होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

CAA Protest: पुलिस पर FIR की मांग, पीड़ितों ने कोर्ट से लगाई गुहार !

CAA Protest: पुलिस पर FIR की मांग, पीड़ितों ने कोर्ट से लगाई गुहार !

कानपुर में CAA के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान भड़की थी हिंसा (फ़ाइल तस्वीर)

कानपुर में CAA के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान भड़की थी हिंसा (फ़ाइल तस्वीर)

सीएए (CAA) व एनआरसी (NRC) के खिलाफ हुए प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा (Violence) के बाद मारे गए लोगों के परिजनों व घायलों ने अब पुलिस पर एफआईआर (FIR) के लिए कानपुर की चीफ मेट्रोपोलिटन कोर्ट (Chief Metropolitan Court) में याचिका दाखिल की है...

अधिक पढ़ें ...
कानपुर. जनपद में CAA-NRC प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा (Violence) में बाबुपुरवा इलाके में मारे गए पीड़ितों के परिजनों व घायलों ने पुलिस पर बर्बरतापूर्ण कार्रवाई का आरोप लगाते हुए उनपर FIR व जांच के लिए CMM कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. बता दें कि 20 व 21 दिसम्बर 2019 को सीएए व एनआरसी को लेकर हुए प्रदर्शन के दौरान भड़की हिंसा के बाद पथराव, आगजनी व फायरिंग के दौरान बाबूपुरवा इलाके के तीन लोगों की मौत हुई थी जबकि कई लोग घायल हुये थे.

आरोप-प्रत्यारोप
इस हिंसा के बाद शुरूआती दौर में पुलिस का कहना था कि प्रदर्शनकारी अपनी ही फायरिंग से मारे गए उन्हें पुलिस की गोली नहीं  लगी लेकिन सीसीटीवी फुटेज व पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पुलिस अपनी थ्योरी को पूरी तरह से स्पष्ट नहीं कर पाई. इलाके में भड़की हिंसा के बाद कानपुर पुलिस ने मारे गए लोगों के परिवार को नोटिस भी जारी की. वहीं घायलों को भी पुलिस द्वारा नोटिस थमाई गई. लेकिन अब इस मामले में नया मोड़ आया है दरअसल कानपुर में जिन परिवार के व्यक्तियों की मौत हुई है और जो घायल हैं उनके पीड़ित परिजनों ने उलटे पुलिस पर ही आरोप लगाते हुए कानपुर CMM कोर्ट में याचिका दाखिल की है जिस पर कोर्ट बुधवार को सुनवाई करेगी.

कानपुर CMM कोर्ट में वकील मोहम्मद नासिर खान जो इस याचिका को दाखिल करने वाले अधिवक्ता हैं ने news 18 संवाददाता से बातचीत में कहा कि जब पीड़ित परिवार वालों ने पुलिस के पास जा कर तहरीर दी कि उनका मुकदमा लिखा जाये तो एफआईआर दर्ज नहीं की गई जबकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर जिनकी मौत हुई है उन्हे गोलियां कमर के ऊपर लगी हैं वहीं कई ऐसे घायल भी हैं जिनके दोनों पैर जिंदगी भर के लिये खराब हो चुके हैं लेकिन पुलिस ने तहरीर पर एफआईआर दर्ज नहीं की तब कोर्ट मे 156/3 के तहत 302 और 307 की धाराओं में हिंसा के दौरान बाबू पुरवा में तैनात पुलिस अफसरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की याचिका पीड़ित परिवार वालों की तरफ से दाखिल की गई है.

कल होगी सुनवाई
अधिवक्ता मोहम्मद नासिर खान के मुताबिक पुलिस के खिलाफ सारे साक्ष्य मौजूद हैं उम्मीद है कि पुलिस के खिलाफ एफआईआर दाखिल होगी और इसकी जांच के लिये एक कमेटी का गठन भी किया जायेगा.
परिवार वालों का आरोप है कि पुलिस ने बर्बरतापूर्वक कार्रवाई की है जिसकी फुटेज भी मौजूद है कि किस तरह से पुलिस ने गोलियां चलाई है और बाद में पुलिस खुद ही झूठ कह रही कि मरने वाले प्रदर्शनकारियों की फायरिंग का शिकार हुये हैं पीड़ितों का कहना है कि जब कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में साफ है कि मौतें कैसे हुईं. फिलहाल पीड़ितों ने पुलिस के खिलाफ FIR दर्ज करवाने व जांच के लिए कोर्ट से गुहार लगाई है अब कोर्ट इस याचिका पर कल क्या फैसला देगी इसका इंतजार पीड़ित परिवारों को है.


ये भी पढ़ें- कानपुर CAA हिंसा: आरोपी फैजान को भेजा गया था रिकवरी नोटिस, हाईकोर्ट ने लगाया स्टे


कानपुर में महिलाओं का CAA के खिलाफ प्रदर्शन जारी, पुलिस से नोटिस वापस लिए जाने की मांग....

आपके शहर से (कानपुर)

कानपुर
कानपुर

Tags: CAA, Court, Kanpur city news, NPR, NRC, Protest

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर