कासगंज: जब गांव के लोगों ने कर दिया इनकार, तब 96 साल की दादी ने दिखाई टीकाकरण की राह

कासगंज में एक 96 साल की बुजुर्ग महिला ने टीकाकरण कराकर अपने पूरे गांव को राह दिखा दी.

Vaccination in UP: कासगंज जिले में एक 96 वर्ष की बुजुर्ग महिला कोरोना वैक्सीनेशन की 'ब्रांड एम्बेस्डर' बन गई हैं. जिस गांव में लोग टीका नहीं लगवा रहे थे, वहां बुजुर्ग दादी के टीका लगवाते ही 176 लोगों का वैक्सीनेशन हो गया.

  • Share this:
कासगंज. उत्तर प्रदेश के कासगंज (Kasganj) के एक गांव में कोरोना टीकाकरण (Corona Vaccination) को लेकर तमाम भ्रांतियां थीं. काफी समझाने के बाद भी जब गांव के लोग टीकाकरण को राज़ी नहीं हुए तो गांव की 96 साल की बुजुर्ग महिला ने सबसे पहली टीका लगवाकर लोगों को समझाया. बुजुर्ग दादी के टीका लगाने के बाद अधिकारियों के कहने पर नहीं मान रहे ग्रामीण फौरन टीकाकरण कराने में जुट गए.

जिले के गांव खड़ेरी में चल रहे कोरोना टीकाकरण के दौरान एक दादी ब्रांड एम्बेस्डर बनकर सामने आयीं हैं. जहां स्वास्थ्यकर्मियों और अधिकारियों के तमाम मान मनौव्वल के बावजूद भी गांव के लोग टीकाकरण के लिए राजी नहीं हुए. उस वक्त एक 96 साल उम्र की दादी आधार कुमारी ने सामने आकर सबसे पहले खुद को टीका लगवाया. टीका लगवाकर दादी ने गांव के सभी लोगों को टीके के फायदे गिनाये और कुछ इस तरह समझाया कि लोग टीकाकरण के लिए राज़ी हो गए.

कासगंज के तहसीलदार अजय कुमार ने बताया कि मंगलवार को वह टीकाकरण करने वाली एक टीम के साथ दतलाना पंचायत के ग्राम नगला खड़ेरी में पहुंचे हुए थे. टीकाकरण टीम को देखकर गांव के लोग अपने घरों को छोड़कर छुपने के लिए पेड़ों के पीछे और खेतों की ओर भागने लगे. वहां उपस्थित अधिकारियों और स्वास्थय कर्मियों ने गांव वालों को थोड़ा भरोसे में लेकर जैसे-तैसे अपने पास बुलाया और टीका लगवाने के लिए काफी समझाने का प्रयास किया. लेकिन तमाम मान मनौव्वल के बावजूद भी गांव के लोग टीकाकरण के लिए राजी नहीं हुए.

टीका लगवाने खुद आगे आईं बुजुर्ग आधार कुमारी

kasganj woman, vaccination
कासगंज में एक 96 साल की बुजुर्ग महिला ने टीकाकरण कराकर अपने पूरे गांव को राह दिखा दी.


तब एक 96 साल उम्र की दादी जिनका नाम आधार कुमारी पत्नी सोनपाल है, ने आगे आकर सबसे पहले टीका लगवाया. बाद में दादी की अपील पर एक के बाद एक गांव के अन्य लोगों ने भी टीका लगवाना शुरू कर दिया.

सामुदायिक स्वास्थय केंद्र सोरों के चिकित्सा अधीक्षक हरीश कुमार ने बताया कि गांववालों को दादी के समझाने का असर कुछ इस कदर हुआ कि 250 की कुल आबादी वाले इस गांव खड़ेरी में अब तक 176 लोगों ने कोरोना का टीका लगवा लिया है. दादी की अपील के बाद पहले ही दिन गांव खड़ेरी में 136 लोगों का टीकाकरण हुआ तो वहीं अगले दिन बुधवार की शाम तक कुल 176 लोगों ने अपना टीकाकरण करा लिया था.

टीका लगवाकर बोलीं- देखो क्या मुझे कुछ हुआ?

kasganj woman, vaccination
टीका लगवातीं बुजुर्ग आधार कुमारी


अन्य अधिकारियों और स्वास्थ्यकर्मियों ने यह भी बताया कि जब दादी ने टीकाकरण को लेकर गांव वालों को प्यार से यह समझाया कि देखो मैं कितनी बूढ़ी हूं. मैंने भी तो टीका लगवाया है. क्या मुझे कुछ हुआ? मैं पहले की तरह ही स्वस्थ हूं इसलिए आप सभी गांव के लोग अपने अन्दर पल रही अफवाहों और भ्रांतियों को मिटाकर अपने जीवन की रक्षा के बारे में सोचते हुए टीकाकरण तत्काल कराएं. दादी की इस अपील के बाद गांव के सभी लोग टीकाकरण कराने के लिए राज़ी हो गए.

गंगा किनारे बसे इस छोटे से गांव खड़ेरी में दादी आधार कुमारी विल्कुल अकेली एक टूटे से झोपड़े में रहती हैं. उनका बेटा उनसे अलग दूसरे घर में रहता है. दैनिक क्रियाकलाप करने के साथ दादी अपना भोजन खुद पकातीं हैं. गांव में उनके स्नेहपूर्ण व्यवहार से सभी लोग उन्हें बेहद आदर की दृष्टि से देखते हैं. उम्र के 9 दशक पार कर चुकीं दादी गांववालों के लिए अचार व्यवहार हिम्मत हौसला और आदर्श की प्रेरणा स्रोत मानीं जातीं हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.