अपना शहर चुनें

States

ओवैसी और छोटे दलों के एक होने से भाजपा को यूपी में कोई नुकसान नहीं: राधा मोहन सिंह

भाजपा पंचायत चुनाव में पूरी दमदारी से लगी हुई है.
भाजपा पंचायत चुनाव में पूरी दमदारी से लगी हुई है.

पंचायत चुनाव की तैयारियों को लेकर पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच पहुंचे राधामोहन सिंह (Radha Mohan Singh) ने पत्रकारों से बात की. उन्होंने असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi)और छोटे छोटे दलों से भाजपा को कोई नुकसान नहीं होने की बात कही. साथ ही राहुल और अखिलेश के ट्वीट पर भी तंज कसा है.

  • Share this:
चंदौली. हाल ही में उत्तर प्रदेश के प्रभारी बनाए गए भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राधा मोहन सिंह (Radha Mohan Singh) ने यूपी में ओवैसी की एंट्री पर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) के आने और छोटे-छोटे दलों के गठबंधन से भारतीय जनता पार्टी पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा, क्योंकि भारतीय जनता पार्टी की जड़ें उत्तर प्रदेश में काफी मजबूत हैं. पार्टी एक विशाल वटवृक्ष की तरह हो गई है. यह बात राधा मोहन सिंह ने पंचायत चुनाव के मद्देनजर पार्टी की समन्वय समितियों और पार्टी पदाधिकारियों से बैठक लेने के बाद चंदौली में कही.

राधामोहन सिंह ने राहुल गांधी के ट्वीट 'मोदी पूंजी पतियों का साथ छोड़ने और किसानों के साथ आएं' के जवाब में राहुल गांधी पर सीधे-सीधे तो कोई टिप्पणी नहीं की, लेकिन इतना जरूर कहा कि देश के कई नेता खोखले वादे करते हैं. पिछले चुनावों ने यह साबित किया है कि इनके वादों और नारों को जनता रिजेक्ट कर चुकी है. आज जनता पीएम मोदी के साथ है.

अखिलेश यादव के ट्वीट 'क से किसान,ख से खेती और ग से गई भाजपा' पर राधामोहन सिंह ने कहा कि इसका जबाब उपचुनाव में यूपी की जनता ने उनको दिया है. साथ ही साथ अखिलेश यादव के कामदगिरि यात्रा पर भी उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि भगवान उनको सद्बुद्धि दे.



गांव को मजबूत करने के लिए कुशल नेतृत्व की जरूरत
यूपी पंचायत चुनाव की तैयारियों को लेकर पार्टी पदाधिकारियों की बैठक लेने चंदौली आये राधा मोहन सिंह ने कहा कि मोदी सरकार आने के बाद गांव के विकास के लिए भारी धनराशि दी गई है. गांव को मजबूत करने के लिए कुशल नेतृत्व की जरूरत है. प्रयास किया जा रहा है कि गांव में भी कुशल नेतृत्व मिले और गांव का विकास हो सके. इस दौरान भाजपा के यूपी प्रभारी ने पंचायत चुनाव को लेकर पार्टी पदाधिकारियों से लंबी वार्ता की. ग्रामीण इकाइयों तक भाजपा संगठन की ओर से पंचायत चुनाव की तैयारी पर फीडबैक भी ली.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज