लाइव टीवी
Elec-widget

कब्र से निकल कर मुर्दे ने मांगा दहेज! पुलिस ने दर्ज की एफआईआर

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 21, 2019, 5:53 PM IST
कब्र से निकल कर मुर्दे ने मांगा दहेज! पुलिस ने दर्ज की एफआईआर
दहेज उत्‍पीड़न के मामले में मुर्दे के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की यह दास्तान कोखराज थाना क्षेत्र के छीतापुर गांव की है.

दहेज उत्‍पीड़न के मामले में मुर्दे के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की यह दास्तान कोखराज थाना क्षेत्र के छीतापुर गांव की है.

  • Share this:
कौशांबी. उत्‍तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कौशांबी (Kaushambi) में 11 साल बाद कब्र से निकल कर एक मुर्दे (Dead Body) ने बहू को न केवल प्रताड़ित किया, बल्कि उससे दहेज (dowry) की मांग भी की. उत्‍तर प्रदेश की कौशां‍बी पुलिस (Police) द्वारा कोर्ट (Court) को दी गई एक रिपोर्ट (Report) कुछ यही बयां कर रही है. इसी रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने 11 साल पहले कब्रिस्‍तान में दफनाए जा चुके एक मुर्दे सहित उसके परिवार के चार सदस्‍यों के खिलाफ एफआईआर (FIR) भी दर्ज की है.

छीतापुर गांव की है यह दास्‍तां
दहेज उत्‍पीड़न के मामले में मुर्दे के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की यह दास्तान कोखराज थाना क्षेत्र के छीतापुर गांव की है. इसी गांव के मृतक सिराजुद्दीन समेत उसके परिवार के चार सदस्यों के खिलाफ पुलिस ने दहेज उत्पीड़न व मारपीट का मुकदमा दर्ज किया है. दरअसल, मृतक सिराजुद्दीन के लड़के फिरोज की शादी 7 मई 2018 को हर्रायपुर गांव के रहने वाले शकील अहमद की बेटी सूफिया बेगम के साथ हुई थी. शादी के कुछ दिन बाद फिरोज अपनी पत्नी को अपने साथ बेंगलुरु ले जाना चाहता था. इसी बात को लेकर दोनों के बीच कहा सुनी हुई, जिसके बाद पत्नी अपने मायके चली गई.

बिना पड़ताल पुलिस ने कोर्ट को दी रिपोर्ट

सूफिया बेगम ने 15 दिन पहले सीजेएम कोर्ट में एक अर्जी दाखिल की थी. जिसमें आरोप लगाया गया कि उसके पति फ़िरोज़, सास आयशा बेगम, जेठ बिक्कन उर्फ अफ़रोज़ व ससुर सिराजुद्दीन ने उससे 5 लाख रुपये दहेज की मांग की है. दहेज़ की मांग न पूरी होने पर उसके साथ मारपीट की गई और उसे घर से निकाल दिया. इस मामले में सीजेएम कोर्ट ने कोखराज थाना पुलिस से घटना के संबंध में रिपोर्ट मांगी. पुलिस ने इस मामले की जांच किए बगैर घटना से संबंधित रिपोर्ट कोर्ट को भेज दी.

कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने दर्ज की FIR
जिसके बाद, अदालत ने घटनाक्रम से जुड़े सभी आरोपियों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न, मारपीट व जान से मारने की धमकी देने का मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया. कोर्ट के निर्देशों का पालन करते हुए 15 नवंबर को कोखराज थाना पुलिस ने मृतक सिराजुद्दीन सहित चारों आरोपियों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कर लिया. मुकदमा दर्ज करने के बाद, पुलिस जब कार्रवाई के लिए गांव पहुंची तो उसे पता चला कि सिराजुद्दीन की मृत्‍यु 11 साल पहले ही हो चुकी है.
Loading...

आरोपी परिवार ने लगाए गंभीर आरोप
पुलिस ने जिस आरोपी सिराजुद्दीन के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज किया है, उसकी पत्नी आयशा बेगम बताती हैं कि उसके पति सिराजुद्दीन की मौत 11 साल पहले हो चुकी है. फिर भला वो कैसे दहेज के लिए बहू को प्रताड़ित कर सकते हैं. इतना ही नहीं, आयशा ने अपने पति का मृत्यु प्रमाणपत्र भी दिखाया, जिसमें उसके पति की मौत की तारीख 12 दिसंबर 2008 दर्शाई गई है. आरोप है कि बहू सूफिया बेगम खुद ही ससुराल में नही रहना चाहती थी. मायके जाने के बाद उसने यह धमकी भी दी थी कि अगर उसे 6 लाख रुपये नहीं दिए तो वह पूरे परिवार को झूठे मुकदमे में फंसा देगी.

अपनों पर कार्रवाई की जगह टालमटोली कर रही पुलिस
वहीं, इस पूरे मसले पर लापरवाही बरतने वाले पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई को लेकर पुलिस के आला अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहे हैं. फिलहाल घटना के बाबत, एडिशनल एसपी अशोक कुमार का कहना है कि मुकदमा कोर्ट के आदेश पर लिखा गया है. विवेचना के दौरान मृतक का नाम मुकदमे से निकाल दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें:

पीलीभीत: डेंगू से पीड़ित दुल्हन की मौत, आज होनी थी शादी
शादी के नाम पर कांस्टेबल शाहरूख ने किया 2 साल तक रेप, पीड़िता का आरोप- FIR के बाद भी एक्शन नहीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कौशाम्बी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 2:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...