विकास दुबे एनकाउंटर की 'कहानी' में UP Police के दावों में कितना दम!
Kanpur News in Hindi

विकास दुबे एनकाउंटर की 'कहानी' में UP Police के दावों में कितना दम!
यूपी पुलिस फिलहाल एक अजीबोगरीब परिस्थिति से जूझ रही है या अगले कुछ दिनों तक जूझेगी.

कानून के जानकारों का मानना है कि बेशक, विकास दुबे (Vikas Dubey) ने बहुत जघन्य काम किया था, लेकिन अगर उसे न्यायालय (Court) के जरिए सजा मिलती तो लोगों को न्यायपालिका में विश्वास और गहरा होता. पिछले साल हैदरबाद एनकाउंटर (Hyderabad Encounter) के बाद देश में एक नई परंपरा की शुरुआत हो गई है, जिसे यूपी पुलिस (UP Police) ने भी कायम रखा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 10, 2020, 10:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पिछले दिनों कानपुर (Kanpur) में 8 पुलिसवालों की नृशंस हत्या करने वाला विकास दुबे (Vikas Dubey) मारा गया. यूपी पुलिस (UP Police) ने शुक्रवार सुबह ही दुबे को मौत की नींद सुला दिया लेकिन, 24 घंटे पहले जो शख्स ने यूपी पुलिस के एनकाउंटर (Encounter) से बचने के लिए भागा-भागा फिर रहा था. जिस शख्स ने एनकाउंटर से बचने के लिए यूपी से भाग कर उज्जैन के महाकाल मंदिर में चिल्ला-चिल्ला कर बोल रहा था 'मैं हूं विकास दुबे कानपुर वाला', वह शख्स 24 घंटे बाद 100 से ज्यादा पुलिस कर्मियों की मौजूदगी में किसी एक सिपाही का पिस्टल छिनने की कोशिश करेगा? इस एनकांउटर के बाद कानून के जानकारों का मानना है कि पिछले साल हैदराबाद एनकाउंटर के बाद से ही देश में एक गलत परंपरा की शुरुआत हो गई. यूपी पुलिस कोर्ट में भले ही इसे एनकाउंटर साबित कर दे, लेकिन न्यायपालिका की मजबूती के लिए यह परंपरा ठीक नहीं.



कानून के जानकारों का क्या कहना है
कानून के जानकारों का मानना है कि बेशक, विकास दुबे ने बहुत जघन्य काम किया था, लेकिन अगर उसे न्यायालय के जरिए सजा मिलती तो लोगों को न्यायपालिका में विश्वास और गहरा होता. सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता रविशंकर कुमार कहते हैं. 'विकास दुबे के आपराधिक इतिहास और उसके बयानों से लगता है कि उसके कई राजनेताओं और कई पुलिसकर्मियों के संबंध थे. कानपुर घटना के मीडिया रिपोर्ट्स में उसके बड़े-बड़े लोगों के साथ संबंध होने की खबर आ रही थी. ऐसे में हाल के दिनों में जो परिस्थिति बनी थी उससे फर्जी एनकाउंटर की संभावना से भी इनकार नहीं किया जा सकता. पिछले साल हैदराबाद एनकाउंटर के बाद से देश में एक नई परंपरा की शुरुआत हो गई है. भारत जैसे देशों में इस तरह की परंपरा का शुरू होना न्यायपालिका की विश्वसनीयता को कमजोर कर सकता है.'
यूपी पुलिस फिलहाल एक अजीबोगरीब परिस्थिति से जूझ रही है या अगले कुछ दिनों तक जूझेगी. vikas dubey, vikas dubey incounter, vikas dubey encounter live, vikas dubey encounter video, vikas dubey death, vikas dubey death news , vikas dubey dead, vikas dubey news, vikas dubey shot dead, vikas dubey live news, vikas dubey latest news, nhrc, Media, STF, gunshot, kanpur shootout, vikas dubey, encounter, UP Police, Madhya pradesh, SSP Kanpur, Court, Hyderabad Encounter, मीडिया, एसटीएफ, बंदूक की गोली, कानपुर गोलीकांड, विकस दुबे, मुठभेड़, यूपी पुलिस, मध्यप्रदेश, एसएसपी कानपुर, विकास दुबे, विकास दुबे कानपुर, कानपूर न्यूज़, विकास दुबे पकड़ा गया, अमर दुबे, विकास दुबे कहां पकड़ा गया, विकास दुबे की गिरफ्तारी , विकास दुबे न्यूज़, उज्जैन, विकास दुबे एनकाउंटर, यूपी एसटीएफ, यूपी पुलिस, हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे विकास दुबे समाचार, विकास दुबे की खबर, एनकाउंटर विकास दुबे खबर, विकास दुबे मारा गया , विकास दुबे का एनकाउंटर, विकास दुबे खबर, विकास दुबे वीडियो, कानपुर का विकास दुबे, विकास दुबे के बारे में , विकास दुबे की आज की खबर, विकास दुबे ताजा खबर , विकास दुबे की न्यूज़, विकास दुबे इनकाउंटर, विकास दुबे मारा गया , विकास दुबे की ताजा खबर
यूपी पुलिस फिलहाल एक अजीबोगरीब परिस्थिति से जूझ रही है या अगले कुछ दिनों तक जूझेगी.




पुलिस की थ्योरी में कितना दम?
इस घटना के बाद यूपी पुलिस अजीबोगरीब परिस्थिति से जूझेगी. एसएसपी कानपुर के मुताबिक कुछ गाड़ियां एसटीएफ की गाड़ियां का पीछा कर रही थी और इससे बचने के लिए एसटीएफ ने गाड़ी की स्पीड बढ़ा दी और एक्सीडेंट हो गया. कई लोगों को लग रहा है कि विकास दुबे की 'एनकाउंटर' की कहानी झूठी है. कानून के जानकारों का मानना है कि वास्तव में कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए शिक्षित किए गए पुलिस अधिकारियों को खुद 'हिंसा' के ऐसे कृत्यों का सहारा लेना पड़ा?

हैदराबाद एनकाउंटर के बाद नई परंपरा की शुरुआत
बता दें कि पिछले साल दिसंबर महीने में हैदराबाद में एक महिला डॉक्टर के साथ रेप और हत्या के बाद चार अभियुक्तों का सीन क्रिएशन के नाम पर पुलिस ने एनकाउंटर कर दिया था. इस घटना के बाद कोर्ट ने कहा था कि इस तरह की हत्याओं की जांच स्वतंत्र तरीके से होनी चाहिए. कोर्ट ने तब कहा था कि इस संबंध में एक विस्तृत रिपोर्ट दायर की जानी चाहिए और उस आधार पर दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए.

ये भी पढ़ें: Vikas Dubey Encounter: विकास दुबे की मौत पर SSP कानपुर का बड़ा खुलासा, ये लोग कर रहे थे काफिले का पीछा

पिछले साल हैदराबाद पुलिस के एनकाउंटर की आलोचना की गई थी, लेकिन उन पुलिसकर्मियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने हैदराबाद में एनकाउंटर का मुद्दा उठाया था. आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट में अभी भी यह मामला लंबित है. हालांकि, कानून के कुछ जानकारों का यह भी मानना है कि अदालतों से न्याय मिलने में इतनी देर होती है कि अब इस तरह के मामले सामने आने लगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading