बच्ची के साथ गैंगरेप और हत्या: परिजनों ने मानव अंग तस्करी की जताई आशंका, CBI जांच की मांग

कानपुर में 6 साल की बच्ची से गैगरेप और हत्या केस में पुलिस के खुलासे से परिजन संतुष्ट नहीं है.  (सांकेतिक तस्वीर)
कानपुर में 6 साल की बच्ची से गैगरेप और हत्या केस में पुलिस के खुलासे से परिजन संतुष्ट नहीं है. (सांकेतिक तस्वीर)

कानपुर (Kanpur) गैंगरेप और हत्या केस: परिजन पुलिस के खुलासे से संतुष्ट नहीं हैं. उन्होंने इस पूरे मामले में मानव अंग तस्करी की आशंका जाहिर की है और मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 17, 2020, 5:55 PM IST
  • Share this:
कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) के घाटमपुर क्षेत्र में दीपावली की रात कथित रूप से काला जादू (Black Magic) और तंत्र-मंत्र के लिये 6 साल की एक दलित बच्‍ची की हत्‍या से पहले उससे कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म (Gang Rape) भी किया गया था. मामले में मुख्य आरोपी पुरुषोत्तम के अलावा अकुल कुरील (20) और बीरन (31) की गिरफ्तारी की गई. लेकिन परिजन पुलिस के इस खुलासे से संतुष्ट नहीं हैं. उन्होंने इस पूरे मामले में मानव अंग तस्करी की आशंका जाहिर की है और मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है.

इससे पहले अपर पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) बृजेश श्रीवास्तव ने सोमवार को बताया था कि इस वारदात के मामले में पकड़े गए अंकुल कुरील और बीरन ने बताया कि उन्होंने बच्ची से सामूहिक बलात्कार करने के बाद उसकी गला दबाकर हत्या कर दी. हत्या के बाद दोनों आरोपियों ने बच्ची के दोनों फेफड़े निकालकर मुख्य आरोपी पुरुषोत्तम को दिए थे. पुरुषोत्तम को काला जादू करने के लिए इन अंगों की जरूरत थी.

मुख्य आरोपी पुरुषोत्तम गिरफ्तार, पत्नी हिरासत में



उन्होंने बताया कि पुरुषोत्तम को रविवार को ही गिरफ्तार कर लिया गया था, जबकि उसकी पत्नी को वारदात में शामिल होने की आशंका के आधार पर हिरासत में लिया गया है. उन्होंने बताया कि पुरुषोत्तम ने शुरू में पुलिस को भ्रमित करने की कोशिश की, लेकिन सख्ती से पूछताछ करने पर उसने सारा सच उगल दिया और कहा कि उसकी शादी 1999 में हो गई थी, लेकिन अब तक उसकी कोई संतान नहीं है. पुरुषोत्तम ने बताया कि उसे औलाद हासिल करने के लिए काला जादू करने की सलाह दी गई थी, इसके लिए किसी बच्ची के फेफड़ों की जरूरत थी. इसीलिए उसने अपने भतीजे अंकुल और उसके मित्र बीरन को अपनी पड़ोसी की बच्ची अगवा करने के लिए तैयार किया था.
अचानक लापता हुई थी मासूम

पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) डॉ. प्रीतिंदर सिंह ने बताया कि घाटमपुर कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में रहने वाला परिवार शनिवार को दीपावली की पूजा की तैयारी कर रहा था, तभी उनकी 6 वर्षीय बेटी लापता हो गई. उन्होंने बताया कि परिजनों को जब बेटी नहीं दिखी तो उसकी तलाश शुरू हुई और रविवार सुबह मंदिर के पास से गुजर रहे ग्रामीणों ने बच्‍ची का शव देखा.



हाथ और पैर पर लगा मिला रंग

एक अन्‍य अधिकारी ने बताया कि लड़की के शरीर पर लगे चोट के निशान से पता चलता है कि उसकी हत्‍या धारदार हथियार से की गई है. लड़की के हाथ और पैर में रंग लगा था और एक चप्‍पल और कपड़े समेत उसका सामान भी पेड़ के पास से बरामद किया गया है. पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) बृजेश श्रीवास्‍तव ने बताया कि इस सिलसिले में सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है.

मुआवजे का ऐलान

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बच्ची की हत्या की घटना में अपराधियों के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे. राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए उन्हें पांच लाख रुपए की आर्थिक सहायता दिए जाने के निर्देश दिए हैं. योगी ने कहा है कि प्रदेश सरकार प्रकरण की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवायी कराकर अपराधियों को जल्द से जल्द सजा दिलाएगी.

इनपुट: श्याम तिवारी

इनपुट: भाषा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज