जमातियों पर विवादित टिप्पणी पड़ी भारी, कानपुर मेडिकल कॉलेज की प्रिंसिपल आरती लालचंदानी का तबादला

प्रिंसिपल प्रो आरती का तबादला (file photo)

प्रिंसिपल प्रो आरती का तबादला (file photo)

वीडियो वायरल (Video Viral) होने के बाद मेडिकल कॉलेज से लेकर प्रशासन और उत्तर प्रदेश शासन के अधिकारियों में हड़कंप मच गया था.

  • Share this:
कानपुर. गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कॉलेज (GSVMC) की प्रिंसिपल प्रोफेसर आरती लालचंदानी (Prof Arti Lal Chandani) का बुधवार देर रात तबादला कर दिया गया. प्रो. आरती लालचंदानी को लखनऊ में महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा, कार्यालय से सम्बद्ध किया गया है. डॉ. आरबी कमल को जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज का कार्यवाहक प्राचार्य बनाया गया है. दरअसल, कुछ दिन पूर्व एक वीडियो वायरल (Viral Video) हुआ था, जिसमें उन्होंने तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) को लेकर विवादित टिप्पणी की थी. वीडियो वायरल होने के बाद मेडिकल कॉलेज से लेकर प्रशासन और उत्तर प्रदेश शासन के अधिकारियों में हड़कंप मच गया था.

बता दें कि वीडियो वायरल होने के बाद प्रिंसिपल के खिलाफ मुस्लिम संगठनों ने मोर्चा खोला, वहीं अधिवक्ता नासिर खान द्वारा डीआईजी को प्रार्थना पत्र दिया गया, जिसमें प्राचार्य के खिलाफ अभियोग पंजीकृत करने अनुरोध किया गया था. डीआईजी ने मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं. वहीं इस मामले को पूर्व सांसद व सीपीआईएम की नेता सुभाषिनी अली ने भी उठाया है और सरकार से प्राचार्य आरती लालचंदानी को निलंबित करने और उनके विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने की मांग की है.

बताया जान को खतरा, मिला था गनर

इस बीच प्रोफेसर आरती लालचंदानी ने डीआईजी अनंत देव तिवारी को प्रार्थना पत्र दिया है, जिसमें उन्हें ब्लैकमेल करने वाले तथाकथित पत्रकारों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने की मांग की है. साथ ही उन्होंने अपनी जान को खतरा बताते हुए गनर (Gunner) की मांग की थी. इस पूरे मामले पर पुलिस उपमहानिरीक्षक ने प्राचार्य की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए गनर मुहैया कराया गया है. पुलिस उपमहानिरीक्षक अनंत देव ने बताया चूंकि प्राचार्य का एक को वीडियो वायरल हुआ है और जब तक जांच पूरी नहीं हो जाती, एक अंगरक्षक उनके साथ सुरक्षा हेतु रहेगा.
ये भी पढे़ं:

अनामिका शुक्ला केस: कासगंज में मास्टरमाइंड का शिक्षक भाई गिरफ्तार, निकला BA फेल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज