अपना शहर चुनें

States

कासगंज: अस्पताल में भर्ती मरीज को फिल्मी स्टाइल में जहरीला इंजेक्शन लगाकर हत्या का प्रयास

 बताया जा रहा है कि इंजेक्शन लगने से मरीज की मौत हो जाती है. (प्रतीकात्मक फोटो)
बताया जा रहा है कि इंजेक्शन लगने से मरीज की मौत हो जाती है. (प्रतीकात्मक फोटो)

अस्‍पताल में मौजूद मरीज के तीमारदार और हॉस्पिटल स्‍टाफ (Hospital Staff) ने दो आरोपियों को दबोच लिया, जबकि तीन अन्‍य भागने में सफल रहे.

  • Share this:
कासगंज. उत्तर प्रदेश के जनपद कासगंज में एक सनसनी खेज मामला सामने आया है, जहां निजी अस्पताल में भर्ती एक मरीज को जहरीला इंजेक्शन लगाकर हत्या करने का प्रयास किया गया है. हत्या का प्रयास करने वाले आरोपी मरीज के रिश्तेदार बनकर अस्पताल में आए थे. जानकारी के मुताबिक, रिश्तेदार बनकर आए आरोपियों में से एक ने फर्जी डॉक्टर बनकर आईसीयू (ICU) वार्ड में घुसकर मरीज को जहरीला इंजेक्शन (Poisonous Injection) लगाने की कोशिश की, लेकिन मरीज के परिजनों और अस्पताल स्टाफ की सूझ-बूझ से किसी तरह की अनहोनी नहीं हुई. आरोपियों में से दो को वहां मौजूद लोगों ने पकड़ लिया, जबकि तीन भागने में सफल रहे. फ़िलहाल अस्पताल संचालक ने पुलिस को तहरीर देकर चार नामजद सहित पांच लोगों के खिलाफ अभियोग दर्ज कराया है.

अस्पताल में भर्ती मरीज के फ़िल्मी स्टाइल में जहरीला इंजेक्शन लगाकर हत्या करने के प्रयास का मामला कोतवाली सदर क्षेत्र के कृष्णा अस्पताल का है. बताया जाता है कि पांच युवक होंडा अमेज कार (संख्या डीएल ओटीसी 0020) में सवार होकर आ थे, जिनमें से दो युवक सीधे आईसीयू वार्ड में पहुंच गए और विजेन्द्र नाम के मरीज की फाइल में मेडिसन चार्ट पर एनाबिन इंजेक्शन पांच एमएल 9ः30 बजे लिख दिया. साथ ही स्वयं मरीज को लगाने लगे. इतने में स्टाफ और मरीज के तीमरदारों ने रोक लिया. साथ ही दोनों लोग गाली गलौज करने लगे. बाद में तीमरदार और हाॅस्पीटल स्टाफ ने दोनों को दबोच कर पुलिस के हवाले कर दिया. साथ ही उनकी जेबों से चार इंजेक्शन भी बरामद किए, जिन्‍हें पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया.

विजेन्द्र सिंह 16 जुलाई को छत से गिर गए थे
मरीज के दामाद प्रवीन की माने तो उसके ससुर विजेन्द्र सिंह निवासी हथौडावन थाना पटियाली 16 जुलाई को छत से गिर गए थे. गंभीर हालत होने के कारण उनका उपचार चल रहा था. इसी बीच रिश्तेदार बनकर मौत का जहरीला इंजेक्शन लगाने आये दोनों व्यक्तियों को पकड़ लिया. गिरफ्त में आये युवकों ने अपना नाम प्रमोद और डाॅ. शांतुनु चौधरी निवासी अमांपुर बताया है, जबकि हरिओम चौधरी  और अरूण कुमार उर्फ रवि सहित एक अन्य व्यक्ति अपने आपको घिरता देखकर फरार हो गए. फ़िलहाल, पुलिस ने पकड़े गए आरोपियों सहित तीन अन्य आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और आवश्यक कार्रवाई शुरू कर दी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज