• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • खून ही खून और केवल मोबाइल की रोशनी, ये है कानपुर का CHC, देखें Video

खून ही खून और केवल मोबाइल की रोशनी, ये है कानपुर का CHC, देखें Video

सीएचसी में घायल युवक के सिर पर लगी चोट की जांच मोबाइल की रोशनी में की गई.

सीएचसी में घायल युवक के सिर पर लगी चोट की जांच मोबाइल की रोशनी में की गई.

Healthcare in UP : रविवार रात दो पक्षों में हुए झगड़े के बाद घायलों को इलाज के लिए यहां लाया गया था. लेकिन इस सीएचसी में लाइट नहीं थी. यहां न जेनरेटर की व्यवस्था है और न इन्वर्टर है. ऐसे में मोबाइल की रोशनी में घायलों का इलाज किया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

कानपुर. कानपुर के ब्लॉक ककवन के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का हाल देखने के बाद दुष्यंत कुमार की ग़ज़ल का यह शेर याद आ जाता है – कहाँ तो तय था चराग़ाँ हर एक घर के लिये/कहाँ चराग़ मयस्सर नहीं शहर के लिये. दरअसल, ककवन के इस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (CHC) में न तो लाइट कटने पर न जेनरेटर की व्यवस्था है और न इन्वर्टर की. ऐसे में अगर रात में किसी का इलाज करना हो तो मोबाइल और मोमबत्ती की रोशनी का ही सहारा है. यह स्थिति तब है जब स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर कर दिए जाने के दावे किए जा रहे हैं और प्रशासनिक अधिकारियों की रिपोर्ट कहती है कि वे हफ्ते में दो बार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (PHC) का निरीक्षण करते हैं.

ताजा मामला उस वक्त देखने को मिला, जब ककवन ब्लॉक में दो भाइयों के बीच हुआ विवाद खूनी संघर्ष में बदल गया. दो पक्षों में जमकर लाठी-डंडे चले. इस खून-खराबे में कई लोग घायल हुए. मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों को इलाज के लिए गांव के सीएचसी भेजा. ककवन के इस सीएचसी में लाइट नहीं थी, न ही इन्वर्टर या जेनरेटर की सुविधा थी.

अंधेरगर्दी : See Video

और तो और वहां रात की ड्यूटी पर कोई डॉक्टर मौजूद नहीं था. जब सूचना दी गई तो उसके काफी देर बाद डॉक्टर सीएचसी पहुंचे. इस बीच घायलों के खून बहते रहे. आधे घंटे के इंतजार के बाद जब चिकित्सक आए, तो अस्पताल में अंधेरा पसरा था. घायलों के उपचार के लिए डॉक्टर ने अपनी मजबूरी बताई कि यहां न तो लाइट है और न ही जनरेटर चल रहा है. ऐसे में आपलोग अपने-अपने मोबाइल और टॉर्च जला दें, ताकि रोशनी हो सके. तब परिजनों ने मोबाइल की रोशनी दिखाई और डॉक्टर ने घायलों की मरहम-पट्टी की.

इन्हें भी पढ़ें :
कानपुर मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टरों की दबंगई, दंपति को जमकर पीटा
वैक्सीन लगाने के दौरान टूटी सुई, युवक का दाहिना हाथ और एक पैर नहीं कर रहा काम

इस पूरे मामले पर सीएससी प्रभारी एसके सिंह से जब बात की गई तो वे बिजली न होने की बात कहकर पल्ला झाड़ते नजर आए. इस बीच घायलों में से किसी के परिजन ने मोबाइल रोशनी में घायलों का इलाज करने का नजारा अपने मोबाइल में कैद कर लिया.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज