• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • मोक्षदायिनी को साफ़ निर्मल बनाने में जुटे कानपुर के युवा

मोक्षदायिनी को साफ़ निर्मल बनाने में जुटे कानपुर के युवा

गंगा

गंगा बैराज की सफाई में जुटे मेरी धरती ग्रुप के सदस्य

इसे मोक्षदायिनी ऐसे ही नहीं कहा गया है. इसके बिना सनातन धर्म के सभी संस्कार पूरे नहीं होते है. लेकिन, लोग अज्ञानता व रुढ़िवादी परम्पराओं के चलते इसे गंदा करने में लगे हैं. वहीं, बढ़ते शहरीकरण का भी इसे प्रदूषित करने में योगदान रहा है. हालांकि केंद्र में मोदी सरकार आते ही इसे वापस निर्मल व अविरल करने की क़वायद तो जरूर शुरू कर दी गई थी.

  • Share this:

    सनातन धर्म में गंगा नदी की विशेष मान्याताएं हैं. इसे मोक्षदायिनी ऐसे ही नहीं कहा गया है. इसके बिना सनातन धर्म के सभी संस्कार पूरे नहीं होते है. लेकिन, लोग अज्ञानता व रुढ़िवादी परम्पराओं के चलते इसे गंदा करने में लगे हैं. वहीं, बढ़ते शहरीकरण का भी इसे प्रदूषित करने में योगदान रहा है. हालांकि केंद्र में मोदी सरकार आते ही इसे वापस निर्मल व अविरल करने की क़वायद तो जरूर शुरू कर दी गई थी.नमामि गंगे अभियान के तहत इस काम को पूरा करने की कोशिशें लगातार जारी हैं. इसी बीच कानपुर के युवाओं की टोली भी इस अभियान से प्रेरित होकर घाटों व उसे आसपास सफ़ाई करने में जुट गई है. घाटों की सफ़ाई करने के बाद वह यहां पौधे भी रोपे जा रहे हैं.

    बदलाव लाना है इन युवाओं का मक्सद
    कानपुर में गंगा नदी बढ़ते प्रदूषण व गंदगी को देखते सीए की छात्रा ज्ञानवी शर्मा के मन में एक टीस उठी. उन्हें लगा कि अगर मोक्षदायिनी में इसी तरह प्रदूषण बढ़ता रहा तो एक दिन पूरा शहर ही गंदगी के आग़ोश में समा जाएगा. ऐसे में उन्होंने ठाना कि वह इस गंगा नदी व शहर को गंदगी और प्रदूषण से निजात दिलाएंगीं. इसके लिए वह सुबह-सुबह अकेले ही अपने घर से निकल पड़ती है और शहर में गंगा किनारे एक स्थान को चिहि्नत करतीं है और उसकी सफ़ाई में जुट जाती. धीरे-धीरे उनकी मुहिम रंग लाने लगी और शहर के अन्य कालेजों के युवा भी उनसे जुड़ने लगे. आज उन्होंने मेरी धरती नाम से क़रीब 50 युवाओं की एक टीम तैयार कर ली है. जो शहर के प्रमुख  घाटों के अलावा गंगा किनारे रेतीली इलकों में भी सफ़ाई करती है.

    पर्यावरण से है विशेष लगाव, सफ़ाई के बाद रोपते हैं पौधे

    ज्ञानवी ने बताया कि उन्हें पर्यावरण से विशेष लगाव है. एक स्वस्थ मनुष्य के लिए वातावरण का प्रदूषण मुक्त होना ज़रूरी है. पार्यावरण को साफ़ करने के लिए साफ़ सफ़ाई व पेड़-पौधे होना बहुत ज़रूरी है. उन्होंने बताया कि वह शहर के युवाओं के साथ गंगा बैराज, बिठूर व कैंट आदि इलाकों में रेतीली ज़मीन में जमा कूड़े को साफ़ करने में जुटी है. सफ़ाई करने के बाद उस स्थान पर पौधे रोप देतीं हैं. जिससे आस-पास के वातावरण को भी प्रदूषण मुक्त हो जाए. ज्ञानवी के सहयोगी व बीसीए छात्र प्रतीक्षित शुक्ला ने बताया कि उन्होंने गंगा किनारे का एक-एक कोना साफ़ करने की ठानी है. इसके लिए आस-पास के पांच शहरों में भी टीम तैयार की है. जल्द ही यहां भी सफ़ाई अभियान शुरू किया जाएगा.

    न्यूज 18 लोकल के लिए आलोक तिवारी की रिपोर्ट

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज