• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • चकेरी एयरपोर्ट में नए टर्मिनल के लिए करना होगा और इंतजार

चकेरी एयरपोर्ट में नए टर्मिनल के लिए करना होगा और इंतजार

एयरपोर्ट

एयरपोर्ट में बनाए जा रहे नए टर्मिनल का काम उम्मीद से काफी पीछे चल रहा है

टर्मिनल साइट में हुई सलाहकार समिति की बैठक में भी यह बात निकल कर सामने आई. इसके अलावा नए टर्मिनल को पुराने टर्मिनल से जोड़ने का काम अभी तक शुरू नहीं हुआ है.

  • Share this:

    कानपुर के चकेरी एयरपोर्ट के विस्तार और नए टर्मिनल का काम पहले 30 सितम्बर तक पूरा होना था, लेकिन कोरोना संकमण की वजह से प्रशासन ने इसकी समय सीमा बढ़ा कर 31 दिसंबर तक काम पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है, लेकिन जिस रफ़्तार से नए टर्मिनल में निर्माण कार्य हो रहा है उसे देखते हुए यह काम आगामी अगले छह महीने में पूरा होता नहीं नजर आ रहा है. टर्मिनल साइट में हुई सलाहकार समिति की बैठक में भी यह बात निकल कर सामने आई. इसके अलावा नए टर्मिनल को पुराने टर्मिनल से जोड़ने का काम अभी तक शुरू नहीं हुआ है.
    साल भर पहले हुई पिछली बैठक के प्वाइंट्स का अभी तक नहीं मिला जवाब
    बैठक में एयरपोर्ट सलाहकार समिति के उपाध्यक्ष व सांसद सत्यदेव पचौरी ने एयरपोर्ट के डायरेक्टर बीके झा से जब पूछा कि अब तक क्या -क्या काम बाकी है तो वह बगले झांकते हुए नजर आए. उन्होंने डायरेक्टर को लताड़ लगते हुए कहा कि, जब पिछली बार बैठक हुई थी तब कुछ पॉइंट्स शहर के कारोबारियों ने उठाए थे उनका जवाब आपको आज की मीटिंग में देना था, लेकिन आपकी लापरवाही से पीएम मोदी और सीएम योगी का ड्रीम प्रोजेक्ट रुका हुआ है. उन्होंने बैठक को बर्खास्त करते हुए कहा कि अब मै सर्किट हाउस में बैठक करुंगा और वहां पर डीएम और मंडलायुक्त सभी को बुला कर जल्द से जल्द इसका निस्तारण किया जाएगा.
    पुराने टर्मिनल से नए टर्मिनल को जोड़ने वाली तीन किलोमीटर रोड के लिए जमीन अधिग्रहण नहीं हुई
    हाईवे से करीब तीन किलोमीटर अंदर की तरफ नया टर्मिनल बन रहा है. यह रोड पूरी तरह से कच्ची बानी हुई है. बैठक में सामने आया कि सरकार द्वारा सड़क निर्माण के लिए पीडब्ल्यूडी को पैसा भी जारी कर दिया है. उसके बावजूद अभी तक जमीन का अधिग्रहण नहीं किया जा सका है. यह रोड मवइया गांव के बीच से निकलते हुए नए टर्मिनल को जाती है. इतना ही नहीं अभी तक गांव वालों को जमीन अधिग्रहण की जानकारी तक नहीं दी गयी है. ऐसे मे सवाल उठता है कि कैसे तीन महीने में नए टर्मिनल का काम पूरा हो पाएगा.
    800 केवीए की डेडिकेटेड पावर लाइन नहीं बिछी
     नए बन रहे टर्मिनल में इलेक्ट्रिसिटी की सप्लाई  के लिए 800 केवीए की डेडिकेटेड पावर लाइन बिछाई जानी है. यह कार्य केस्को इलेक्ट्रिक कंपनी की ओर से किया जाना है. जिसके लिए कम से कम दो महीने का समय लगेगा.  यह कार्य भी अभी तक शुरू नहीं हो पाया है.
    टैक्सी लिंक के लिए मिनिस्ट्री ऑफ डिफेन्स में लटकी है फाइल
    नए टर्मिनल तक यात्रियों को टैक्सी लिंक बनाया जाना है. टैक्सी लिंक के लिए एयरफोर्स स्टेशन चकेरी की 403*30 वर्ग मीटर जमीन पर निर्माण होना है. इसके लिए करने  मिनिस्ट्री ऑफ़ डिफेन्स में पिछले आठ महीने से फाइल लटकी हुई है, लेकिन उस पर किसी का ध्यान नहीं है. इसे अलावा पुराने एयरपोर्ट को नए से जोड़ने के लिए भी कुछ ज़मीन एयरफोर्स की आएगी उसका भी प्रस्ताव अभी तक एप्प्रूव नहीं हो पाया है.
    यूपीआरएनएन करा रही है एयरपोर्ट का कार्य
    एयरपोर्ट अथॉरिटी के अधिकारियों ने काम में हो रही ढिलाई का ठीकरा यूपीआरएनएन इंजीनियरों पर फोड़ा. आपको बता दें यह एजेंसी इस एयरपोर्ट का निर्माण कर रही है. अधिकारियों का कहना है कि कंपनी ने वादा किया था कि 400 से अधिक लेबर दो शिफ्टों में काम करेगी, लेकिन मौजूदा वक्त में सिर्फ 100 से 125 लेबर ही साइट पर काम कर रही है.
    (रिपोर्ट: आलोक तिवारी)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज