Teacher's Day: गुरु कपिल देव की चाहत-इंडिया का कैप्‍टन बनें कुलदीप यादव

कपिल की निगरानी में कुलदीप की गेंदबाजी निखरती चली गई, जिसके बाद कुलदीप ने पहले अंडर-19 में खिलाड़ियों को फिरकी पर नचाया. बाद में वह टीम इंडिया का हिस्सा बने तो बॉलिंग से सनसनी मचा दी.

Shyam Tiwari | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 5, 2018, 1:43 PM IST
Teacher's Day: गुरु कपिल देव की चाहत-इंडिया का कैप्‍टन बनें कुलदीप यादव
कुलदीप यादव. (AP Photo/Matt Dunham)
Shyam Tiwari | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 5, 2018, 1:43 PM IST
गुरु के दिखाए रास्ते पर बिना किसी हिचक के चलने से कैसे सफलता मिलती है, इसकी नजीर हैं टीम इंडिया के फिरकी गेंदबाज कुलदीप यादव. कभी वसीम अकरम जैसा तेज गेंदबाज बनने का सपना संजोए क्रिकेट की बारीकी सीखने पहुंचे कुलदीप को कोच ने ऐसा फिरकी गेंदबाज बना दिया, जो दिग्गज बल्लेबाजों के लिए अबूझ पहेली बन गया. कुलदीप के कोच ने न केवल उसकी प्रतिभा को पहचाना, बल्कि उसे निखारने में जी जान लगा दी. कुलदीप को क्रिकेट सिखाने वाले कोच कपिल देव पांडेय की चाहत है कि कुलदीप टीम इंडिया का कप्तान बनें.

दरअसल कुलदीप चाइना मैन गेंदबाज हैं, जो क्रिकेट के इतिहास में कम हुए हैं. कुलदीप को चाइना मैन बनाने में उनके कोच कपिल देव पांडेय का सबसे अहम योगदान है. कपिल आज भी जाजमऊ के रोवर्स ग्राउण्ड में खिलाड़ि‍यों को क्रिकेट के गुर सिखा रहे हैं. 2004 में 10 साल की उम्र में कुलदीप यादव अपने पिता के साथ इसी ग्राउंड में क्रिकेट सीखने आए थे. वह मीडियम पेसर बनना चाहते थे और कुलदीप के आदर्श वसीम अकरम थे.

 

कोच ने ही कुलदीप को तेज गेंदबाज से बनाया चाइना मैन



Kuldeep yadav coach kapil Dev Pandey
कानपुर में कुलदीप यादव के कोच कपिल देव पांडेय. Photo: News 18


कुलदीप ने गेंदबाजी करनी शुरू की तो कोच कपिल को लगा कि वह स्पिन गेंदबाजी अच्छी कर सकता है. इसके बाद उन्होंने कुलदीप को स्पिन गेंदबाजी करने की सलाह दी. कुलदीप ने जब स्पिनर के रूप में पहली गेंद डाली तो वह चाइनामैन थी. इसके बाद से कुलदीप अपने कोच की बात मानकर स्पिन गेंदबाजी करने लगे. कपिल बताते हैं कि कुलदीप में चाइनामैन यानी लेफ्ट आर्म लेग ब्रेक फेंकने की स्वाभाविक कला है.

कपिल की निगरानी में कुलदीप की गेंदबाजी निखरती चली गई. इसके बाद कुलदीप ने पहले अंडर-19 में खिलाड़ियों को फिरकी पर नचाया. बाद में वह टीम इंडिया का हिस्सा बने तो बॉलिंग से सनसनी मचा दी. मिस्ट्री स्पिनर बन कर उभरे कुलदीप क्रिकेट के तीनों प्रारूपों मे टीम इंडिया का अहम अंग हैं. कोच बताते हैं कि वह जब भी कानपुर आते हैं तो प्रैक्टिस जरूर करते हैं. कपिल चाहते हैं कि कुलदीप एक दिन टीम इंडिया का कप्तान बनें, यही उनकी गुरू दक्षिणा होगी.

ये भी पढ़ें: 

कानपुर: एसपी सिटी सुरेंद्र दास वेंटीलेटर पर, जहर खाने की आशंका

देवरिया शेल्टर होम कांड: HC की निगरानी में बनेगी न्यायिक कमेटी, हर महीने करेगी निरीक्षण
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर