सूरत से लौटा शख्स प्रयागराज से पहुंचा कानपुर, न कोई सैंपल ने टेस्ट, खुद ही खेत में हुआ क्वारेंटाइन
Surat News in Hindi

सूरत से लौटा शख्स प्रयागराज से पहुंचा कानपुर, न कोई सैंपल ने टेस्ट, खुद ही खेत में हुआ क्वारेंटाइन
25 मई से कानपुर का सौरभ खुद की कोरोना जांच के इंतजार में है. उसने खेत में ही खुद को मचान बनाकर क्वारेंटाइन किया हआ है.

मुख्य चिकित्सा अधिकारी (CMO) अशोक कुमार शुक्ला ने बताया कि यह मामला उनके संज्ञान में नहीं है और वह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से इसकी रिपोर्ट मंगाते हैं कि आखिर सैंपल क्यों नहीं लिया गया? और उसे क्वॉरेंटाइन क्यों नहीं कराया गया?

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) में चौबेपुर ब्लाक के मोहन नगर गांव के सौरभ कुशवाहा गुजरात (Gujarat) के सूरत (Surat) से श्रमिक एक्सप्रेस (Shramik Express) से वापस लौटे हैं. लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान वह सिलाई कारखाने में काम करते थे, जहां काम बंद हो गया. श्रमिक एक्सप्रेस के माध्यम से वह 25 मई को इलाहाबाद पहुंचे. जहां वह बस और फिर पैदल गांव पहुंचे.

खेत में मचान बनाकर क्वारेंटाइन

जब सौरभ की गांव पहुंचने की सूचना ग्रामीणों में लगी तो वह चर्चा का विषय बन गई कि आखिर बिना स्क्रीनिंग के वह गांव कैसे आ गया? किसी को तकलीफ न हो इसलिए सौरव ने बताया कि उसने अपने घरवालों को फोन करके बताया कि वह गांव आ गया है. मगर घर नहीं आएगा. न तो प्रयागराज में उसका ब्लड सैंपल लिया गया और न ही कानपुर के भौंती पहुंचने पर किसी ने सैंपल लिया. इसके बाद सौरभ ने अपने घर न जाकर अपने खेतों पर खुद मचान बनाकर अपने आपको क्वारेंटाइन कर लिया है.



डॉक्टरों से कहा- ब्लड सैंपल लो, मगर टरकाया



सौरभ ने बताया की पहली रात खेत पर मचान बनाकर गुजारी. जब गांव के स्वास्थ्यकर्मी आशा बहू व जिम्मेदार लोगों ने सुध नहीं ली तो उसने गुरुवार को कल्याणपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जाकर थर्मल स्कैनिंग कराई. शारीरिक ताप सामान्य था तो डॉक्टर ने घर जाकर आराम करने की सलाह दी. सौरभ ने बताया सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर उसने मौजूद चिकित्सक से यह बताया कि वह श्रमिक एक्सप्रेस ट्रेन से आया है और इतना लंबा सफर तय करके आया है इसलिए वह नहीं चाहता कि कहीं उसकी वजह से किसी प्रकार की कोई तकलीफ गांव वालों को हो. उसका ब्लड सैंपल लिया जाए? मगर डॉक्टरों ने उसे वहां से टरका दिया. फिर वह खेत पर पर आया और मचान में जाकर रुक गया.

घरवाले दूर से देते हैं खाना

पिता राम प्रकाश कुशवाहा ने बताया कि गांव में सभी को सौरभ के आने की जानकारी है. स्वास्थ्य विभाग व प्रशासन के जिम्मेदारों ने एक बार भी उनकी सुध लेने तक का प्रयास नहीं किया. यह पूछे जाने पर कि सौरभ को खाना कहां से मिलता है? तो सौरभ के पिता ने बताया कि हम दूर से ही खेत की मोड़ पर खाना रख देते हैं और वह थोड़ी देर बाद आकर उसे खुद ले जाता है.

सीएमओ ने तलब की रिपोर्ट

वहीं मुख्य चिकित्सा अधिकारी अशोक कुमार शुक्ला ने बताया कि यह मामला उनके संज्ञान में नहीं है और वह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से इसकी रिपोर्ट मंगाते हैं कि आखिर सैंपल क्यों नहीं लिया गया? और उसे क्वॉरेंटाइन क्यों नहीं कराया गया?

ये भी पढ़ें:

इच्छुक प्रवासी श्रमिकों के UP लौटने तक जारी रहेगी नि:शुल्क ट्रेनें: सीएम योगी

1 जून से लखनऊ, वाराणसी सहित इन शहरों के यात्रियों को मिलेगी ट्रेनों की सुविधा
First published: May 29, 2020, 3:11 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading