• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • गन्ना मंत्री बोले, किसानों  से वार्ता के लिए हमेशा तैयार हैं पीएम

गन्ना मंत्री बोले, किसानों  से वार्ता के लिए हमेशा तैयार हैं पीएम

राष्ट्रीय

राष्ट्रीय शर्करा संस्थान में कार्यक्रम को संबोधित करते गन्ना मंत्री सुरेश राणा

कार्यक्रम में गन्ना विकास एवं शर्करा उद्योग मंत्री सुरेश राणा ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की. इस दौरान उन्होंने शर्करा उद्योग को आवश्यक प्रतिस्पर्धी तकनीक व मानव संसाधन उपलब्ध कराने के लिए संस्थान की सराहना की. वहीं, किसानों की आय दोगुनी करने के सरकार के संकल्प को दोहरते हुए कहा कि पिछली सरकारों में जहां गन्ना किसानों को 18 हज़ार करोड़ भुग्तान किया था, वहीं केंद्र की मोदी व प्रदेश की योगी सरकार में उन्हें 36 हज़ार करोड़ का भुग्तान किया है.

  • Share this:

    कानपुर के राष्ट्रीय शर्करा संस्थान में आजादी के अमृत महोत्सव और शिक्षक दिवस के कार्यक्रम का आयोजन किया गया. कार्यक्रम में गन्ना विकास एवं शर्करा उद्योग मंत्री सुरेश राणा ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की.  इस दौरान उन्होंने शर्करा उद्योग को आवश्यक प्रतिस्पर्धी तकनीक व मानव संसाधन उपलब्ध कराने के लिए संस्थान की सराहना की. वहीं, किसानों की आय दोगुनी करने के सरकार के संकल्प को दोहरते हुए कहा कि पिछली सरकारों में जहां गन्ना किसानों को 18 हज़ार करोड़ भुग्तान किया था, वहीं केंद्र की मोदी व प्रदेश की योगी सरकार में उन्हें 36 हज़ार करोड़ का भुग्तान किया है. इसके अलावा का बातचीत के ज़रिये किसान आंदोलन का हल निकालने की भी उन्होंने वकालत की और कहा कि पीएम हमेशा किसानों से बातचीत को तैयार है.

    45 मीट्रिक टन बढ़ा शक्कर का उत्पादन
    किसानों के हितैषी बने राजनीतिक दलों को बेनक़ाब करते हुए उन्होंने कहा कि  पिछली सरकारों में प्रदेश की 30 गन्ना मिले बन्द हो गई, जबकि 21 मिले बिक गई, लेकिन योगी सरकार में मिल बिकना तो दूर रहा, उल्टा उत्पादन क्षमता बढ़ गई है. कैबिनेट मंत्री ने बताया कि  पहले 80 लाख मीट्रिक टन शक्कर का उत्पादन था जो सूबे में योगी सरकार बनने को बाद 125 लाख मीट्रिक टन हो गया. हम शक्कर उत्पादन में आत्मनिर्भर हो चुके है.
    किसानों से सिर्फ़ एक फोन काॅल की दूरी पर है पीएम
    किसानों की महापंचायत पर को लेकर नरम रुख़ अपनाते हुए उन्होंने कहा कि अपनी बात कहने का सबको अधिकार है. कृषि मंत्री ने बारह बार किसान संगठनों से बात की है. पीएम मोदी भी उनसे सिर्फ एक फोन कॉल की दूरी पर है. वहीं, गृहमंत्री भी सभी किसान संगठनों को बुलाकर उनसे बातचीत कर समाधान निकालने का प्रयास कर चुके हैं. किसान संगठनों के पास यदि कोई फॉर्मूला है या सुझाव है जिससे उनकी आय में वृद्धि हो सकती है तो पीएम मोदी की तरफ से वे वार्ता के लिए हमेशा आमंत्रित है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज