Home /News /uttar-pradesh /

वकील और पुलिस से परेशान परिवार ने खाया जहर

वकील और पुलिस से परेशान परिवार ने खाया जहर

उत्तर प्रदेश में बेहतर कानून व्यवस्था का दंभ भरने वाली अखिलेश सरकार यह खबर पढ़ने के बाद खुद महसूस करेगी की उसके राज में कानपुर के रखवाले ही आम जनता के सबसे बड़े दुश्मन बन बैठे है. कानपुर में प्रॉपर्टी डीलर दम्पति ने पहले तो अपने बेटे और बहन को जहरीला पदार्थ खिलाया फिर स्वयं भी जहरीला पदार्थ खा कर जान देने की कोशिश की.

उत्तर प्रदेश में बेहतर कानून व्यवस्था का दंभ भरने वाली अखिलेश सरकार यह खबर पढ़ने के बाद खुद महसूस करेगी की उसके राज में कानपुर के रखवाले ही आम जनता के सबसे बड़े दुश्मन बन बैठे है. कानपुर में प्रॉपर्टी डीलर दम्पति ने पहले तो अपने बेटे और बहन को जहरीला पदार्थ खिलाया फिर स्वयं भी जहरीला पदार्थ खा कर जान देने की कोशिश की.

उत्तर प्रदेश में बेहतर कानून व्यवस्था का दंभ भरने वाली अखिलेश सरकार यह खबर पढ़ने के बाद खुद महसूस करेगी की उसके राज में कानपुर के रखवाले ही आम जनता के सबसे बड़े दुश्मन बन बैठे है. कानपुर में प्रॉपर्टी डीलर दम्पति ने पहले तो अपने बेटे और बहन को जहरीला पदार्थ खिलाया फिर स्वयं भी जहरीला पदार्थ खा कर जान देने की कोशिश की.

अधिक पढ़ें ...
    उत्तर प्रदेश में बेहतर कानून व्यवस्था का दंभ भरने वाली अखिलेश सरकार यह खबर पढ़ने के बाद खुद महसूस करेगी की उसके राज में कानपुर के रखवाले ही आम जनता के सबसे बड़े दुश्मन बन बैठे है. कानपुर में प्रॉपर्टी डीलर दम्पति ने पहले तो अपने बेटे और बहन को जहरीला पदार्थ खिलाया फिर स्वयं भी जहरीला पदार्थ खा कर जान देने की कोशिश की.

    यह सब इस गुप्ता दम्पति  को इसलिए करना पड़ा क्योंकि उसे एक वकील प्रताड़ित कर रहा था और जब वह इसकी शिकायत थाने से लेकर  सबसे बड़े पुलिस अधिकारी आईजी जोन  से करता है तो भी उसकी मदद पुलिस नहीं करती. जिसके बाद धमकियों से तंग आकर इस दम्पत्ती ने जहर खा कर जान देने की कोशिश की.

    कानपुर के पौराणिक नगरी कही जाने वाली बिठूर थाना छेत्र के बैकुंठपुर इलाके में रहने वाले वकील सतेंद्र त्रिवेदी और वकील प्रभात कुमार श्रीवास्तव ने प्रॉपर्टी का कारोबार करने वाले चंद्रकांत गुप्ता से जबरन 41 हज़ार रूपए ले लिए और 2 लाख 71 हज़ार रूपए  की चेक वकील प्रभात कुमार के नाम से जबरन ले ली. जब इस पूरी घटना की जानकारी प्रॉपर्टी कारोबारी चंद्रकांत ने शिकायत के रूप में पुलिस से की तो थाने की पुलिस ने उसे टरका दिया. आहात हुए चंद्रकांत ने बड़ी उम्मीद से कानपुर ज़ोन के आईजी आशुतोष पाण्डेय से शिकायत की. लेकिन वहां से भी सिर्फ दिलासा मिला. पुलिस के चक्कर लगाने की जानकारी जैसे ही दबंग वकीलों को मिलो तो उन्होंने कई बार फोन करके चंद्रकांत को जान से मार देने की धमकियां भी दी.

    डरे सहमे चंद्रकांत को अब न्याय की आस नहीं रही और उसने पहले तो अपने बेटे और बहन को जहरीला पदार्थ खिलाया फिर स्वयं अपनी पत्नी के साथ जहरीला पदार्थ खा लिया. बच्चों को तो घर पर ही वोमेटिंग हो गई जिसकी वजह से वह खतरे के बाहर हो गए और उनका इलाज उनके घर पर ही हो रहा है. वहीं दुसरी तरफ देर रात तकरीबन 2 बजे चंद्रकांत और उसकी पत्नी अमिता को कल्याणपुर थाना छेत्र के रक्षा हॉस्पिटल लाया गया जहां पर उनका उपचार अभी भी जारी है. उपचार के ही दौरान डाक्टरों को चंद्रकांत के पास से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है, जिसमे साफ़ साफ़ लिखा है कि किस तरह से कानून की पैरोकारों ने उसका उत्पीड़न किया और उससे परेशान होकर उसे यह कदम उठाना पड़ा.

    हालांकि अब जब यह पूरा मामला मीडिया के सामने आ चुका है तो पुलिस भी मामले की जांच कर कार्रवाई  की बात दबी जुबान से कह रही है.

    आपके शहर से (कानपुर)

    कानपुर
    कानपुर

    Tags: Kanpur city news, कानपुर

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर