• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • कासगंज: UP में चल रही थी कारतूस की अवैध फैक्टरी, कई राज्यों में होती थी सप्लाई, 2 अरेस्ट

कासगंज: UP में चल रही थी कारतूस की अवैध फैक्टरी, कई राज्यों में होती थी सप्लाई, 2 अरेस्ट

कासगंज की कारतूस फैक्टरी से जब्त की गईं चीजें और गिरफ्तार किए गए अभियुक्तों के साथ पटियाली पुलिस.

कासगंज की कारतूस फैक्टरी से जब्त की गईं चीजें और गिरफ्तार किए गए अभियुक्तों के साथ पटियाली पुलिस.

Crime in UP : कासगंज के पुलिस अधीक्षक रोहन प्रमोद बोत्रे ने बताया कि पकड़े गए मो. आलम और जान आलम शातिर किस्म के अपराधी हैं. वे दिल्ली क्षेत्र से खोखे और विस्फोटक लाकर जिले के पटियाली क्षेत्र के भरगैन में कारतूस बनाने का काम करते थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

कासगंज. जनपद कासगंज में फिर से अवैध कारतूस की फैक्टरी का भंडाफोड़ हुआ है. पुलिस छापेमारी में यहां से भारी संख्या में खोखे, कारतूस और भारी मात्रा विस्फोटक पदार्थ बरामद हुए हैं. पुलिस के अनुसार दिल्ली क्षेत्र से खोखे और विस्फोटक लाकर कासगंज में कारतूस बनाए जाते थे. यहां बने कारतूस उत्तर प्रदेश के आसपास के प्रदेशों में सप्लाई किए जाते थे. इस छापेमारी में पटियाली पुलिस ने कारतूस फैक्टरी में काम कर रहे दो लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है, जबकि फैक्टरी का संचालक पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया.

कासगंज के पुलिस अधीक्षक रोहन प्रमोद बोत्रे ने न्यूज 18 को बताया कि पकड़े गए मो. आलम और जान आलम शातिर किस्म के अपराधी हैं. वे दिल्ली क्षेत्र से खोखे और विस्फोटक लाकर जिले के पटियाली क्षेत्र के भरगैन में कारतूस बनाने का काम करते थे. कारतूस बनाने के बाद उन्हें उत्तर प्रदेश के पड़ोसी प्रदेशों में सप्लाई किया करते थे. इन आरोपियों के तार दिल्ली, पंजाब हरियाणा, राजस्थान, गुजरात और जम्मू कश्मीर तक जुड़े हुए हैं. फरार अपराधी छिद्दन आलम भी शातिर किस्म का अपराधी है, जो करीब 10 वर्ष से इस धंधे में लिप्त है. उसकी तलाश की जा रही है. उसकी गिरफ्तारी के बाद ही पता चल सकेगा कि आखिर किस-किस प्रदेशों में यहां से कारतूस बनाकर सप्लाई किया करते थे. पुलिस के अनुसार, इनके तार आतंकवादियों से जुड़े हुए हो सकते हैं. एसपी ने स्पेशल टीम बनाकर छानबीन शुरू कर दी है.

इन्हें भी पढ़ें :
रेलवे अंडर पास में डूब गई स्कॉर्पियो, सवारियों ने कूदकर बचाई जान, देखिए Video
हरदोई: गौशाला में जलभराव से 8 गौवंशों की मौत, 6 बीमार, कई अफसरों पर गिरी गाज

कासगंज जिले के 30 हजार की आबादी वाले गांव भरगैन को लेकर सुरक्षा एजेंसियों के माथे की लकीरें अब गहरी हो चली हैं. यहां पुलिस कार्रवाई और छापेमारी में अवैध हथियारों के जखीरे और निर्माण से जुड़े उपकरण भारी मात्रा में मिल रहे हैं. भरगैन में 99 फीसदी आबादी एक समुदाय विशेष की है. इसलिए भी सुरक्षा एजेंसियां इस इलाके को लेकर खास सतर्क हैं. 16 सितंबर को हुई छापेमारी में पटियाली पुलिस ने 315 बोर के 197 खोखे, 315 बोर के 61 कारतूस, 12 बोर के 107 छर्रे और 73 खोखे, 12 बोर के 42 कारतूस, 32 बोर के 24 कारतूस, 375 ग्राम बारूद, 1 किलो पोटाश, 315 बोर के 2 तमंचे, 1 रायफल और कारतूस भरने के उपकरण आदि जब्त किए हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज