Kaushambi News: कोरोना की चपेट में आए दो जज और एक पेशकार, कोर्ट तीन दिन के लिए बंद

कौशांबी जिला अदालत अब 5 अप्रैल को खुलेगी.

कौशांबी जिला अदालत अब 5 अप्रैल को खुलेगी.

यूपी की कौशांबी (Kaushambi) जिला अदालत को दो जज और एक पेशकार के कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) पाए जाने के बाद तीन दिन के लिए बंद कर दिया गया है.

  • Share this:
कौशांबी. उत्तर प्रदेश के कौशांबी (Kaushambi) में दो न्यायाधीशों और एक पेशकार के कोरोना वायरस से संक्रमित (Coronavirus Positive) पाए जाने के बाद जिला न्यायालय को तीन दिन के लिए बंद कर दिया गया है. इस बाबत कौशांबी के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर पी. एन. चतुर्वेदी ने गुरुवार को बताया कि बुधवार को न्यायालय परिसर में व्यापक स्तर पर कोविड-19 की जांच कराई गई थी जिसमें अपर सिविल जज जूनियर डिविजन वर्ग के दो न्यायाधीश और एक पेशकार में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि हुई है.

इसके साथ मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर पी. एन. चतुर्वेदी ने बताया कि एक जज और पेशकार का इलाज प्रयागराज में किया जा रहा है. जबकि एक अन्य संक्रमित जज का उपचार कौशांबी जिला अस्पताल में हो रहा है.

Youtube Video


अब 5 अप्रैल को खुलेगा जनपद न्यायालय
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर पी. एन. चतुर्वेदी के मुताबिक, कौशांबी जनपद न्यायालय को एहतियातन 1 से 3 अप्रैल तक बंद कर दिया गया है. पूरे न्यायालय परिसर को सैनिटाइज किया जा रहा है और अब जनपद न्यायालय सोमवार यानी पांच अप्रैल को खुलेगा.

बता दें कि यूपी में पिछले कई दिनों से कोरोना संक्रमण के करीब 1000 मामले रोजना आ रहे हैं. जबकि राजधानी लखनऊ समेत कानपुर, आगरा, प्रयागराज, गाजियाबाद, नोएडा, वाराणसी, मेरठ, गोरखपुर, बरेली, मुरादाबाद, झांसी, सहारनपुर, रायबरेली, उन्नाव, सुल्तानपुर, मुजफ्फरनगर, मथुरा, फिरोजाबाद और बलरामपुर कोरोना जमकर पैर पसार रहा है.

आईआईटी कानपुर के विशेषज्ञों ने दी चेतावनी



कोरोना वायरस को लेकर आईआईटी कानपुर के विशेषज्ञों की चेतावनी चिंता को बढ़ाने वाली है. विशेषज्ञों का कहना है कि पिछले साल की तुलना में इस बार कोरोना वायरस का संक्रमण कहीं ज्यादा तेज होगा. आईआईटी कानपुर के डिप्टी डायरेक्टर मणीन्द्र अग्रवाल ने गणितीय मॉडल के आधार पर चेतावनी जारी की है.आईआईटी कानपुर के साइबर सिक्यॉरिटी हब के प्रोग्राम डायरेक्टर मणींद्र अग्रवाल के अनुसार, महाराष्ट्र अगले दो हफ्ते में पीक पर होगा. मॉडल के आधार पर महाराष्ट्र में रोजाना 45-50 हजार केस आ सकते हैं. इसी तरह पंजाब रोजाना 3500 केसों के साथ पीक पर होगा. केरल में अप्रैल मध्य में केस न्यूनतम स्तर पर होंगे. दिल्ली में भी अप्रैल-मई में संक्रमण के 5-6 हजार नए केस रिपोर्ट हो सकते हैं. इसी तरह उत्तर प्रदेश अप्रैल के अंतिम हफ्ते में रोज 6 हजार केस का आंकड़ा छू सकता है. पहली लहर के चरम में यूपी में रोज करीब 7 हजार केस रिकॉर्ड किए गए थे. गोवा 300 केसों के साथ मई के पहले हफ्ते में चरम पर होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज