इजरायल-फिलिस्तीन के मामले में कानपुर के सपा नेताओं ने लगवाए पोस्टर, मांगनी पड़ी माफी

सपा नेताओं को ये पोस्टर तीन घंटे बाद ही हटाना पड़ा, लेकिन तब तक यह सोशल मीडिया के ज़रिए कई लोगों तक पहुंच गया.

सपा नेताओं को ये पोस्टर तीन घंटे बाद ही हटाना पड़ा, लेकिन तब तक यह सोशल मीडिया के ज़रिए कई लोगों तक पहुंच गया.

ईद (Eid-Ul_Fitr) के मौके पर मुबारकबाद देने के बहाने से ये होर्डिंग लगवाए गए, लेकिन स्थानीय लोगों ने इन पर ऐतराज़ किया तो स्थानीय नेताओं को इस तरह की नेतागिरी करना भारी पड़ गया और ये पोस्टर जलाने पड़े.

  • Share this:

कानपुर. "साथियों इज़रायल आपके रुपयों से ही कमाकर आपके भाइयों पर बम बरसाता है. आप सभी से इल्तिजा है कि इज़रायल के बनाए सभी प्रोडक्ट न खरीदें और न बेचें." यह हम नहीं कह रहे बल्कि ईद के मौके पर शहर में लगे एक होर्डिंग पर यह बात लिखी देखी गई. इस तरह के होर्डिंग्स लगाकर समाजवादी पार्टी के कुछ स्थानीय नेताओं ने इज़रायल और फ़िलिस्तीन के बीच चल रही जंग में अपना विरोध और समर्थन जताने की कोशिश की लेकिन नतीजा कुछ और ही हुआ. लोगों ने इतना विरोध किया कि इन नेताओं को माफी तक मांगनी पड़ी.

फिलिस्तीन के समर्थन और इज़रायल के विरोध में पोस्टरबाज़ी करने वाले इन सपा नेताओं की जानकारी पर पोस्टर से ही सवाल खड़े हो गए. जिस पोस्टर में इज़रायल के प्रोडक्ट्स का बायकॉट करने की बात कही गई थी, उसमें पेप्सी और कोकाकोला समेत कई ब्रांडों के लोगो बनाकर लिखा गया कि इन्हें इस्तेमाल न करें क्योंकि यह इज़रायल बनाता है. जिनका बायकॉट करने को कहा गया, उनमें से ज़्यादातर कंपनियां अमेरिकी और जर्मन हैं.

ये भी पढ़ें : सरकार पर तेजस्वी का निशाना - कहा, "थके नीतीश कुमार से नहीं संभल रहा बिहार"

क्या है पूरा माजरा?
वास्तव में जो पोस्टर लगवाए गए, उनमें वार्ड 73 के पार्षद प्रत्याशी आबिद हसन के साथ ही सपा के नगर अध्यक्ष डॉ. इमरान के फोटो लगे हैं. खबरों की मानें तो इन पोस्टरों को लगवाने के पीछे सपा से जुड़े जफर खान और मुनाफुद्दीन जैसे स्थानीय नेता थे. शुक्रवार की सुबह फिलीस्तीन का समर्थन करने वाले इन पोस्टरों को लेकर जल्द ही बवाल खड़ा हो गया.

kanpur news, uttar pradesh news, uttar pradesh samachar, israel palestine war, कानपुर न्यूज़, उत्तर प्रदेश न्यूज़, इज़रायल फिलीस्तीन युद्ध
पोस्टर में इज़रायल का बायकॉट करने के लिए कई कंपनियों के लोगो छापे गए.

जलाने पड़े पोस्टर और होर्डिंग



एक समुदाय विशेष से 'उसी समुदाय का समर्थन' जुटाने के नाम पर लगवाए गए इन पोस्टरों के खिलाफ उसी समुदाय के लोग सामने आ गए. इस तरह के विवादास्पद पोस्टर लगवाने का विरोध करते हुए लोगों ने कहा कि मोहल्ले की शांति भंग करने की कोशिश ठीक बात नहीं है. कुछ ही घंटों बाद इन पोस्टरों को उतारा गया, जिन्हें बाद में लोगों ने जला दिया.

ये भी पढ़ें : कोरोना के प्रकोप के बीच शादी बनी मातम, दो हफ्तों में दुल्हन का सुहाग उजड़ा

नेताओं को मांगना पड़ी माफी

लोगों के गुस्से के बाद शुरू में होर्डिंग लगवाने वाले स्थानीय नेता किसी तरह का बयान देने से बचते नज़र आए लेकिन बाद में उन्होंने साफ तौर पर कहा कि इस तरह के पोस्टरों से अगर किसी को तकलीफ हुई तो 'हम माफी चाहते हैं. हमारा मकसद किसी का भी दिल दुखाना नहीं था.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज