ईद पर मीट कारोबारी के बेटे की गर्दन कटने से मौत, घर में मचा 'कोहराम'

बच्चे ने खाने की चीज समझ कर जिलेटिन की छड़ें खा लीं (सांकेतिक फोटो)
बच्चे ने खाने की चीज समझ कर जिलेटिन की छड़ें खा लीं (सांकेतिक फोटो)

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कानपुर (Kanpur) जिले के अनवरगंज में एक 21 वर्षीय युवक की ईद के दिन गर्दन कटने से मौत हो गई.

  • Share this:
कानपुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कानपुर (Kanpur) जिले के अनवरगंज में एक 21 वर्षीय युवक की ईद के दिन गर्दन कटने से मौत हो गई. बताया जा रहा है कि कुली बाजार निवासी मीट कारोबारी हाफिज रईस अहमद के 21 वर्षीय बेटे मोहम्मद जफर ने ईद पर बीते सोमवार की रात ब्लेड से अपनी गर्दन रेत ली, इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई. इसके बाद उसके घर में कोहराम मच गया चीख-पुकार और रोने की आवाजें जोर-जर से आने लगी. आनन-फानन में परिवार के सदस्य उन्हें नजदीक के निजी नर्सिंग होम लेकर पहुंचे तो डॉक्टर ने भी मृत घोषित किया.

सूचना पाकर क्षेत्राधिकारी अनवर गंज सैफुद्दीन थाने की पुलिस भी अस्पताल पहुंच कर शव को कब्जे में लिया. मृतक के चाचा मोहम्मद लईयक ने बताया कि उनका भतीजा काफी समय से तनाव में था, जिसका इलाज भी चल रहा था, लेकिन सुधार नहीं हो पा रहा था. बीते सोमवार उसने अपने परिवार वालों के साथ बैठकर नमाज अदा भी की और सेवई भी खाई और बाहर टहल कराने की बात भी कही, जिस पर उसके परिजनों ने घूमने के लिए मना किया था और कहां कि वह घर के बाहर ही टहल सकता है. इसके बाद वो अपने घर के बाहरी टहलने लगा.

..तो मचा हंगामा
मृतक के चाचा के मुताबिक थोड़ी देर बाद जब घर लौटा तो घर में मौजूद मेहमानों से बात करते करते हुए उठकर टॉयलेट की तरफ चला गया और काफी देर तक बाथरूम में रहा. जब बाथरूम से बाहर नहीं निकला तो परिवार के सदस्यों को शक हुआ. उन्होंने खिड़की से झांक कर देखा तो उनके होश उड़ गए. जफर लहूलुहान हालत में बाथरूम में पड़ा था. इसके बाद भाई पिता परिवार के सदस्य ने लोहे का दरवाजा तोड़कर उसे बाहर निकाला और करीब के ही अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. इसी दौरान किसी ने पुलिस को सूचना दे दी जिस पर पुलिस भी अस्पताल पहुंची.
जांच जारी


क्षेत्राधिकारी अनवरगंज सैफुद्दीन ने बताया की परिजनों के अनुसार युवक मानसिक रूप से बीमार था. काफी दिनों से उसका इलाज भी चल रहा था, पोस्टमार्टम कराया जा रहा है. जांच के बाद ही सही जानकारी सामने आएगी कि आखिर युवक मानसिक रोग से पीड़ित था या नहीं. आखिर यह आत्महत्या या हत्या यह जांच का विषय है. क्योंकि मृतक के घर से और घटनास्थल से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है.

ये भी पढ़ें:
Lockdown 4.0: छूट मिलने से धीमी पड़ी पलायन की रफ्तार, राजस्थान में 2.50 लाख श्रमिकों को मिला रोजगार!

राजस्थान: ..तो इसलिए कांग्रेस सरकार के मंत्री ने दिया बीजेपी का साथ, डिप्टी CM पायलट से की ये मांग
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज