के शक में आए एसओ विनय तिवारी, दरोगा कुंवर पाल, दरोगा केके शर्मा और सिपाही राजीव चौधरी को पहले ही निलंबित किया जा चुका है.

  • Share this:
कानपुर. आठ पुलिसकर्मियों की शहादत के बाद पूरा चौबेपुर थाना (Chaubeypur Police Station) मुखबिरी के लिए शक के घेरे में है. इसकी वजह से एसएसपी दिनेश कुमार पी (SSP Dinesh Kumar P) ने पुलिस लाइन से 10 सिपहियों की तैनाती इस थाने में की है, ताकि कामकाज सुचारू ढंग से चलता रहे. बता दें कि शक के दायरे में आए एसओ विनय तिवारी, दरोगा कुंवर पाल, दरोगा केके शर्मा और सिपाही राजीव चौधरी को पहले ही निलंबित किया जा चुका है. साथ ही अन्य पुलिसकर्मी भी शक के दायरे में हैं जिनकी जांच चल रही है.

इनकी हुई तैनाती
एसएसपी कानपुर ने पुलिसलाइन से सिपाही सुधीर, आशीष, विमल, रवि, मोहित, नवीन, विजेंद्र, धीरज कुमार, लवकुश और रिषी यादव की तैनाती चौबेपुर थाने में की है. अब ये नए सिपाही थाने का कामकाज देखेंगे.


पुलिस जांच में हुआ है थाने से मुखबिरी का खुलासा


गौरतलब है कि विकरू गांव में कुख्यात हिस्ट्री शीटर विकास दुबे के घर दबिश देने गई पुलिस टीम पर हमला हुआ था. इस हमले में सीओ विल्ल्हौर देवेंद्र मिश्रा समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए, जबकि 6 अन्य घायल हो गए. पूरे मामले में जैसे-जैसे तफ्तीश आगे बढ़ी तो खुलासा हुआ कि थाने से ही दबिश की सूचना विकास दुबे को मिली. जिसके बाद उसने अपने हथियारबंद गुर्गों को बुलाकर हमला किया गया.

STF के हाथ लगा ऑडियो
एसटीएफ के हाथ लगे ऑडियो में 'विभीषण' का पता चला है, जिसमें उन्होंने दबिश की सूचना दहशतगर्द विकास दुबे को दी थी. एसटीएफ की जांच में पता चला है कि दरोगा केके शर्मा और सिपाही राजीव चौधरी की उस दिन विकास दुबे से बातचीत हुई थी.

न्यूज18 को मिली जानकारी के मुताबिक, अब तक की जांच में एसटीएफ को जो सबूत मिले हैं, उसमें दरोगा केके शर्मा की शाम साढ़े पांच बजे विकास दुबे से बात हुई थी. इसके बाद दबिश से ठीक पहले सिपाही राजीव चौधरी ने रात 12.11 बजे विकास दुबे को फोन किया और दबिश की पूरी सूचना दी. इतना ही नहीं, इस सूचना के बाद विकास ने राजीव से कहा था कि आज पुलिस से निपट लेंगे. इसी के बाद साढ़े 12 बजे और 1 बजे के बीच पुलिस दबिश देने के लिए विकास दुबे के घर पहुंची, जहां पहले से ही घात लगाकर बैठे विकास और उसके गुर्गों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी.

(इनपुट: श्याम तिवारी)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading