होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

कानपुर: सबसे जहरीले मादा सांप रसेल वाइपर के अंडे से निकले 5 संपौले, किये गए संरक्षित

कानपुर: सबसे जहरीले मादा सांप रसेल वाइपर के अंडे से निकले 5 संपौले, किये गए संरक्षित

वन संरक्षक निदेशक केके सिंह ने बताया कि देश के सबसे जहरीले सांपों में शामिल 7 रसेल वाइपर सांप संरक्षित किए गए हैं.

वन संरक्षक निदेशक केके सिंह ने बताया कि देश के सबसे जहरीले सांपों में शामिल 7 रसेल वाइपर सांप संरक्षित किए गए हैं.

Kanpur News: वन संरक्षक निदेशक केके सिंह ने बताया कि देश के सबसे जहरीले सांपों में शामिल 7 रसेल वाइपर सांप संरक्षित किए गए हैं. इनका जहर खून की धमनियों पर प्रभाव डालते हुए सीधे हृदय पर आघात करता है यह सांप चिटक कर काटने से पहले कुकर की सीटी की तरह आवाज करता है.

अधिक पढ़ें ...

कानपुर. देश के सबसे जहरीले सांपों में गिना जाने वाला मादा चीतल यानि रसेल वाइपर ने कानपुर के चिड़ियाघर में अंडे दिए हैं, जिससे एक साथ 5 बच्चों ने जन्म दिया है. अब कानपुर चिड़ियाघर में रसेल वाइपर की संख्या 12 हो गई है. पुराने लोगों यह बातें सुनी गई हैं कि मादा सांप अंडों को देते ही उन्हें खुद निकल जाती है, लेकिन कानपुर के चिड़ियाघर में जिस तरह से चीतल सांप की प्रजाति मादा सांप ने अंडों को दिया और उसके 5 बच्चे हुए इनकी लंबाई 8 से 10 इंच के बीच है, बताया जाता है की शीतल सांप के बच्चे जन्म लेने के 4 घंटे में ही सक्रिय हो जाते हैं.

सात रसेल वाइपर सांप संरक्षित किये गए
सांप के बच्चों और मादा चीतल सांप की निगरानी वन्य जीव चिकित्सा की टीम लगातार कर रही है. वहीं वन संरक्षक निदेशक केके सिंह ने बताया कि देश के सबसे जहरीले सांपों में शामिल सात रसेल वाइपर सांप संरक्षित किए गए हैं. इनका जहर खून की धमनियों पर प्रभाव डालते हुए सीधे हृदय पर आघात करता है. यह सांप चिटक कर काटने से पहले कुकर की सीटी की तरह आवाज करता है.

इसलिए दुर्लभ होता जा रहा है रसेल वाइपर
आमतौर पर यह सांप अब बहुत कम पाए जाते हैं. जंगलों में भले ही इन्हें घातक सांसों में गिना जाता है, लेकिन लगातार इनकी संख्या कम हुई है. इसलिए इन्हें संरक्षित करने का काम किया जा रहा है. वन्यजीव संरक्षक ने कहा कि इन्हें अलग-अलग सुरक्षित रूप से लिया गया है. हमारी टीम पूरा प्रयास कर रही है कि किसी भी हाल में इनमें से किसी को भी कोई खतरा न हो.

Tags: Kanpur Dehat, Kanpur news

अगली ख़बर