Home /News /uttar-pradesh /

know inside story of bikaru case after vikas dubey police encounter in kanpur upns

बिकरू कांड: जब आज के दिन पुलिसकर्मियों पर बरसने लगी थीं गोलियां, विकास दुबे की मौत के बाद हुआ क्या एक्शन?

कानपुर देहात जेल में बंद खुशी दुबे की जमानत याचिका हाईकोर्ट से खारिज हो चुकी है.

कानपुर देहात जेल में बंद खुशी दुबे की जमानत याचिका हाईकोर्ट से खारिज हो चुकी है.

कानपुर देहात जेल में बंद खुशी दुबे की जमानत याचिका हाईकोर्ट से खारिज हो चुकी है. खुशी दुबे की जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है. एडीजी भानु भास्कर ने कहा कि बिकरु कांड को लेकर बड़ी कार्रवाई की है. अपराधियों के खिलाफ चार्जशीट लगा दी गई है. उन्होंने बताया कि एनएसए की भी कार्रवाई की गई है. इसी तरह बिकरु कांड के आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई जारी रहेगी.

अधिक पढ़ें ...

कानपुर. आज से ठीक दो साल पहले 2 जुलाई 2020 की आधी रात को गैंगस्टर विकास दुबे और उसके गुर्गों ने डीएसपी समेत 8 पुलिसकर्मियों की गोली मारकर हत्या कर दी थी. कई पुलिसकर्मी घायल भी हुए थे. बिकरू कांड के रूप में इतिहास के पन्नों में दर्ज इस घटना के आज दो साल पूरे हो गए हैं. पुलिस और एसटीएफ ने मिलकर आठ दिन के भीतर विकास दुबे समेत छह बदमाशों को एनकाउंटर में मार गिराया था. बिकरू कांड से जुड़ी सभी घटनाओं में कुल 80 एफआईआर दर्ज की गई थी. इनमें से 45 एफआईआर सिर्फ चौबेपुर थाने में ही दर्ज करवाई गई. पुलिसकर्मियों की हत्या की हत्या के मामले में प्रमुख FIR क्राइम नंबर 192/ 20 थी जिसमें पुलिस ने विकास दुबे और उसके गैंग पर पुलिसकर्मियों की हत्या का मुकदमा दर्ज किया था.

इस मामले में 54 आरोपी अभी भी जेल में बंद हैं. केस का ट्रायल अभी भी जारी है. तत्कालीन चौबेपुर एसओ विनय तिवारी सहित, भीटी प्रधान जिलेदार यादव सहित कई लोग गैंगेस्टर का साथ देने में जेल के सलाखों के पीछे पहुंच चुके है. घटना के बाद 2 जुलाई 2020 की रात को चौबेपुर के जादेपुरधस्सा गांव निवासी राहुल तिवारी ने विकास दुबे व उसके साथियों पर हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कराया था. वारदात के ठीक एक दिन बाद यानी 3 जुलाई की सुबह पुलिस ने विकास के रिश्तेदार प्रेम कुमार पांडेय और अतुल दुबे को एनकाउंटर में मार गिराया था. इसके बाद हमीरपुर में अमर दुबे और इटावा में प्रवीण दुबे को मारा गया.

अतीक अहमद के कब्जे से छुड़ाई गई जमीन पर बन रहे फ्लैट, रजिस्ट्रेशन के लिए उमड़ रही लोगों की भीड़

फिर पुलिस कस्टडी से भागने पर पनकी में प्रभात मिश्रा उर्फ कार्तिकेय मिश्रा ढेर कर दिया गया. 9 जुलाई की सुबह उज्जैन में नाटकीय ढंग से सरेंडर हुए दहशतगर्द विकास दुबे सचेंडी थाना क्षेत्र में भागने के दौरान मारा गया था. यूपी एसटीएफ ने दावा किया था कि गाड़ी पलटने की वजह से विकास पिस्टल लूटकर भागा और गोली चलाई थी. जवाबी कार्रवाई में वो ढेर हो गया था. वहीं, कानपुर देहात जेल में बंद खुशी दुबे की जमानत याचिका हाईकोर्ट से खारिज हो चुकी है. खुशी दुबे की जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है. एडीजी भानु भास्कर ने कहा कि बिकरु कांड को लेकर बड़ी कार्रवाई की है. अपराधियों के खिलाफ चार्जशीट लगा दी गई है. उन्होंने बताया कि एनएसए की भी कार्रवाई की गई है. इसी तरह बिकरु कांड के आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई जारी रहेगी.

Tags: Kanpur news, Kanpur Police, Police Encounters, Up crime news, UP news, UP Police उत्तर प्रदेश, Vikas Dubey, Vikas Dubey Encounter, Yogi government

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर