लाइव टीवी

1 साल से कर रही न्याय का इंतज़ार, तेजाब पीड़िता ने खून से लिखा SP को खत

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 11, 2019, 4:20 PM IST
1 साल से कर रही न्याय का इंतज़ार, तेजाब पीड़िता ने खून से लिखा SP को खत
कासगंज में एसिड र्पीड़िता न्याय की गुहार लगाने पुलिस अधीक्षक से मिली है.

कासगंज (Kasganj) के पुलिस अधीक्षक (SP) ने एसिड पीड़िता (Acid Victim) की मांग पर मामले की जांच कोतवाली सदर से बदलकर थाना सहावर को भेज दी है और जल्द कार्रवई का आश्वासन दिया है.

  • Share this:
कासगंज: उत्तर प्रदेश में योगी सरकार (Yogi Government) महिलाओं की सुरक्षा, सुनवाई और कार्रवाई के लाख दावे कर रही हो, लेकिन जमीन पर तस्वीर बिल्कुल विपरीत है. जनपद कासगंज (Kasganj) में ऐसा ही एक मामला देखने को मिला है. यहां एक तेजाब पीड़िता (Acid Victim) न्याय मांगने के लिए पिछले 1 साल से दर-दर की ठोकरें खाने पर मजबूर है. तेजाब पीड़िता, अधिकारियों की चौखट पर न्याय की भीख मांग रही है लेकिन खाकी वर्दी का कलेजा फिर भी नहीं पसीजा. अब पीड़िता ने अपने खून से पत्र लिखकर पुलिस अधीक्षक से न्याय की गुहार लगाई है. पुलिस अधीक्षक ने पीड़िता की मांग पर मामले की जांच कोतवाली सदर से बदलकर थाना सहावर को भेज दी है और जल्द कार्रवाई का आश्वासन दिया है.

आंखों में आंसू, होंठों पर सिसकियां और हाथों में अपने खून से लिखा पत्र लेकर पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर न्याय की गुहार लगाने आई यह महिला यासमीन है. जमीनी विवाद के चलते महिला को परिवार के ही कुछ दबंगों ने तेजाब डालकर जला दिया था. जिसकी रिपोर्ट पीड़िता ने कोतवाली सदर में कराई थी. पीड़िता की तहरीर पर मामला तो दर्ज कर लिया गया, लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

एक साल से न्याय के लिए लगा रही गुहार

यासमीन पिछले 1 साल से कभी चौकी, कभी थाना तो कभी आलाधिकारियों की चौखट खटखटा रही है लेकिन कोई एक्शन नहीं लिया गया. महिला का आरोप है कि करीब एक साल पहले जमीनी विवाद के चलते उस पर तेजाब फेंक दिया गया था. यहां तक कि पुलिस ने पैसों की खातिर 2 बार फाइनल रिपोर्ट (एफआर) भी लगा दी. कार्रवाई के नाम पर अगर यासमीन को कुछ मिला तो सिर्फ झूठी तसल्ली. यासमीन अब खाकी से तंग आकर आत्महत्या तक कर लेने की बात कह रही है. उसकी सिसकियां सबूत हैं इस बात का कि वह सिस्टम के इस चक्कर से परेशान हो चुकी है. इतना ही नहीं तेजाब पीड़िता कुछ दिन पहले महिला आयोग की सदस्य निर्मला दीक्षित से भी न्याय की गुहार लगा चुकी है. उसके बाद भी आज तक पीड़िता को न्याय नहीं मिल सका है.

पीड़िता की मांग पर विवेचना ट्रांसफर की गई है: एसपी

वहीं इस मामले पर जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक सुशील घुले ने बताया कि महिला ने प्रार्थना पत्र देकर यह अपेक्षा की है कि विवेचना किसी अन्य थाने में ट्रांसफर कर दी जाए. इस आधार पर महिला की विवेचना को सहावर थाने में ट्रांसफर कर दी गई है. देखना होगा कि थाना बदल जाने से पीड़िता को न्याय मिल पाता है कि नहीं.

ये भी पढ़ें:मायावती ने किया साफ- नागरिकता संशोधन विधेयक का राज्यसभा में भी विरोध करेगी BSP

मुर्गी, बकरी चोरी सहित 16 केसों में आजम, अब्दुल्ला व पत्नी की गिरफ्तारी पर रोक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कासगंज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 11, 2019, 3:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर