कौशाम्बीः अपने ही बेटे की बलि देने जा रहे थे परिजन, ग्रामीणों ने पुलिस के हवाले किया

आरोपी पिता तांत्रिक के बताए विधि-विधान से जब मासूम की बलि देने की कोशिश करने लगा तो मासूम ने चीखना-चिल्लाना शुरू कर दिया और बच्चे की चीख सुनकर आसपास मौजूद लोगों ने मंदिर पहुंचे और बलि देने से पहले ही मासूम को परिजनों से छुड़ा लिया

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 22, 2018, 8:40 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 22, 2018, 8:40 PM IST
कौशांबी जिले में मंगलवार को एक तांत्रिक के कहने पर परिजनों ने अपने ही दो वर्षीय मासूम की बलि देने की कोशिश करने की कोशिश की है. हालांकि मासूम की चीख-पुकार सुनकर ग्रामीणों ने उसे समय रहते बचा लिया और आरोपी परिजनों को मारने-पीटने के बाद पुलिस के हवाले कर दिया. पुलिस आरोपी माता पिता को हिरासत में लेकर मामले की जांच में जुट गई है.

यह भी पढ़ें-दलित महिला अधिकारी को पानी न पिलाए जाने के मामले में 6 के खिलाफ FIR दर्ज

रिपोर्ट के मुताबिक वारदात कोखराज थाना क्षेत्र के ककोड़ा गांव में स्थित एक मंदिर का है, जहां मिर्गी की बीमारी से परेशान बड़ेगांव निवासी अशोक सरोज एक तांत्रिक के कहने पर अपने ही 2 वर्षीय बेटे आर्यन की बलि देने पहुंचा था.

यह भी पढ़ें-सगे चाचा की शर्मनाक करतूत, 8 लाख में तय किया भतीजी का सौदा

आरोपी पिता तांत्रिक के बताए विधि-विधान से जब मासूम की बलि देने की कोशिश करने लगा तो मासूम ने चीखना-चिल्लाना शुरू कर दिया और बच्चे की चीख सुनकर आसपास मौजूद लोगों ने मंदिर पहुंचे और बलि देने से पहले ही मासूम को परिजनों से छुड़ा लिया और बाद में मामले की सूचना पुलिस को दी.

ग्रामीणों की सूचना पर मौके पर पहुंची कोखराज थाने की पुलिस ने आरोपी माता पिता को हिरासत में लेने के बाद मासूम का प्राथमिक इलाज कराया. पुलिस अब मामले की पड़ताल में जुट गई है.

(रिपोर्ट-केसी चुतर्वेदी, कौशाम्बी)
Loading...
भोजपुरी सिनेमा की इन अभिनेत्रियों की खूबसूरती के दर्शक भी हैं कायल

जब शर्मिला टैगोर को पहली नज़र में दिल दे बैठे थे नवाब पटौदी

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर