Kanpur News: फूलों की बारिश के साथ एक दूजे के हुए 'शिव-पार्वती', पढ़ें क्यों हो रही इस खास शादी की चर्चा

कपालेश्वर मंदिर से गाजे-बाजे के साथ शिव बरात निकली.

कपालेश्वर मंदिर से गाजे-बाजे के साथ शिव बरात निकली.

कानपुर (Kanpur) नगर के मंधना कस्बे में रहने वाले हिमांशु और आवास विकास कल्याणपुर में रहने वाली मानसी एक भजन मंडली में काम करते हैं. नजदीकियां बढ़ीं और बात शादी तक पहुंच गई. दोनों ने शिव-पार्वती के रूप में शादी करने की इच्छा जताई.

  • Share this:
कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) देहात में हुई एक शादी की खूब चर्चा हो रही है. भजन मंडल में काम करने वाले युवक और युवती ने कार्यक्रम के दौरान भगवान की वेश भूषा में शादी रचाई. कानपुर में रहने वाले युवक और युवती ने कानपुर देहात के शिवली में जाकर शादी रचाई. नए रूप में शादी रचाने के प्रस्ताव पर पहले तो घर वालें ना-नुकुर करते रहे, लेकिन बाद में उनकी बातें सुनकर मान गए. कानपुर नगर में रहने वाले युवक और युवती ने ऐसे अनोखे ढंग से शादी रचाई, जिसके बारे में ना तो पहले कभी सुना होगा और न ही कहीं देखी होगी.

कानपुर देहात के शिवली में अनोखी शादी संलोगों में चर्चा का विषय बनी रही. शादी के बाद क्षेत्रीय लोगों ने नवदंपती पर फूल भी बरसाए और नमन भी किया.कानपुर नगर के मंधना कस्बे में रहने वाले हिमांशु और आवास विकास कल्याणपुर में रहने वाली मानसी एक भजन मंडली में काम करते हैं. दोनों के बीच नजदीकियां बढ़ीं और बात शादी तक पहुंच गई. दोनों के घर वाले भी शादी के तैयार हो गए. हिमांशु और मानसी ने घरवालों से इच्छा जताई कि वे शिव और पार्वती के रूप में ही विवाह करेंगे.

शिव बरात का हुआ आयोजन

हालांकि पहले तो घर वाले तैयार नहीं हुए लेकिन उनकी बातें सुनकर वे भी मानने को मजबूर हो गए. घरवालों की मानें तो हिमांशु और मानसी ने शिव-पार्वती के रूप में शादी करने की इच्छा इसलिए जताई कि दोनों ही भजन मंडली में शिव-पार्वती का रूप रखकर अभिनय करते हैं. कानपुर देहात शिवली में होली पर परंपरागत शिव बरात का आयोजन होता है. इसमें हिमांशु और मानसी को भी बतौर कलाकार आमंत्रण था. दोनों ने शिवली में शिव बरात के दौरान ही शादी करने का मन बना लिया.
ये भी पढ़ें: Rajasthan Board Exam: RBSE ने प्रैक्टिकल एग्जाम में किया बड़ा बदलाव, बाहर से नहीं आएंगे शिक्षक, पढ़ें पूरी डिटेल

मंगलवार को शिव बरात कार्यक्रम में हिमांशु ने शिव और मानसी ने पार्वती का रूप रखा. रथ पर सवार होकर कपालेश्वर मंदिर से गाजे-बाजे के साथ शिव बरात निकली. बरात में गण, भूत प्रेत बनकर बराती भी शामिल हुए और बरात जागेश्वर मंदिर पहुंची. यहां पर बड़े से कमल के बीच में हिमांशु और मानसी को बिठाया गया, जहां शिव-पार्वती के रूप में दोनों ने एक दूसरे को जयमाला पहनाई. इसके बाद वेदमंत्र पढ़कर उनका विवाह संपन्न कराया गया. इस अनोखी शादी में शामिल लोगों ने नवविवाहित जोड़े पर खूब फूल बरसाए और बम भोले का जयकारे लगाए. हिमांशु और मानसी ने कहा कि वे बेहद खुश हैं और लोगों को धन्यवाद दिया. आयोजक अवधेश शुक्ला ने बताया कि दोनों की इच्छा पर शादी की तैयारी की गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज