रेप की कोशिश पर पुलिस ने शांति भंग करने की धाराओं में दर्ज किया केस

पीड़िता का यह भी आरोप है कि थाना पुलिस ने उसे उल्टा मुकदमा में फसाने की धमकी दी है. जिसके बाद शुक्रवार को पीड़ित किशोरी अपने परिजनों के साथ पुलिस अधीक्षक के दफ्तर पहुंची और एसपी से मिलकर इंसाफ की गुहार लगाई.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 24, 2018, 7:47 PM IST
रेप की कोशिश पर पुलिस ने शांति भंग करने की धाराओं में दर्ज किया केस
किशोरी से रेप (प्रितिकात्मक फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 24, 2018, 7:47 PM IST
यूपी के कौशांबी में खेत पर काम रही एक किशोरी के साथ रेप की कोशिश की घटना सामने आई है. वहीं पीड़ित किशोरी का सीधा आरोप है कि शिकायत के बाद स्थानीय पुलिस ने आरोपी युवक के खिलाफ रेप के प्रयास का मामला दर्ज करने के बजाए उसका चालान महज सीआरपीसी की धारा 151 के तहत किया गया है. इससे नाराज पीड़ित किशोरी अपने परिजनों के साथ पुलिस अधीक्षक के दफ्तर पहुंची और एसपी को प्रार्थना पत्र देकर इंसाफ की गुहार लगाई.

दलित किशोरी के साथ हुई दरिंदगी की यह वारदात 21 अगस्त की सुबह की है. पीड़िता के मुताबिक जब वह अपने खेत मे धान की फसल की निराई कर रही थी, तो अकेला पाकर पड़ोसी युवक ने उसे धर-दबोचा. उसके बाद आरोपी युवक ने उसे जमीन पर पटक कर जोर जबरजस्ती करने लगा. किशोरी के विरोध करने पर हैवान पड़ोसी उसके जिस्म को नोचने लगा. जिसके बाद पीड़ित किशोरी वहशी दरिंदे से भिड़ गई और उस पर खुरपे से वार कर दिया. लहूलुहान होने पर आरोपी युवक पीड़ित किशोरी को मौके पर छोड़, पास के एक नलकूप में जाकर छिप गया.

जब जल निगम का बिल चुकाने के लिए पत्‍नी के जेवर लेकर पहुंचे सपा विधायक!

पीड़िता के चीख-पुकार सुनकर आस पास के खेतों में काम कर रहे लोग भी मौके पर पहुंच गए. आरोप है कि सूचना के बाद मौके पर पहुंची पिपरी पुलिस ने नलकूप से आरोपी युवक को गिरफ्तार कर थाने ले गई.  पीड़ित किशोरी के तहरीर पर पुलिस ने रेप के प्रयास का मुकदमा दर्ज करने के बजाए मामले को टलते हुए आरोपी युवक का चालान 151 में कर दिया.

इलाहाबाद: यमुना नदी में प्रेमी युगल ने लगाई मौत की छलांग

पीड़िता का यह भी आरोप है कि थाना पुलिस ने उसे उल्टा मुकदमा में फसाने की धमकी दी है. जिसके बाद शुक्रवार को पीड़ित किशोरी अपने परिजनों के साथ पुलिस अधीक्षक के दफ्तर पहुंची और एसपी से मिलकर इंसाफ की गुहार लगाई. एसपी ने मामले की गंभीरता को देखते हुए पूरे मामले की जांच सर्किल अफसर को सौंपी है. एसपी का दावा है कि जांच रिपोर्ट आने के बाद दोषियों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाई की जाएगी.

बीजेपी विधायक अविनाश त्रिवेदी बोले- मेरे ऊपर लगे सारे आरोप बेबुनियाद
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर