होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /उद्घाटन के बाद कानपुर मेट्रो के पहले यात्री बने स्कूली बच्चे, बोले कानपुर मेट्रो दुनिया में सबसे बेस्ट

उद्घाटन के बाद कानपुर मेट्रो के पहले यात्री बने स्कूली बच्चे, बोले कानपुर मेट्रो दुनिया में सबसे बेस्ट

मेट्रो में पहली यात्रा कराने के लिए कानपुर के कटरी गांव में स्थित परिषदीय स्कूल के 50 व एक निजी स्कूल के क़रीब 150 बच्च ...अधिक पढ़ें

    पीएम मोदी व सीएम योगी का बहुप्रतिक्षित प्रोजेक्ट कानपुर मेट्रो की शुरुआत हो गई है.निराला नगर स्थित जनसभा स्थल से पीएम के हरी झंडी दिखाते ही कानपुर मेट्रो ने आईआईटी मेट्रो स्टेशन से आगाज किया.इसके लिए मेट्रो स्टेशन पर एक एलईडी स्क्रीन लगाई गई थी जिसमें पीएम का कार्यक्रम लाइव दिखाया जा रहा था.हालांकि इससे पहले पीएम मोदी व सीएम योगी ने आईआईटी से गीता नगर मेट्रो स्टेशन तक सफ़र किया.पीएम व सीएम के बाद स्कूली बच्चों को बसों के माध्यम से यहां लाया गया.इसके बाद वह सीढ़ियों से प्रथम तल में केनकोर्स पर पहुंचे और जांच कराने के बाद दूसरे तल पर स्थित प्लेटफ़ार्म से मेट्रो में सवार हुए.वह उद्घाटन के बाद कानपुर मेट्रो के पहले यात्री बने.

    स्लोगन लिखे पोस्टर लेकर आए थे बच्चे
    मेट्रो में पहली यात्रा कराने के लिए कानपुर के कटरी गांव में स्थित परिषदीय स्कूल के 50 व एक निजी स्कूल के क़रीब 150 बच्चे पहुंचे.इस दौरान बच्चे विभिन्न स्लोगन व मेट्रो की पेंटिंग बने कई पोस्टर हाथ में लिए हुए थे.जिसमें देश का विकास मेट्रो के साथ, देश की शान है मेट्रो, कानपुर का अभिमान है मेट्रो लिखा हुआ था.साथ ही लगातार इंडिया इंडिया… के नारे लगा रहे थे. बच्चों के अंदर मेट्रो की यात्रा का एक अलग ही रोमांच साफ़ नज़र आ रहा था.

    कानपुर मेट्रो सबसे बेस्ट
    कानपुर मेट्रो में पहली यात्रा करने पहुंचे बच्चों ने हाथों में पेंटिंग ले रखी थी.जिसमें मेट्रो की तस्वीर बनी हुई थी और आई लव कानपुर मेट्रो लिखा हुआ था.इनमें से कई बच्चों ने पहले मेट्रो का सफ़र किया था.लेकिन, उनका कहना था कि कानपुर मेट्रो सबसे बेस्ट है.इसमें कई तरह की सुविधाएं मौजूद हैं.मेट्रो के रफ़्तार भरते ही बच्चे खिड़कियों से बाहर एकटक देखते रहे और शहर को ऊपर से निहारते रहे.

    मोतीझील तक जाकर वापस आईआईटी आई
    कानपुर मेट्रो के पहले फ़ेज़ में कुल 9 स्टेशन बनाए गए हैं.जिसमें पहला स्टेशन आईआईटी व अंतिम स्टेशन मोतीझील है.पहले बच्चों से भरी मेट्रो को आईआईटी से छठे मेट्रो स्टेशन गीता नगर तक ले जाया जाना था और वहां से वापस आईआईटी लाया जाना था. लेकिन जोश से लबरेज़ हाथों में तिरंगा झंडा लिए हुए बच्चों का रोमांच देखकर UPMRC प्रशासन ने अपना फ़ैसला बदल दिया और उन्हें मेट्रो के पहले फ़ेस के पूरे कारिडोर की यात्रा कराई गई.

    (रिपोर्ट आलोक तिवारी)

    Tags: Kanpur news

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें