होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

कानपुर में निकाली गई शी जिनपिंग की शव यात्रा, चप्पलों से पीटकर गंदे नाले में फेंका पुतला

कानपुर में निकाली गई शी जिनपिंग की शव यात्रा, चप्पलों से पीटकर गंदे नाले में फेंका पुतला

कानपुर में निकाली गई शी जिनपिंग की शव यात्रा

कानपुर में निकाली गई शी जिनपिंग की शव यात्रा

गौरतलब है कि बीते सोमवार की रात भारत (India) और चीन (China) के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हो गई थी. इस घटना में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे.

कानपुर. भारत और चीन की सीमा पर बढ़ते विवाद के बाद अलग-अलग शहरों से लोग अपने तरीके से नाराजगी जाहिर कर रहे हैं. इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) में लोगों ने चीन का विरोध करते हुए प्रतीकात्मक तौर पर वहां के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की शव यात्रा निकाली. यहां के लोगों का कहना है कि गलवान घाटी में भारत-चीन के बीच हुई झड़प में 20 भारतीय सैनिकों की जान चली गई, इसके विरोध में यह शव यात्रा निकाली जा रही है. इस दौरान लोगों ने चीन के राष्ट्रपति का प्रतीकात्मक शव यात्रा में एक दर्जन से ज्यादा मोहल्लों से होता हुए गोविंद नगर गंदा नाला पर जाकर उसे नाली में फेंक दिया.

पूरे रास्ते भर युवाओं ने शव यात्रा में चीन के राष्ट्रपति के पुतले को चप्पलों से पीटा और अपना विरोध दर्ज कराया. चीन द्वारा लद्दाख की सीमा पर भारतीय सैनिकों पर कायरता का परिचय देते हुए हमला कर दिया जिसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए. उसके बाद से चाइनीस उत्पाद के विरोध की श्रंखला शुरू हुई.  कानपुर शहर के एक दर्जन स्थानों पर लोगों ने टीवी, वीसीआर, चाइनीस खिलौने, टेडी बेयर और मोबाइलों को आग के हवाले किया.

ये भी पढ़ें: Made In China के खिलाफ यूपी पुलिस का बड़ा कदम, मोबाइल से 'Remove China apps' का दिया आदेश

व्यापार मंडल के चेयरमैन राघवेंद्र गुप्ता ने यह अपील करते हुए कहा कि  चीन द्वारा निर्मित किसी भी उत्पाद को ना खरीदा जाए न बेचा जाये. गौरतलब है कि बीते सोमवार की रात भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हो गई थी. इस घटना में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे. जबकि चीन के कम से कम 43 जवान मारे या घायल होने की सूचना है.

ये भी देखें:

आपके शहर से (कानपुर)

कानपुर
कानपुर

Tags: CM Yogi, India China Border Tension, Kanpur city news, Kanpur news, Pm narendra modi, Up crime news, Up news in hindi, UP police, Xi jinping, Yogi adityanath

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर