Kanpur news

कानपुर

अपना जिला चुनें

कानपुर अपहरण और हत्याकांड: संजीत की बहन बोली-लाश ही तलाश दो, एक बार राखी तो बांध लूं...

एक बार राखी तो बांध लूं...

एक बार राखी तो बांध लूं...

एसएसपी दिनेश कुमार (SSP Kanpur Dinesh Kumar) ने बताया कि बर्रा थाना पर 23 जून को शिकायत दर्ज हुई थी, जिसे 26 को एफआईआर दर्ज की गई थी.

SHARE THIS:
कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur)  के संजीत यादव (Sanjeet Yadav) की हत्या (Murder) के बाद उसके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है. संजीत की बहन रुचि बार-बार कह रही थी कि मेरा भाई बुजुर्ग माता-पिता का एक मात्र सहारा था. अब हम सब कैसे जिएंगे. पुलिस से गुहार लगाते हुए बहन रुचि ने कहा कि वह जिस हाल में है उसे एक बार सामने तो लाओ कुछ दिन बाद राखी है. लाश ही तलाश दो, कम से कम एक बार राखी तो बांध लूं.

इन 4 पुलिस अफसरों पर गिरी गाज

सीएम के निर्देश के बाद शासन से मिली जानकारी के अनुसार जनहित में अपर पुलिस अधीक्षक, दक्षिणी कानपुर नगर, आईपीएस अपर्णा गुप्ता  और मनोज गुप्ता तत्कालीन सीओ को निलंबित कर दिया गया है. इसके अलावा लापरवाही बरतने के आरोप में पूर्व प्रभारी निरीक्षक थाना बर्रा रणजीत राय और चौकी इंचार्ज राजेश कुमार को निलंबित कर दिया गया है.

बता दें कानपुर के बर्रा से अपहृत लैब टेक्नीशियन संजीत यादव के अपहरण मामले में गुरुवार देर रात बुरी खबर आई है. पुलिस के अनुसार युवक की हत्या की जा चुकी है. पुलिस अभी भी युवक की लाश की बरामदगी नहीं कर सकी है, तलाश जारी है. उधर युवक की मौत की सूचना के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है. पुलिस ने मामले में 5 लोगों को हिरासत में लिया है.

बता दें एक महीने से अपहरण के इस मामले में कानपुर पुलिस की लापरवाही भी सामने आई है. इस किडनैपिंग केस में पुलिस पर आरोप भी लगे हैं कि उसने अपहृत युवक के परिजनों से अपहरणकर्ताओं को 30 लाख रुपए भी दिलवा दिए.



26 या 27 जून को ही हत्या: एसएसपी

एसएसपी दिनेश कुमार (SSP Kanpur Dinesh Kumar) ने बताया कि बर्रा थाना पर 23 जून को शिकायत दर्ज हुई थी, जिसे 26 को एफआईआर दर्ज की गई थी. 29 जून को फिरौती का कॉल आया. इसे लेकर क्राइम ब्रांच और सर्विलांस सेल की टीम गठित की गई. इस टीम ने कुछ लोगों को हिरासत में लिया है. इसमें उसके कुछ दोस्त और संजीत के साथ अन्य पैथोलॉजी में काम कर चुके लोग शामिल हैं. इनके द्वारा कबूला गया है कि संजीत की इन्होंने 26 या 27 जून को ही हत्या कर दी थी और पांडु नदी में शव को बहा दिया. अलग-अलग टीम गठित करके शव की तलाश की जा रही है. वहीं मोबाइल और मोटरसाइिकल की बरामदगी के लिए भी जानकारी की जा रही है.

बता दें कि एक सप्ताह पहले पुलिस की आंखों के सामने अपहरणकर्ता रुपयों से भरा बैग लेकर फरार हो गए और पुलिस हाथ मलती रह गई, जिसके बाद एसएसपी कानपुर ने पीड़ित परिवार से मिलकर 4 दिन के भीतर युवक की बरामदगी का भरोसा दिया था. यह अवधि भी बीत गई लेकिन इसमें पूरी तरह फेल रही.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

दूसरी डोज लगवाने के लिए परेशान हो रहे है कनपुरिये 

कानपुर शहर में अब तक करीब 5 लाख लोगों को लग पाई हैं वैक्सीन की दोनो डोज

सरकार द्वारा चलाए जा रहे मेगा वैक्सीनेशन अभियान के अंतर्गत रोजाना हजारों लोगों को कोरोनारोधी वैक्सीन की डोज लगा रही है, लेकिन सरकारी आकड़ों को ही देखा जाए तो अब तक शहर की आधी आबादी का वैक्सीनेशन नहीं हो पाया है. सरकार द्वारा किये जा रहे दावों के मुताबिक दिसंबर तक शहर का हर एक व्यक्ति को वैक्सीन लग जाएगी.

SHARE THIS:

10 साल पहले हुई जनगणना के मुताबिक शहर की आबादी करीब 52 लाख थी, जानकारों की मानें 10 सालों में कानपुर की आबादी में काफी इजाफा हुआ है. अब शहर की आबादी लगभग 68 से 70 लाख के आसपास पहुंच गई है. सरकार द्वारा चलाए जा रहे मेगा वैक्सीनेशन अभियान के अंतर्गत  रोजाना हजारों लोगों को कोरोनारोधी वैक्सीन की डोज लगा रही है, लेकिन सरकारी आकड़ों को ही देखा जाए तो अब तक  शहर की आधी आबादी का  वैक्सीनेशन नहीं हो पाया है. सरकार द्वारा किये जा रहे दावों के मुताबिक दिसंबर तक शहर का हर एक व्यक्ति को वैक्सीन लग जाएगी.

सरकारी आकड़े ही खोल रहे खोखले दावों की पोल 
स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक कानपुर नगर में 16 जनवरी से शुरू हुए अभियान में 18 सितम्बर तक सिर्फ 1672721 लोगों को पहली डोज लगी है. वहीं, दूसरी डोज के आकड़े तो और भी अधिक चौकाने वाले है. अब तक शहर में 18 सितम्बर तक सिर्फ 495143 लोगों को ही दूसरी डोज लगी है. इन आकड़ों के हिसाब से सरकार के सारे दावे खोखले साबित होते दिख रहे है. 70 लाख की आबादी वाले शहर में सिर्फ 495143 लोगों का ही वैक्सीनेशन पूरा हो पाया है.
दोबारा देखने को मिल सकता है दूसरी लहर जैसा मंजर 
जानकारों की मानें तो अगर कोरोना की संभावित तीसरी लहर ने शहर में दस्तक दे दी तो दूसरी लहर जैसा मंजर एक बार देखने को मिल सकता है. दरअसल, कोरोनारोधी वैक्सीन लगने के कुछ दिन तक व्यक्ति के शरीर का इम्युनिटी सिस्टम थोड़ा वीक रहता है, ऐसे में अगर तीसरी लहर आती है तो शहर में खतरा बढ़ सकता है.
दूसरी डोज के लिए यहां-वहां भटक रहे लोग
शहर में दूसरी डोज लगवाने वाले लोगों को एक वैक्सीनेशन सेंटर से दूसरे में दौड़ लगानी पड़ रही है. कृष्णा नगर की रहने वाली प्रतिमा पांडेय और उनके बेटे को वैक्सीन की दूसरी डोज लगनी थी. उनका कहना था कि जो सेंटर पहले उन्हें एलॉट हुआ वहां जब हम अपने नियत समय पर पहुंचे तो वहां वैक्सीन खत्म हो गयी, इसके बाद जब हमने अगले दिन वैक्सीन स्लॉट दोबारा बुक किया तो कल्याणपुर का सेंटर मिला, जोकि हमारे घर से करीब 45 किलोमीटर दूर है, वहां पर भी गए तो वैक्सीन नहीं लगी. ऐसा सिर्फ इनके साथ नहीं शहर के ज्यादातर लोगों के साथ हो रहा है.

न्यूज 18 लोकल के लिए आलोक तिवारी की रिपोर्ट

कानपुर में डेंगू का कहर, सीएमओ आफिस के बाहर जल जमाव

सीएमओ आफिस के बाहर जमा गंदा पानी

कानपुर के कांशीराम अस्पताल परिसर में मौजूद मुख्य चिकित्सा अधिकारी दफ्तर के सामने ही बारिश व सीवर लाइन ब्लॉक होने से गंदा पानी जमा है. लोगों के घर-घर जाकर डेंगू के लार्वा ढूंढने वाले स्वास्थ्य विभाग को अपने मुखिया के आफिस के बाहर के हालात ही नजर नहीं आ रहे हैं. ब्लॉक लाइन को खोलने के लिए फाइल मेयर, डीएम और कमिश्नर के दफ्तर में घूम रही है.

SHARE THIS:

सीएमओ आफिस के बाहर की तस्वीर देखकर यह अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि सरकारी अफसर संक्रामक बीमारियों से निपटने के लिए कितने संजीदा हैं. कानपुर के कांशीराम अस्पताल परिसर में मौजूद मुख्य चिकित्सा अधिकारी  दफ्तर के सामने ही बारिश व सीवर लाइन ब्लॉक होने से गंदा पानी जमा है. लोगों के घर-घर जाकर डेंगू के लार्वा ढूंढने वाले स्वास्थ्य विभाग को अपने मुखिया के आफिस के बाहर के हालात ही नजर नहीं आ रहे हैं. ब्लॉक लाइन को खोलने के लिए फाइल मेयर, डीएम और कमिश्नर के दफ्तर में घूम रही है.
कई दिनों से हालात हैं खराब
पिछले दो महीनों से सीएमओ आफिस के बाहर यही हालात हैं. पूरे महानगर में संक्रामक बीमारियों पर लगाम लगाने की जिम्मेदारी जिस स्वास्थ्य महकमे पर है, वह खुद अपने कार्यालय के सामने फैली गंदगी की सफाई नहीं करा पा रहा है. कई विभागों के चक्कर में नाले की सफाई नहीं हो रही है. जिसके चलते यहां बारिश व सीवेज का पानी भरा हुआ है. मुख्य चिकित्सा अधिकारी नेपाल सिंह का कहना है कि अधिकारियों से बात की गई है, उन्होंने सफाई का आश्वासन दिया है. उनके मुताबिक़ सीवेज की सफाई में कम से कम 10 से 15 दिन का समय और लग सकता है. सीएमओ का कहना है कि डेंगू का मच्छर गंदे पानी में नहीं पनपता है. रोजाना इस पानी में एंटी लार्वा का छिड़काव किया जाता है.

प्रशासन के अधिकारियों ने किया था हाल ही में यहां का दौरा
आपको बता दें जब से शहर में वायरल बुखार और डेंगू से लोगों की मौतें होना शुरू हुई है. तब से लेकर अब तक हर बड़ा अधिकारी सीडीओ, डीएम, कमिश्नर, महापौर सब ने इस ट्रामा सेंटर का दौरा किया, लेकिन फिर भी यहां की फाइलें अलग अलग विभागों के चक्कर लगा रही है. इन यहां पर भर्ती मरीजों का भी ख्याल नहीं आया.
न्यूज 18 लोकल के लिए आलोक तिवारी की रिपोर्ट

आज़ादी के अमृत महोत्सव के तहत कानपुर से रवाना हुई सीआईएसएफ की साइकिल रैली 

कानपुर के नाना राव पार्क से सीआईएसएफ की साइकिल रैली को रवाना करते सतीश महाना

प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश बहाना ने इसे हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. इस दौरान महापौर प्रमिला पांडेय, बिठूर विधायक अभिजीत सिंह सांगा व मंडलायुक्त राजशेखर भी मौजूद रहे.

SHARE THIS:

आज़ादी की 75 वीं वर्षगाँठ के उपलक्ष्य में मनाए जा रहे अमृत महोत्सव के तहत कानपुर के नानाराव पार्क से सीआईएसएफ़ की एक साइकिल रैली राजघाट के लिए आज रवाना की हुई. प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश बहाना ने इसे हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. इस दौरान महापौर प्रमिला पांडेय, बिठूर विधायक अभिजीत सिंह सांगा व मंडलायुक्त राजशेखर भी मौजूद रहे. देश के दस शहरों से यह साइकिल रैली को रवाना किया गया है. जो दो अक्टूबर को गांधी जयंती के दिन बापू की समाधि स्थल राजघाट पहुंचेगी.

प्रतिदिन 50 किमी साइकिल चलाएंगे सीआईएसएफ के दस जवान
सीआईएसएफ़ के उत्तर क्षेत्र से दस जवानों को कानपुर के नानाराव पार्क से मंगलवार को साइकिल से दिल्ली से रवाना किया गया है. यह जवान लगातार 11 दिनों तक साइकिल चलाकर कन्नौज व अलीगढ़ होते हुए पहले ग़ाज़ियाबाद के सीआईएसएफ़ केंद्र पहुंचेगे.वहां एक दिन आराम करने के बाद दिल्ली रवाना होंगे. साइकिल से रवाना हुए जवानों ने बताया कि उन्होंने प्रतिदिन क़रीब 50 किमी साइकिल चलाने का लक्ष्य रखा है. इसके लिए वह काफ़ी दिनों से तैयारियां कर रहे थे.

रात्रि विश्राम के समय लोगों के बताएंगे आज़ादी के मायने
सीआईएसएफ़ के उत्तरी क्षेत्र के उपमहानिरीक्षक प्रबोध चंद्रा ने बताया कि कानपुर से साइकिल लेकर रवाना हुए जवानों के पिछले एक माह से विशेष ट्रेनिंग दी जा रही थी. यह सभी जवान पूरी तरह फिजकली फ़िट है. उन्होंने बताया कि यह जवान दिन में साइकिलिंग करके अपनी मंज़िल की तरफ़ बढ़ेंगे. वहीं, रात्रि में विश्राम करेंगे. रात्रि विश्राम के दौरान वह आसापास के लोगों को आज़ादी के असल मायने व आजादी की लड़ाई में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के योगदान के बारे में बताएंगे.
न्यूज 18 लोकल के लिए आलोक तिवारी की रिपोर्ट

मेगा लेदर क्लस्टर को कानपुर के चमड़ा व्यापारी बता रहे सभी समस्याओं का समाधान

50 फीसद उत्पादन क्षमता के साथ कानपुर की टेनरियों में हो रहा उत्पादन

उपायुक्त उद्योग सुधीर श्रीवास्तव ने बताया कि कानपुर में लेदर उद्योग को एक ज़िले एक उत्पाद के तहत चयनित किया गया है. ज़िले के रमईपुर इलाक़े में क़रीब 68 एकड़ भूमि पर मेगा लेदर क्लस्टर का विकास किया जाएगा. इसकी लागत क़रीब 200 करोड़ होगी.

SHARE THIS:

चमड़ा नगरी के नाम से मशहूर उत्तर प्रदेश के कानपुर में चर्म उद्योग पर पिछले कुछ दिन से संकट के बादल छाए हैं. लेकिन, कानपुर के रमईपुर क्षेत्र में मेगा लेदर क्लस्टर बनने से कानपुर के चमड़ा उद्यमियों को खासा उम्मीदें है. उनका मानना है कि मेगा लेदर क्लस्टर बनने के बाद लेदर उद्योग के पुराने दिन वापस आने वाले हैं. यहां उन्हें सभी मूलभूत सुविधाएं एक साथ मिलेगी. जिससे कानपुर में लेदर उद्योग को एक बार फिर विकास के पंख लगेंगे.

68 एकड़ भूमि में बनेगा मेगा क्लस्टर
उपायुक्त उद्योग सुधीर श्रीवास्तव ने बताया कि कानपुर में लेदर उद्योग को एक ज़िले एक उत्पाद के तहत चयनित किया गया है. ज़िले के रमईपुर इलाक़े में क़रीब 68 एकड़ भूमि पर मेगा लेदर क्लस्टर का विकास किया जाएगा. इसकी लागत क़रीब 200 करोड़ होगी. इसके लिए कुछ ज़मीन किसानों से कुछ ज़मीन उत्तर प्रदेश औद्योगिक विकास प्राधिकरण से अधिगृहीत कर ली गई है. उन्होंने बताया कि जाज़मऊ में जो टेनरियां है, उनसे गंगा नदी व पर्यावरण में काफ़ी प्रदूषण हो रहा है. इसे देते हुए मेगा क्लस्टर को ग्रीनफील्ड की अवधारणा के तहत विकसित किया जाएगा. यहां से निकलने वाले सभी तरही के वेस्ट को शोधित किया जाएगा.

कामन फ़ैसिलिटी सेंटर से छोटे उद्यमियों को मिलेगी रफ़्तार
 टेनरी मालिक अशरफ़ रिज़वान के मुताबिक मेगा लेदर क्लस्टर उद्यमियों की समस्याओं के समाधान की चाबी है. यहां पर एक ही जगह पर लेदर उद्योग के लिए ज़रूरी मूलभूत सुविधाएं मौजूद होंगी. यहां पर एक स्किल डेवलेपमेंट सेंटर बनाया जाएगा. जिसमें कुशल श्रमिकों को तैयार किए जाएंगे. उन्होंने बताया कि किसी भी उद्योग को चलाने में कुशल कारीगर अहम रोल निभाते हैं. इसके अलावा यहां कामन फ़ैसिलिटी सेंटर स्थापित किया जाएगा. जिसमें लेदर उद्योग से संबंधित हरेक मशाीनरी मौजूद होगी. इससे छोटे उद्यमियों को अपने उत्पाद तैयार करने में काफ़ी सुविधा होगी. अभी तक उन्हें अपने उत्पाद तैयार करने के लिए कई लोगों से कांटैक्ट करना पड़ता है. इसके अलावा समय से डिलीवरी मिलने में भी काफ़ी परेशानी होती है.
50 फ़ीसद क्षमता के साथ हो रहा संचलान
रिज़वान ने बताया कि फ़िलहाल 50 फ़ीसद क्षमता के साथ ही टेनियों में गीला व सूखा काम हो रहा है. इसके पीछे की वजह कोविड प्रटोकाल के साथ-साथ सीमित शोधन क्षमता है. उन्होंने पिछली सरकारों को इसके लिए ज़िम्मेदार बताते हुए कहा कि शोधन क्षमता की ओर गौर किए बग़ैर लोगों को टेनरियों के संचालन के लाइसेंस बांट दिए गए. जिसका ख़ामियाज़ा आज भुगतना पड़ रहा है. उन्होंने मेगा लेदर क्लस्टर को चमड़ा उद्योग की उम्मीदों का क्लस्टर बताते हुए कहा कि एक बार फिर चर्म उद्योग पटरी पर लौट सकता है.
न्यूज 18 लोकल के लिए आलोक तिवारी की रिपोर्ट

कानपुर में डेंगू और बुखार से मौतों का ऑडिट करेगी टीम, 136 पहुंचा मरीजों का आंकड़ा

 Kanpur: डेंगू वायरल बुखार की रोकथाम और समय से उपचार सुनिश्चित कराने का आदेश

Viral Fever And Dengu in Kanpur: प्रशासन ने कानपुर के कुरसोली गांव में बुखार और डेंगू से हुई मौतों का आडिट कराने का फैसला किया है. शहर में 27 और ग्रामीण क्षेत्र के 109 डेंगू पीड़ित हैं.

SHARE THIS:

कानपुर. कानपुर के कुरसोली गांव में बुखार और डेंगू से हुई मौतों की ऑडिट कराई जाएगी. इसकी जिम्मेदारी मंडल आयुक्त डॉ राजशेखर ने अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण एवं सीएमओ को दी है. साथ ही गांव में डेंगू या बुखार के फैलने, मौतों की वजह आदि का अध्ययन करने के लिए उन्होंने जीएस में मेडिकल कॉलेज के विशेषज्ञ चिकित्सकों की एक समिति भी गठित की गई है. मंडल आयुक्त डॉ. राजशेखर ने खुद गांव का निरीक्षण किया और पीड़ितों के परिजनों से मिले. उन्होंने डेंगू, वायरल बुखार की रोकथाम और समय से उपचार सुनिश्चित कराने का आदेश भी दिया.

सीएमओ ने उन्हें बताया कि गांव में डेंगू से अब तक किसी की मौत नहीं हुई है, लेकिन 2 माह में बुखार व विभिन्न बीमारियों से 12 लोगों की मृत्यु हुई है. मंडल आयुक्त डॉ राजशेखर ने बताया कि 3 दिन में मौत के सभी 12 मामलों की ऑडिट करें.

यह भी पढे़ं- शिष्य आनंद गिरि के लिए ‘पेट्रोल पंप’ खोलना चाहते थे महंत नरेंद्र गिरि, जानिए दोनों के बीच क्यों बढ़ी तकरार?

सीएमओ के पास रिकार्ड नहीं

जिले में डेंगू के मरीजों का आंकड़ा 136 तक पहुंच चुका है. हालांकि सीएमओ के पास इसके रिकॉर्ड नहीं है. बता दें कि शहर के 27 और ग्रामीण क्षेत्र के 109 डेंगू पीड़ित है, जहां 255 घर है. 1300 की आबादी का कुरसोली गांव है. यहाां 322 मामले अब तक विभिन्न प्रकार के बुखार के सामने आए हैं. 1 से 96 लोगों की डेंगू की जांच के लिए नमूने भेजे गए हैं. 182 रिपोर्ट आई, इनमें 29 मामले डेंगू के सामने आए. 26 डेंगू के मरीज पूरी तरीके से स्वस्थ भी हुए हैं. यह रिपोर्ट स्वास्थ्य महकमे ने तैयार की है. हालांकि मंडलायुक्त डॉ राजशेखर ने बुखार वायरल या डेंगू के लक्षण वाले मरीजों की सूची मांगी है ताकि इसको क्रॉस चेक कराया जा सके.

खून ही खून और केवल मोबाइल की रोशनी, ये है कानपुर का CHC, देखें Video

सीएचसी में घायल युवक के सिर पर लगी चोट की जांच मोबाइल की रोशनी में की गई.

Healthcare in UP : रविवार रात दो पक्षों में हुए झगड़े के बाद घायलों को इलाज के लिए यहां लाया गया था. लेकिन इस सीएचसी में लाइट नहीं थी. यहां न जेनरेटर की व्यवस्था है और न इन्वर्टर है. ऐसे में मोबाइल की रोशनी में घायलों का इलाज किया गया.

SHARE THIS:

कानपुर. कानपुर के ब्लॉक ककवन के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का हाल देखने के बाद दुष्यंत कुमार की ग़ज़ल का यह शेर याद आ जाता है – कहाँ तो तय था चराग़ाँ हर एक घर के लिये/कहाँ चराग़ मयस्सर नहीं शहर के लिये. दरअसल, ककवन के इस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (CHC) में न तो लाइट कटने पर न जेनरेटर की व्यवस्था है और न इन्वर्टर की. ऐसे में अगर रात में किसी का इलाज करना हो तो मोबाइल और मोमबत्ती की रोशनी का ही सहारा है. यह स्थिति तब है जब स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर कर दिए जाने के दावे किए जा रहे हैं और प्रशासनिक अधिकारियों की रिपोर्ट कहती है कि वे हफ्ते में दो बार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (PHC) का निरीक्षण करते हैं.

ताजा मामला उस वक्त देखने को मिला, जब ककवन ब्लॉक में दो भाइयों के बीच हुआ विवाद खूनी संघर्ष में बदल गया. दो पक्षों में जमकर लाठी-डंडे चले. इस खून-खराबे में कई लोग घायल हुए. मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों को इलाज के लिए गांव के सीएचसी भेजा. ककवन के इस सीएचसी में लाइट नहीं थी, न ही इन्वर्टर या जेनरेटर की सुविधा थी.

अंधेरगर्दी : See Video

और तो और वहां रात की ड्यूटी पर कोई डॉक्टर मौजूद नहीं था. जब सूचना दी गई तो उसके काफी देर बाद डॉक्टर सीएचसी पहुंचे. इस बीच घायलों के खून बहते रहे. आधे घंटे के इंतजार के बाद जब चिकित्सक आए, तो अस्पताल में अंधेरा पसरा था. घायलों के उपचार के लिए डॉक्टर ने अपनी मजबूरी बताई कि यहां न तो लाइट है और न ही जनरेटर चल रहा है. ऐसे में आपलोग अपने-अपने मोबाइल और टॉर्च जला दें, ताकि रोशनी हो सके. तब परिजनों ने मोबाइल की रोशनी दिखाई और डॉक्टर ने घायलों की मरहम-पट्टी की.

इन्हें भी पढ़ें :
कानपुर मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टरों की दबंगई, दंपति को जमकर पीटा
वैक्सीन लगाने के दौरान टूटी सुई, युवक का दाहिना हाथ और एक पैर नहीं कर रहा काम

इस पूरे मामले पर सीएससी प्रभारी एसके सिंह से जब बात की गई तो वे बिजली न होने की बात कहकर पल्ला झाड़ते नजर आए. इस बीच घायलों में से किसी के परिजन ने मोबाइल रोशनी में घायलों का इलाज करने का नजारा अपने मोबाइल में कैद कर लिया.

गंगा का बढ़ा जलस्तर,गंगा बैराज के सभी 30 गेट खोले गए

गंगा नदी का जलस्तर बढ़ने से बैराज के सभी 30 गेट खोल दिए गए हैं

प्रदेश भर के स्कूल कालेजों में शुक्रवार व शनिवार की छुट्टी भी घोषित की गई थी. इसके अलावा भारी बारिश से शहरों की सड़कों की जलभराव के चलते जनजीवन काफ़ी प्रभावित भी हुआ है. कानपुर में गंगा नदी का जल स्तर लगतार बढ़ रहा है. वह ख़तरे के निशान से क़रीब बह रही है.

SHARE THIS:

उत्तर भारत में इन दिनों लगातार मूसलाधार बारिश हो रही है. जिसके चलते यहां की नदियां भी अब उफान मारने लगी है. भारी बारिश का शासन स्तर से एलर्ट भा जारी किए गया है. वहीं, प्रदेश भर के स्कूल कालेजों में शुक्रवार व शनिवार की छुट्टी भी घोषित की गई थी. इसके अलावा भारी बारिश से शहरों की सड़कों की जलभराव के चलते जनजीवन काफ़ी प्रभावित भी हुआ है. कानपुर में गंगा नदी का जल स्तर लगतार बढ़ रहा है. वह ख़तरे के निशान से क़रीब बह रही है. जिसके चलते तटवर्ती इलाक़ों के रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा जा रहा है.

गंगा बैराज के सभी गेट खोले गए
गंगा नदी का जल स्तर बढ़ने से गंगा बैराज के सभी 30 गेट खलो दिए गए है.  दरअसल, प्रयागराज की तरफ़ से 1.9 लाख क्यूसेक पानी छोड़ गया है. जिसके चलते गंगा नदी उफान पर आ गई है. गंगा बैराज में पानी का अपस्ट्रीम स्तर 113 तक पहुंच गया है. लगातार बारिश के चलते गंगा नदी चेतानवी बिंदु पर बह रही है. जो ख़तरे के निशान से क़रीब 5 सेमी. नीचे है. गंगा बैराज में लोगों को नदी किनारे घाटों पर नहीं जाने दिया जा रहा है.

सहायक नदियां भी उफान पर, सुरक्षित स्थानों पर लोगों को पहुंचाया जा रहा
गंगा नदी का जल स्तर बढ़ने के साथ-साथ उसकी सहायक नदियां भी उफान मारने लगी हैं. जिसके चलते कानपुर के आउटर  इलकों में बाढ़ जैसै हालात उत्पन्न हो गए हैं. लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है. वहीं, जिला प्रशासन की ओर से सभी एहतियात बरते जा रहे हैं.उधर एहतियातन लोगों ने अपने घरों में ताला लगाकर पलायन करने को मजबूर है.

Kanpur News: शराब की बोतलें चोरी करता सीसीटीवी में कैद हुआ पुलिसकर्मी, देखें VIDEO

कानपुर में शराब चुराते CCTV में कैद हुआ पुलिसकर्मी

Kanpur Policeman Viral Video: चार फ्रेम वाले इस इस वीडियो में दिख रहा है कि कर्मचारी चादर तान कर सो रहे हैं. तभी वर्दीधारी एक शख्स दुकान में घुसता है और शराब की बोतलों को उठाने लगता है. इसके बाद वह चार बड़ी बोतलों के साथ नीचे उतरता है और बैग में रखकर चलता बनता हैं.

SHARE THIS:

कानपुर. कानपुर (Kanpur) में एक खाखीधारी का एक ऐसा कारनामा सामने आया है, जिसने कहीं ना कहीं एक बार फिर विभाग को कटघरे में खड़ा करने का काम किया है. दरअसल, एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है जिसमें एक पुलिसकर्मी (Policeman) वर्दी में अंग्रेजी शराब की दुकान से शराब चोरी करते हुए सीसीटीवी में कैद हुआ है. फुटेज में साफ नजर आ रहा है कि पुलिसकर्मी दुकान के अंदर घुसता है, फिर शराब की चार छोटी बोतलें उठाकर जेब में रखता है. बाद में चार बड़ी बोतलें लेकर निकल जाता है.

वायरल वीडियो 18 सितंबर की सुबह 8.34 मिनट का बताया जा रहा है. शराब चोरी की पूरी वारदात दुकान में लगे सीसीटीवी में कैद हो जाती है. चार फ्रेम वाले इस इस वीडियो में दिख रहा है कि कर्मचारी चादर तान कर सो रहे हैं. तभी वर्दीधारी एक शख्स दुकान में घुसता है और शराब की बोतलों को उठाने लगता है. इसके बाद वह चार बड़ी बोतलों के साथ नीचे उतरता है और बैग में रखकर चलता बनता हैं.

पुलिस कह रही जांच की बात
मामला कल्याणपुर थाना क्षेत्र की एक दुकान का बताया जा रहा है. पूरा खुलासा तब हुआ जब स्टॉक के मिलान के दौरान शराब की बोतलें कम मिली. इसके बाद जब मैनेजर ने सीसीटीवी फुटेज देखा तो पूरा मामला सामने आ गया. उधर वीडियो वायरल होने के बाद कल्याणपुर थाना प्रभारी निरीक्षक का कहना है कि एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है. इसकी जांच कराई जाएगी. जांच में दोषी पाए जाने के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी. न्यूज़ 18 इस वीडियों की पुष्टी नहीं करता.

UP: कानपुर मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टरों की दबंगई, दंपति को जमकर पीटा

UP: कानपुर मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टरों की दबंगई

Kanpur Hospital: स्वरूप नगर इंस्पेक्टर अश्विनी पांडेय ने बताया कि पीड़िता की तहरीर पर उसका मेडिकल कराया जा रहा है और उसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

SHARE THIS:

कानपुर. कानपुर (Kanpur) के हैलट अस्पताल में जूनियर डॉक्टरों ने रविवार को इंसानियत को शर्मसार कर दिया. जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के हैलट अस्पताल में आए दिन डॉक्टरों की दबंगई के किस्से देखने और सुनने को मिलते हैं. कोमा में पड़े पिता को ट्यूब नली लगाने के लिए कहना बेटे को भारी पड़ गया. जूनियर डॉक्टर ने पहले तो फटकारा और फिर जमकर पीटा. बचाने पहुंचीं महिला को भी नहीं बख्शा. उसे इतनी बेरहमी से पीटा कि बेहोश हो गई. जान बचाकर भागे दंपति ने स्वरूप नगर थाने में तहरीर दी.

पीड़ित के बेटे कमल ने बताया कि 4 दिन पूर्व वह अपने पिता का इलाज कराने के लिये देव नगर रायपुरवा से हैलट लाए थे. वार्ड 14 के बेड नम्बर 20 पर भर्ती पिता की पेशाब की नली कल से बदलने के लिये डॉक्टरों से गुहार लगा रहे थे. इसी बात को लेकर जूनियर डॉक्टर भड़क गए और मारपीट करने लगे बचाने आई पत्नी शकुंतला को भी जमकर पीटा जिसके चलते पत्नी बेहोश हो गई. मौके पर पहुंची पुलिस ने बेहोश महिला को इमरजेंसी भेजा मगर भयभीत परिजन महिला को थाने लेकर पहुंचे. इंस्पेक्टर के मुताबिक मेडिकल कराया गया है. मामले में एनसीआर दर्ज की गई है, अभी जांच की जाएगी.

यह भी पढ़ें- योगी सरकार ने शारदीय नवरात्रि, विजयादशमी और चेहल्लुम को लेकर जारी की गाइडलाइंस, दिए ये निर्देश

जहां से परिजनों से प्राथना पत्र ले कर उनके अनुरोध पर महिला को इलाज व मेडिकल के लिये उर्सला अस्पताल भेजा. बताया जा रहा है कि ऐसा नजारा देखकर अन्य मरीज व तीमारदार इतनी दहशत में आ गए कि किसी ने भी डर के मारे दंपति को बचाने की हिम्मत तक नहीं जुटाई. किसी तरह दंपति हैलट इमरजेंसी से भागते हुए स्वरूप नगर थाने पहुंचे. उन्होंने जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य प्रो. संजय काला से भी शिकायत की है. पीड़ित की तहरीर पर पुलिस ने दो जूनियर डॉक्टर व दो वार्ड ब्वॉय समेत चार के खिलाफ एनसीआर दर्ज की है. स्वरूप नगर इंस्पेक्टर अश्विनी पांडेय ने बताया कि पीड़िता की तहरीर पर उसका मेडिकल कराया जा रहा है और उसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

Kanpur News: अभिनेता सोनू सूद का सामने आया रिच ग्रुप कनेक्शन, IT की कार्रवाई जारी

Kanpur News: अभिनेता सोनू सूद का सामने आया रिच ग्रुप कनेक्शन (File photo)

Sonu Sood News: हालांकि आयकर विभाग के अधिकारी यहां से लैपटॉप पेन, ड्राइव व डॉक्युमेंट्स भी ले कर गए है. वहीं रिच उद्योग लिमिटेड के खाते और लाकर भी सील किये गये है.

SHARE THIS:

कानपुर. यूपी के कानपुर (Kanpur) में रिच समूह का कनेक्शन बालीवुड के मशहूर अभिनेता सोनू सूद (Sonu Sood) से सामने आया है. 20 करोड़ की कर चोरी के मामले में इनकम टैक्स (Income Tax) की टीम ने रिच ग्रुप पर छापेमारी में चौंकाने वाले खुलासे सामने आ रहे है. कानपुर में फर्जी इनवॉइस जारी करने वाली कंपनी रिच ग्रुप और रिच उद्योग के मालिकों ने अपने कई चपरासियों को बोगस कंपनियों का डायरेक्टर बना रखा था. इस बात का खुलासा आयकर विभाग की संयुक्त टीमों के छापों के बाद चल रही जांच में हुआ है. फर्जी बिलिंग की पुष्टि के बाद विभाग ने जांच का दायरा बढ़ा दिया है. सूत्रों के मुताबिक, अभिनेता सोनू सूद द्वारा लखनऊ के इन्फ्रास्ट्रक्चर समूह में निवेश के लिए भी रिच समूह के जरिये फर्जी बिल जारी किए गए.

सूत्रों के मुताबिक, लखनऊ के इन्फ्रास्ट्रक्चर समूह में अभिनेता सोनू सूद ने संयुक्त उद्यम अचल संपत्ति परियोजना में निवेश किया है. यह निवेश कर चोरी और बिलिंग में गड़बड़ी करके किया गया है. जांच में पता चला है कि ग्रुप फर्जी बिलिंग में शामिल है. हालांकि आयकर विभाग के अधिकारी यहां से लैपटॉप पेन, ड्राइव व डॉक्युमेंट्स भी ले कर गए है. वहीं रिच उद्योग लिमिटेड के खाते और लाकर भी सील किये गये है. ये निवेश टैक्स चोरी और बिलिंग में गड़बड़ी करके किया गया है. जांच में पता चला है कि ग्रुप फर्जी बिलिंग में शामिल है.

यह भी पढ़ें- अजीत सिंह की राजनीतिक विरासत सौंपी जयंत चौधरी को, खाप चौधरियों ने बांधी पगड़ी

वहीं रिच समूह पर आयकर विभाग की छापे की कार्रवाई अभी जारी है, जिसमें समूह के चार ठिकाने हैं. आयकर अधिकारियों की जांच में निकला है कि इनमें से किसी कंपनी में कोई काम नहीं होता, सिर्फ फर्जी इनवाइस जारी की जाती हैं. इन कंपनियों ने अपने चपरासी व अन्य चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को ही निदेशक बना रखा है ताकि सभी कंपनियां अलग-अलग नजर आएं.

Terrorist Arrest: संदिग्ध आतंकी हुमेद की कार को ATS ने कानपुर से किया बरामद, छापेमारी जारी

संदिग्ध आतंकी हुमेद की कार को ATS ने कानपुर से किया बरामद

Kanpur News: आतंकियों ने देश में दहशत फैलाने की बड़ी साजिश रची थी. उनके निशाने पर कई नामचीन लोग भी थे. इसी के साथ ही कई शहरों में धमाके करने की भी योजना आतंकवादियों ने बना रखी थी.

SHARE THIS:

कानपुर. देश में दहशत फैलाने के लिए आए आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद अब दहशतगर्दों के हौसले टूटते नजर आ रहे हैं. इसी कड़ी में रविवार को कानपुर (Kanpur) में यूपी एटीएस (ATS) ने हुमेद नाम के संदिग्ध आतंकी की गाड़ी बरामद कर लिया है. दरअसल, छह संदिग्ध आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद से पुलिस से हुमेद नाम के शख्स की सरगर्मी से तलाश कर रही है. हुमेद गिरफ्तार संदिग्ध आतंकी ओसामा का बेहद करीबी बताया जा रहा है. हुमेद की रिश्तेदारी कानपुर में है. जिसके चलते एटीएस की टीम ने कानपुर में भी छापा मारा था.

सूत्रों के मुताबिक एटीएस ने हुमेद की कार को बरामद किया है. बताया जा रहा है कि इसी कार से आतंकी असलहे सप्लाई करते थे. सफेद रंग की इस कार का इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों में किया जाना था. कानपुर के रोशन नगर इलाके से एटीएस ने कार को बरामद किया गया. जिसके बाद से रोशन नगर क्षेत्र में हड़कंप मच गया. एटीएस की कार्रवाई लगातार चल रही है. शहर के कई इलाकों में छापेमारी की जा रही है. अगर सूत्रों के मुताबिक, चमनगंज, बेगमगज इस प्रकार आबाद नाला रोड, फेज बाग, जाजमऊ, रोशन नगर जैसे तमाम इलाकों में एटीएस के जवानों ने कुछ लोगों से पूछताछ की.

यह भी पढ़ें- बरेली के विनीता हत्याकांड का खुलासा, देवर बनाना चाहता था भाभी के साथ अवैध संबंध, गिरफ्तार

एटीएस की छापेमारी के बाद भी कानपुर पुलिस एक्शन मोड में दिखी. डीसीपी वेस्ट बीबी जी एस मूर्ति ने बताया कि सभी थानेदारों को चेकिंग के निर्देश दिए और संदिग्ध वाहनों की विशेष तौर पर चेकिंग की जा रही है. डीसीपी वेस्ट मूर्ति ने एटीएस की अपनी कार्रवाई पर कोई भी टिप्पणी करने मना कर दिया.

बड़ी साजिश की थी तैयारी
आतंकियों ने देश में दहशत फैलाने की बड़ी साजिश रची थी. उनके निशाने पर कई नामचीन लोग भी थे. इसी के साथ ही कई शहरों में धमाके करने की भी योजना आतंकवादियों ने बना रखी थी. वहीं उत्तर प्रदेश में होने जा रहे विधानसभा चुनावों में भी आतंकी दहशत फैलाने वाले थे.

कानपुर: घटिया पाइपलाइन डालकर करोड़ों का खेल, 24 अभियंताओं पर FIR, EOW के पास जाएगा केस

कानपुर: घटिया पाइप लाइन केस, 24 अभियंताओं पर FIR, अब EOW कसेगी शिकंजा.

Jal Nigam Corruption : घटिया पेयजल पाइप लाइन डाले जाने के मामले में जल निगम के प्रोजेक्ट मैनेजर बैराज इकाई शमीम अख्तर ने 24 अभियंताओं के खिलाफ फजलगंज थाने में मुकदमा दर्ज कराया है. जिन 24 अभियंताओं पर यह मुकदमा दर्ज हुआ है उनमें से 16 रिटायर हो चुके हैं. मामला एक करोड़ से अधिक के घोटाले का है, इसलिए पुलिस इसे EOW को ट्रांसफर करेगी.

SHARE THIS:

कानपुर. जेएनएनयूआरएम (JNNURM) के तहत शहर में बिछाई गई पाइपलाइन (Pipeline) में बड़ा घोटाला सामने आया है. पाइपलाइन बिछाने का यह काम शुरू से ही विवादों में रहा, जिसकी कई बार शिकायत के बाद अधिकारियों ने जांच की. घटिया पेयजल पाइप लाइन जिसको लेकर हंगामा भी हुआ. इसके बाद जल निगम के प्रोजेक्ट मैनेजर बैराज इकाई शमीम अख्तर ने 24 अभियंताओं के खिलाफ फजलगंज थाने में मुकदमा दर्ज कराया है. जिन 24 अभियंताओं पर यह मुकदमा दर्ज हुआ है उनमें से 16 रिटायर हो चुके हैं. आरोपियों में मुख्य अभियंता, अधीक्षण अभियंता परियोजना, प्रबंधक परियोजना अभियंता, सहायक परियोजना अभियंता शामिल हैं.

पेयजल पाइप लाइन को बिछाने में 870 करोड़ रुपये योजना पर खर्च हुए. जब यह कार्य कराया जा रहा था तो उस समय संबंधित अभियंता, अवर अभियंता, प्रोजेक्ट मैनेजर ने घटिया पाइपलाइन लगाने वाले ठेकेदार पर न तो अंकुश लगाया और न ही उसकी जांच रिपोर्ट बनाई. जिसके बाद जब इसमें घोटाले के आरोप लगे तो इसको लेकर जांच शुरू की गई. करोड़ों रुपये के इस कार्य में इन अभियंताओं पर लगभग 870 करोड़ रुपये के कार्य में बंदरबांट होने का आरोप लगा. घटिया पाइपलाइन लगाई गई. जोहर पांच से 15 मीटर के बीच लाइन लीकेज निकली, जिसके बाद परियोजना प्रबंधक अभिनव खिलाफ फजलगंज में मुकदमा दर्ज कराया.

इस पूरे मामले पर एडिशनल डीसीपी डॉक्टर अनिल कुमार ने बताया गंगा बैराज इकाई के अधिकारी द्वारा सदर थाने में तहरीर दी गई और मुकदमा दर्ज कराया गया. डॉ अनिल ने बताया कि यह मामला एक करोड़ रुपये से अधिक का है, इसलिए विवेचक ने अपनी रिपोर्ट में एक करोड़ से ज्यादा के मामले की बात का जिक्र किया है. इसे इकॉनामिक ऑफेंस विंग को भेजने के लिए कार्यवाही की जा रही है.

UP: सीएम योगी ने कानपुर और आगरा मेट्रो के प्रोटोटाइप ट्रेन का किया वर्चुअल अनावरण, PM मोदी करेंगे देश को समर्पित

UP: सीएम योगी ने कहा, 30 नवंबर के आसपास पीएम मोदी करेंगे देश को समर्पित (File photo)

Metro Project: मुख्यमंत्री ने आगरा व कानपुर मेट्रो के प्रथम प्रोटोटाइप ट्रेन के वर्चुअल अनावरण के दौरान वड़ोदरा से जुड़े सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को इसके लिए बधाई भी दी.

SHARE THIS:

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने शनिवार को गोरखनाथ मंदिर के प्रांगण में बने अपने से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कानपुर और आगरा मेट्रो (Agra Metro) की प्रथम प्रोटोटाइप ट्रेन का अनावरण किया. इस मौके पर सीएम योगी ने कहा कि देश की सबसे बड़ी आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश के चार शहरों लखनऊ, गाजियाबाद, नोएडा और ग्रेटर नोएडा में मेट्रो रेल का सफल संचालन किया जा रहा है. कानपुर और आगरा में मेट्रो का काम लगभग पूरा हो चुका है. इसके साथ ही पांच अन्य प्रमुख शहरों गोरखपुर, वाराणसी, प्रयागराज, मेरठ और झांसी में मेट्रो के लिए डीपीआर तैयार है या अंतिम चरण में है. उन्होंने कहा कि मेट्रो आज की आवश्यकता और पब्लिक ट्रांसपोर्ट का एक बेहतरीन माध्यम है.

सीएम योगी ने यह बातें शनिवार को गोरखनाथ मंदिर से कानपुर और आगरा मेट्रो की प्रथम प्रोटोटाइप ट्रेन का वर्चुअल अनावरण करते हुए कही. इस अवसर पर उन्होंने उन्होंने कहा कि आज हमारे लिए उल्लास का क्षण है. वास्तव में मेट्रो जैसा सुरक्षित और आरामदायक पब्लिक ट्रांसपोर्ट आज की आवश्यकता है. 30 नवंबर के आसपास हम कानपुर और आगरा मेट्रो को देश को समर्पित करने की स्थिति में होंगे. प्रयास होगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों से इसका शुभारंभ कराया जाए.

मेट्रो आज की आवश्यकता और पब्लिक ट्रांसपोर्ट का एक बेहतरीन माध्यम

मेट्रो आज की आवश्यकता और पब्लिक ट्रांसपोर्ट का एक बेहतरीन माध्यम

उन्होंने इस बात पर खुशी जताई कि वड़ोदरा के उपक्रम में कोविडकाल की प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद प्रथम प्रोटोटाइप ट्रेन को समय से पहले उपलब्ध कराया गया है. सीएम ने कहा कि इससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आत्मनिर्भर भारत की परिकल्पना भी साकार हो रही है. मुख्यमंत्री ने आगरा व कानपुर मेट्रो के प्रथम प्रोटोटाइप ट्रेन के वर्चुअल अनावरण के दौरान वड़ोदरा से जुड़े यूपी मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के प्रबंध निदेशक, मेसर्स एल्सटॉम इंडिया ट्रांसपोर्ट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक समेत सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को इसके लिए बधाई भी दी.

कानपुर: बाइक का चालान काटने पर ट्रैफिक पुलिस से भिड़ा युवक, दरोगा को गंभीर चोटें

UP: कानपुर में बाइक का चालान काटने के दौरान युवक ने दरोगा पर हमला किया.

Kanpur News: कानपुर में एसीपी कर्नलगंज त्रिपुरारी पांडे ने बताया कि आरोपी मुकेश ग्वालटोली निवासी है, जो एक होटल में वेटर का काम करता है. घटना के वक्त आरोपी नशे में धुत था.

SHARE THIS:

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) में ट्रैफिक दरोगा को एक बाइक सवार युवक रोककर उसका चालान करना भारी पड़ गया. जैसे ही ट्रैफिक सब इंस्पेक्टर और सिपाही ने बिना हेलमेट जा रहे युवक को देखा तो उसे रोकने के लिए प्रयास किया. इस दौरान बाइक रुकी तो दरोगा और बाइक चालक के पीछे बैठे मुकेश से पुलिस की नोकझोंक हो गई. इस दौरान जैसे ही मोबाइल निकालकर दरोगा ने फोटो खींच ऑनलाइन चालान करने का प्रयास किया तो मुकेश ने दरोगा को पकड़ लिया और नीचे गिरा दिया.

हालांकि यूपी पुलिस के जांबाज दरोगा ने मुकेश को छोड़ा नहीं और उसे पकड़ने में सफल हो गए लेकिन इस दौरान दरोगा कौशल किशोर गिरि को चोट भी आ गई, जिसके बाद उन्हें प्राथमिक उपचार और मेडिकल परीक्षण के लिए उर्सला अस्पताल में भेजा गया. वहीं पकड़े गए मुकेश को कर्नलगंज कोतवाली पुलिस के हवाले कर दिया गया.

कर्नलगंज कोतवाल ने बताया कि ट्रैफिक पुलिस द्वारा एक युवक को पकड़ कर लाया गया था, जिस पर आरोप है कि उसने ट्राफिक दरोगा कौशल किशोर गिरिजा हाथापाई की है. दोनों में विवाद चालान काटने को लेकर हुआ था. इस मामले में फिलहाल ट्रैफिक दरोगा द्वारा कोई लिखित शिकायत नहीं दी गई है. लेकिन पुलिस से बदसलूकी करना और सरकारी काम में बाधा डालने वाले युवक को हिरासत में ले लिया गया है. मामले में वैधानिक कार्रवाई की जाएगी.

आरोपी के बारे में कर्नलगंज इंस्पेक्टर ने बताया कि मुकेश ग्वालटोली निवासी है, जो एक होटल में वेटर का काम करता है. घटना के वक्त आरोपी नशे में धुत था.

कानपुर विश्वविद्यालय में तैयार होंगे टेक फ्रैंडली विद्वान

कानपुर विश्वविद्यालय में जल्द शुरू होगा कर्मकांड का प्रोफेशनल कोर्स

इन पाठ्यक्रमों का उद्देश्य ऐसे कर्मकांडी विद्वान तैयार करना है जो संस्कृत के साथ-साथ अंग्रेजी और कंप्यूटर को भी अच्छे से जानते हो.

SHARE THIS:

विश्वविद्यालयों में प्रोफेशनल कोर्स की तरह ही ज्योतिष,योग और कर्मकांड विषयों की भी शिक्षा मिलेगी.कानपुर के छत्रपति शाहूजी महाराज विश्वविद्यालय अब ज्योतिष और कर्मकांड के कोर्स शुरू करने जा रहा है. विश्वविद्यालय प्रशासन अगले सत्र से इन कोर्सों को शुरू करेगा जिसमें छात्र एडमिशन ले सकेंगे. इन पाठ्यक्रमों का उद्देश्य ऐसे कर्मकांडी विद्वान तैयार करना है जो संस्कृत के साथ-साथ अंग्रेजी और कंप्यूटर को भी अच्छे से जानते हो.

कर्मकांड और ज्योतिष को प्रोफेशनल कोर्स बनाकर लांच‌ करने की तैयारी
पूजा करना और कर्मकांड कराना आमतौर पर पीढ़ी दर पीढ़ी ट्रांसफर होने वाला काम है.साथ ही गुरुकुल में भी कर्मकांड और ज्योतिष की शिक्षा दी जाती रही है.कानपुर का छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय अब कर्मकांड और ज्योतिष को प्रोफेशनल कोर्स बनाकर लांच करने की तैयारी में है.अगले सत्र से यूनिवर्सिटी में ज्योतिष और कर्मकांड के सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कोर्स शुरू हो जाएंगे. विश्वविद्यालय में इन कोर्सेज को शुरू करने का उद्देश्य है कि कर्मकांड और ज्योतिष का ज्ञान रखने वाला शख्स अंग्रेजी और कंप्यूटर को भी अच्छे से जानता हो.जिससे वह देश की संस्कृति का प्रचार प्रसार विदेशों में भी कर सके.वहीं विदेशों में रह रहे भारतीयों के लिए ऑनलाइन कर्मकांड करा सके.जिस तरीके से डिजिटलाइजेशन बढ़ रहा है ऐसे में आने वाले समय में कर्मकांड भी ऑनलाइन कराए जाएंगे.भविष्य की ऐसी संभावनाओं को देखते हुए ही विश्वविद्यालय इन कोर्स को शुरू करने जा रहा है.

अंग्रेजी के साथ-साथ संस्कृत के जानकार भी होंगे युवा
विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर विनय पाठक का कहना है कि कानपुर ब्रह्माव्रत की नगरी कही जाती है. कानपुर और वाराणसी जो गंगा किनारे बसे हुए नए नगर हैं वह ज्ञान विज्ञान और सभ्यता को समाहित किए हुए हैं. मुझे लगता है आज पुराना विज्ञान, संस्कृत, ज्योतिष कर्मकांड इन सब के जो विषय हैं वह लोगों को बहुत उत्सुक कर रहे हैं. हमारी नई युवा पीढ़ी भी इन सबकी जानकारी करना चाहती है.उसके डिग्री,सर्टिफिकेट और कोर्सेज के साथ ही रिसर्च वर्क तक का कार्य हम लोग यहां पर शुरू करेंगे.इसके साथ ही योग और आयुष के भी कोर्स हम शुरु करेंगे. उन्होंने कहा कि बीते 60 सालों में हम लोग तकनीक तो सीख रहें हैं लेकिन अपने संस्कारों से भी दूर हुए हैं.साथ ही कहा कि आज युवा कंप्यूटर भी जाने अंग्रेजी भी जाने और संस्कृत का भी जानकार होना चाहिए.

न्यूज 18 लोकल के लिए आलोक तिवारी की रिपोर्ट

कानपुर बुलेटिन: दो दिन की लगातार बारिश के बाद खुला आसमान, संक्रमण का बढ़ा खतरा

दो दिन से लगातार हो रही बारिश बंद होने के बाद घरों से बाहर निकले लोग

SHARE THIS:

1:दो दिन की लगातार बारिश के बाद कुछ देर के लिए खुला आसमान
कानपुर में दो दिन जारी भारी बारिश के बाद शुक्रवार को आसमान थोड़ा खुला रहा.हालांकि रुक-रुक कर बारिश की रिमझिम फुहार जरूर पड़ती रही. घरों के बाहर जमा जल की निकासी होने से लोगों ने थोड़ी राहत की सांस ली. दिन में कुछ देर के लिए सूरज निकलने के चलते जन-जीवन सामान्य हुआ. दो दिनों से घरों में क़ैद लोगों ने अपने रोज़मर्रा के काम निपटाएं. हालांकि शाम होते-होते बारिश की रिमझिम फुहार फिर से पड़ने लगी. वहीं, जल निकासी होने के बाद लोगों के घरों के बाहर कीचड़ व गंदगी जमा हो गई है. जिससे डेंगू व मलेरिया जैसी संक्रामक बीमारी फैलने का खतरा बढ़ गया है.

2:अबु आज़मी बोले, आंधी में खरपतवार की तरह उड़ जाती हैं एआईएमआईएम जैसी पार्टियां
सपा नेता अबू आजमी ने कहा कि ओवैसी की एआईएमआईएम जैसी 50 पार्टियां हर बार चुनाव में उतरती हैं. यह पार्टियां चुनावी आंधी में खरपतवार की तरह उड़ जाती हैं. उन्होंने दावा किया कि सपा यूपी विधानसभा चुनाव में 352 सीटें जीतेगी. अबू आजमी ने कहा कि पिछली बार वेस्टर्न यूपी में हुए फसाद की वजह से लोगों ने नाराज होकर बीजेपी को वोट दिया था. इस बार जाट और मुसलमान भाई एक दूसरे के गले मिले हैं और बीजेपी का सफाया करने की बात कह रहे हैं.इतना ही नही जाट और मुसलमान समीकरण वेस्ट यूपी में बीजेपी का हुक्का पानी बंद कर देंगे. उन्होंने कहा कि कृषि कानूनों से नाराज किसान बीजेपी से बदला लेने के लिए इंतजार कर रहा है. प्रियंका के यूपी से चुनाव लड़ने के सवाल का जवाब देते हुए अबू आजमी ने कहा यूपी में कांग्रेस और बीएसपी का वजूद कहीं पर भी नजर नहीं आता है. उन्होंने सर्वे कराया है जिसमें यह दोनों पार्टियों का कोई वजूद नजर नहीं आ रहा.

3:सपा विधायक की गुंडई का वीडियो वायरल
कानपुर की सीसामऊ विधानसभा सीट से सपा विधायक इरफ़ान सोलंकी की गुंडई का एक वीडियो जमकर वायरल हो रहा है. इसमें सपा विधायक ट्रैफ़िक पुलिस से उलझते हुए नज़र आ रहे हैं. वीडियो में वह फ़ोटो खींचने पर पुलिसकर्मियों पर आग बबूला होते हुए दिखाई पड़ रहे हैं. वीडियो वायरल होने के बाद उन्होंने इसकी सफ़ाई भी दी है. उनका कहना है कि मैं जनता की समस्याओं को लेकर घूमता रहता हूं. ट्रैफिक पुलिसकर्मी बीजेपी नेताओं के फोटो खींचकर चालान नहीं करते हैं, जबकि विपक्षी पार्टियों के नेताओं के जमकर चालान काटे जा रहे हैं. उनका कहना है कि पुलिसकर्मी उनके काफिले में शामिल लोगों के फोटो खींच रहे थे. बाद में वे इन्हीं गाड़ियों का चालान कर देते हैं.

बर्थडे पार्टी में बुलाकर दोस्त का किया रेप, अब बेंगलूरू पुलिस ने कानपुर से किया गिरफ्तार

बेंगलूरू पुलिस ने मोबाइल लोकेशन के आधार पर आरोपी का पता लगाया और उसे गिरफ्तार किया (सांकेतिक फोटो)

Kanpur News: इंजीनियर युवक ने बेंगलूरू में अपनी दोस्त का किया था रेप, वारदात के बाद कानपुर में नाम बदलकर रह रहा था अरोपी, फोन की लोकेशन के आधार पर पुलिस ने ट्रेस कर किया गिरफ्तार.

SHARE THIS:

कानपुर. आईआईटी दिल्‍ली से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद बेंगलूरू में नौकरी कर रहे अपूर्व कटियार को बेंगलूरू पुलिस ने कानपुर से गिरफ्तार किया. अपूर्व पर रेप का आरोप है और वो भी अपनी ही एक महिला मित्र के साथ. जानकारी के अनुसार अपूर्व ने 5 सितंबर को अपनी बर्थडे पार्टी में एक महिला मित्र को भी बुलाया था. यहां पर उसने युवती के साथ बलात्कार किया. बताया जा रहा है कि युवती भी आईआईटी से पास आउट है और अपूर्व को पहले से जानती थी. वारदात के बाद अपूर्व बिना किसी को कुछ बताए बेंगलूरू से फरार हो गया.
युवती ने वारदात के पांच दिन बाद 10 सितंबर को पुलिस में मामला दर्ज करवाया. जिसके बाद पुलिस ने पहले बेंगलूरू में ही अपूर्व की तलाश की लेकिन वो वहां पर नहीं मिला. इसके बाद अपूर्व की तलाश दूसरे शहरों में की गई.

मोबाइल लोकेशन से चला पता
इस दौरान पुलिस ने अपूर्व का मोबाइल सर्विलांस पर रखा. जिसके बाद उसकी लोकेशन कानपुर के आजाद नगर की आई. इसके बाद पुलिस ने कानपुर पुलिस से संपर्क किया तो पता चला कि वो आजाद नगर के एक मकान में रह रहा है. इसके बाद नवाबगंज पुलिस ने बेंगलूरू से आए पुलिसकर्मियों की मदद की और अपूर्व को गिरफ्तार कर लिया गया. जिसके बाद अपूर्व को पुलिस अपने साथ बेंगलूरू ले गई.

पहचान छुपाने की कोशिश की
कानपुर के आजाद नगर में रहने के दौरान अपूर्व ने अपनी पहचान छुपाने की पूरी कोशिश की. इस दौरान उसने अपना नाम बदलकर घर किराए पर लिया और गुमराह करने की कोशिश की. लेकिन इस दौरान वो अपना फोन बंद करना भूल गया और उसी की लोकेशन के आधार पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने बताया कि उसको पकड़ने के लिए पहले कई लोकेशंस पर छापेमारी की गई थी लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल सका. हालांकि इस दौरान उसके फोन की लोकेशन ट्रेस करना भी आसान नहीं रहा क्योंकि वो लगातार ऑफ आ रहा था. बाद में उसने अपना फोन ऑन किया तो उसकी लोकेशन कानपुर की आई.

नियम तोड़ रहे थे सपा समर्थक, ट्रैफिक पुलिस ने खींचे फोटो तो भड़के विधायक, देखें Exclusive Video

विधायक की नाराजगी इस कदर बढ़ी की उन्होंने कमिश्नर को फोन लगा कर पुलिसकर्मी की शिकायत कर डाली.

Uttar Pradesh News: कानपुर में अबू आजमी के स्वागत के लिए सपा कार्यकर्ताओं के साथ जा विधायक इरफान सोलंकी की पुलिसकर्मियों ने खींची फोटो, इस बात पर भड़के विधायक, कमिश्नर से की शिकायत.

SHARE THIS:

कानपुर. समाजवादी पार्टी के आबू आजमी का शहर में स्वागत करने के लिए सपा कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया. इस दौरान सपा कार्यकर्ताओं ने ट्रैफिक नियमों की भी जमकर धज्जियां उड़ाईं. हालांकि मौजूद ट्रैफिक पुलिसकर्मियों ने जब उनकी फोटो खींची तो इस बात पर बवाल हो गया. सपा विधायक इरफान सोलंकी को जब फोटो के संबंध में जानकारी मिली तो वे भड़क गए और पुलिसकर्मियों से भिड़ गए.
इरफान ने पुलिसकर्मियों से मोबाइल दिखाने की बात कही और जब उन्होंने मना किया तो विधायक भड़क गए. पहले तो वे पुलिसकर्मियों से बहस करते रहे लेकिन बाद में बात नहीं बनती देख उन्होंने सीधे कमिश्नर को फोन लगा डाला और पुलिसकर्मियों की शिकायत की.

परेशान करते हैं …
इरफान ने कमिश्नर को फोन कर कहा कि पुलिसकर्मी लगातार लोगों को परेशान करते हैं. उन्होंने कहा कि वे अपने नेता के स्वागत के लिए काफिले के साथ जा रहे थे तो ट्रैफिक के पुलिसकर्मी फोटो खींच रहे थे, जब उनसे फोटो दिखाने की बात कही गई तो उन्होंने मना कर दिया.
इसके कुछ ही देर में मामला बढ़ता दिखा. विधायक को बहस करता देख समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता भी मौके पर जमा होने लगे. मामला बढ़ता देख ट्रैफिक पुलिसकर्मियों ने भी अपने अधिकारियों को मामले के बारे में सूच‌ित किया. करीब 15 मिनट तक चला ये हाईवोल्टेज ड्रामा बाद में अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद खत्‍म हो सका.

वीडियो हुआ वायरल
विधायक इरफान और पुलिसकर्मियों के बीच हुई बहस के दौरान किसी ने उनका वीडियो वहां पर शूट कर लिया. इसके बाद विधायक के गुस्सा होने और कमिश्नर को फोन लगाने का ये वीडियो किसी ने सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया. जिसके बाद ये वायरल हो गया. हालांकि इस संबंध में पुलिस ने अभी तक क्या कार्रवाई की है इस बात की जानकारी नहीं मिल सकी है. न ही ये अभी तक पता चल सका है कि पुलिसकर्मियों की ओर से खींची गई फोटो पर क्या कार्रवाई की गई है.

UP News: कानपुर रेलवे स्टेशन पर सोने से भरे बैग के साथ दबोचे गए 4 संदिग्ध, जांच में जुटी IT टीम

UP News: कानपुर रेलवे स्टेशन पर सोने से भरे बैग के साथ दबोचे गए 4 संदिग्ध (File photo)

UP crime News: जीआरपी के डिप्टी एसपी कमरुल हसन के मुताबिक ब्रह्मपुत्र एक्सेस से 4 युवक बैग लेकर प्लेटफॉर्म नंबर पांच पर उतरे थे. चेकिंग के दौरान सर्च टीम ने पूछताछ की तो वे हड़बड़ा गए.

SHARE THIS:

कानपुर. यूपी के कानपुर सेंट्रल रेलवे स्टेशन (Kanpur Railway Station) से करीब 3.5 किलो (3490 ग्राम) सोने (Gold) के साथ चार लोगों को हिरासत में लिया गया है. इसमें पांच बिस्किट और बाकी जेवरात हैं. पकड़े गए सोने की कीमत 1.70 करोड़ बताई गई है. जीआरपी के डिप्टी एसपी कमरुल हसन ने जब इन संदिग्धों से कड़ाई से पूछताछ की तो उन्होंने अपने बैग को खोला जिसमें सोने के बिस्कुट और सोने के आभूषण थे. जिसको देखने के बाद जीआरपी पुलिस सकते में आ गई. फिलहाल आयकर विभाग और जीएसटी की टीम भी पूछताछ कर रही है.

जीआरपी के डिप्टी एसपी कमरुल हसन के मुताबिक ब्रह्मपुत्र एक्सेस से 4 युवक बैग लेकर प्लेटफॉर्म नंबर पांच पर उतरे थे. चेकिंग के दौरान सर्च टीम ने पूछताछ की तो वे हड़बड़ा गए. संदेह होने पर तलाशी ली गई. युवकों ने अपने नाम राजस्थान के धौलपुर निवासी दीपक, झुंझनूं निवासी रमेश सैनी, मनोज सैनी, सुरेंद्र कुमार सैनी बताए. रमेश ने बताया कि सभी साईं एयर पार्स सर्विस कुरियर कंपनी दिल्ली में डिलीवरीमैन हैं. यह कंपनी अलग-अलग शहरों में सोना या फिर ज्वैलरी भेजती है.

सोने से भरे तीन बैग बरामद

सोने से भरे तीन बैग बरामद

जीआरपी डिप्टी एसपी ने बताया कि आरोपित रमेश ने बताया कि वह और अन्य तीन साथी 25 से 30 हजार रुपये महीने के वेतन में कुरियर कंपनी में काम करते हैं. बताया जा रहा है कि यह सोना दिल्ली से कानपुर और कानपुर से बनारस और लखनऊ के लिए जाना है. पूछताछ में इसके कागजों और दस्तावेजों को यह लोग नहीं दिखा पाए. शक होने पर जब फिर कड़ाई से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि दिल्ली के किसी व्यापारी का यह सोना है मगर उसके कागजात कुछ उनके पास है. कुछ वह भूल गए लाना, जिसके बाद जीआरपी ने इनकम टैक्स और जीएसटी की टीम को सूचना दी. फिलहाल पुलिस पूरे प्रकरण की जांच कर रही है.

होर्डिंग को लेकर भाजपा के नेता आमने-सामने, ऑडियो वायरल 

प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन के लिए लगाए होर्डिंग को लेकर भाजपा नेताओं में हुई खींचतान

इस के कार्यकर्ताओं के बारे में भी यह कहा जाता है कि इनका चाल चरित्र और चेहरा दूसरे दलों से अलग होता है, लेकिन यूपी विधानसभा चुनाव के आने से पहले भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश स्तर के नेताओं की जुबान अपशब्दों में तब्दील हो रही है. कानपुर की एक विधानसभा में टिकट पाने के दावेदारों के बीच जमकर अपशब्द कहे जा रहे हैं.

SHARE THIS:

भारतीय जनता पार्टी सभी दलों में सबसे ज्यादा अनुशासित मानी जाती है. इस के कार्यकर्ताओं के बारे में भी यह कहा जाता है कि इनका चाल चरित्र और चेहरा दूसरे दलों से अलग होता है, लेकिन यूपी विधानसभा चुनाव के आने से पहले भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश स्तर के नेताओं की जुबान अपशब्दों में तब्दील हो रही है. कानपुर की एक विधानसभा में टिकट पाने के दावेदारों के बीच जमकर अपशब्द कहे जा रहे हैं.

टिकट के दावेदार अतिउत्साह में आज़मा रहा दांवपेंच
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव करीब आ रहे हैं. ऐसे में टिकट के दावेदारों में होड़ मची हुई है. सबसे ज्यादा भारतीय जनता पार्टी के टिकट पाने के दावेदार उत्साहित हैं. इस अति उत्साह में हर सियासी दांवपेंच चला जा रहा है और कोशिश एक दूसरे को नीचा दिखाने की भी है. मामला कानपुर के सीसामऊ विधानसभा क्षेत्र का है जहां भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रत्याशी और पूर्व प्रदेश मंत्री बीजेपी सुरेश अवस्थी और भारतीय जनता युवा मोर्चा के पूर्व प्रदेश मंत्री प्रमोद विश्वकर्मा का एक ऑडियो वायरल हुआ है. ऑडियो में सुरेश अवस्थी प्रमोद विश्वकर्मा को अपशब्द कहते और धनबल और बाहुबल के जरिए देख लेने की बात कह रहे हैं. लेकिन प्रमोद विश्वकर्मा भी सुरेश अवस्थी पर प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन के जरिए खुद की अनदेखी किए जाने का आरोप लगा रहे हैं. ऑडियो वायरल होने के बाद भारतीय जनता पार्टी के सभी बड़े नेताओं ने इस पर चुप्पी साध ली है लेकिन सुरेश अवस्थी का कहना है कि वायरल ऑडियो में सुनाई दे रही आवाज उनकी नहीं है.

विरोधियों की साज़िश बताया
सुरेश अवस्थी की माने तो प्रमोद विश्वकर्मा उनके छोटे भाई जैसे हैं और ये ऑडियो वायरल विपक्षी दलों ने किया है. ये विपक्षियों की साजिश है और वह साजिश कर भारतीय जनता पार्टी को बदनाम करना चाहते हैं. हालांकि इस मामले में प्रमोद विश्वकर्मा कुछ भी बोलने से बच रहे हैं. लेकिन, सवाल प्रमोद विश्वकर्मा पर भी उठ रहे हैं कि सियासी फायदे के लिए प्रमोद विश्वकर्मा ने इस ऑडियो को वायरल कराया है.
प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन से पहले का है आडियो
दरअसल, बुधवार को सीसामऊ विधानसभा में प्रबुद्ध वर्ग समेलन कराया गया. जिसमें कानून मंत्री बृजेश पाठक ने शिरकत की और इस कार्यक्रम से प्रमोद विश्वकर्मा का गुट किनारे दिखा. अंदर की बात ये है कि जब सुरेश अवस्थी को प्रमोद विश्वकर्मा द्वारा उनकी होर्डिंग साज़िश के तहत हटाये जाने की बात पता चली तो आवेश में आकर सुरेश ने प्रमोद को कॉल कर दिया उसी वक्त का यह ऑडियो बताया जा रहा है.
आलाकमना के लिए बन सकता है चिंता का सबब
साल 2017 में सुरेश अवस्थी सीसामऊ विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी की तरफ से चुनाव लड़े थे और 5000 से कुछ ज्यादा वोटों से हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन इस बार प्रमोद विश्वकर्मा भी सीसामऊ विधानसभा से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं और वायरल ऑडियो को इन दोनों के बीच टिकट की खींचतान का नतीजा बताया जा रहा है. ऐसे में भारतीय जनता पार्टी में टिकटों की मारामारी की शुरुआत अभी से हो चुकी है. जो समय बीतते बीतते और ज्यादा परेशानी का सबब पार्टी आलाकमान के लिए बनेगा.
न्यूज 18 लोकल के लिए आलोक तिवारी की रिपोर्ट

Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज