लाइव टीवी

खुद को आईपीएस अधिकारी बता महिलाओं से छेड़छाड़ करने वाला गिरफ्तार

भाषा
Updated: December 2, 2019, 12:05 AM IST
खुद को आईपीएस अधिकारी बता महिलाओं से छेड़छाड़ करने वाला गिरफ्तार
पुलिस उपायुक्त (दक्षिण) अतुल कुमार ठाकुर ने बताया कि यह मामला पहली बार 25 नवंबर को दक्षिणी दिल्ली के कोटला मुबारकपुर इलाके की एक महिला के शिकायत दर्ज कराने के बाद सामने आया था. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पुलिस (Police) के मुताबिक कुशीनगर निवासी गौरीशंकर महिलाओं को मोबाइल पर अश्लील संदेश और वीडियो भेजकर परेशान करता था. पुलिस ने बताया कि आरोपी महिलाओं को फोन कर खुद को आईपीएस अधिकारी (IPS officer) बताता था .

  • Share this:
नई दिल्ली. फर्जी आईपीएस अधिकारी (IPS officer) बनकर महिलाओं को फोन करके सरकारी नौकरी का प्रलोभन देकर परेशान करने वाले उत्तर प्रदेश के एक व्यक्ति को छेड़छाड़ (Eve Teasing) के मामले में रविवार को गुड़गांव के एक गांव से गिरफ्तार किया गया. दिल्ली पुलिस ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि आरोपी की पहचान उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले के रहने वाले गौरी शंकर (38) के रूप में हुई है. उसे हरियाणा के मुल्लाहेड़ा गांव से गिरफ्तार कर लिया गया. उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 354 अ के तहत (महिलाओं से छेड़छाड़) का मामला दर्ज कर लिया गया है.

वह महिलाओं को अश्लील वीडियो और संदेश भेजता था
पुलिस के मुताबिक गौरीशंकर महिलाओं को मोबाइल पर अश्लील संदेश और वीडियो भेजकर परेशान करता था. पुलिस ने बताया कि आरोपी महिलाओं को फोन कर खुद को आईपीएस अधिकारी बताता था और उन्हें सरकारी नौकरी दिलाने का प्रलोभन देता था. परिचय होने के बाद वह महिलाओं को व्हाट्सएप पर अश्लील वीडियो और संदेश भेजता था.

महीने भर से अश्लील संदेश भेजकर परेशान कर रहा था शख्स

पुलिस उपायुक्त (दक्षिण) अतुल कुमार ठाकुर ने बताया कि यह मामला पहली बार 25 नवंबर को दक्षिणी दिल्ली के कोटला मुबारकपुर इलाके की एक महिला के शिकायत दर्ज कराने के बाद सामने आया था. महिला ने पुलिस को सूचना दी थी कि एक व्यक्ति करीब महीने भर से उसे अश्लील संदेश और अश्लील वीडियो भेजकर परेशान कर रहा है. वह उसे अक्सर फोन कर के गालियां देता था.

गुजरात के आनंद जिले के पते पर लिया गया था मोबाइल सिम कॉर्ड
पुलिस उपायुक्त ने कहा कि जब पुलिस ने फोन नंबर पर संपर्क किया तो फोन उठाने वाले व्यक्ति ने खुद को आईपीएस अधिकारी बताया. उपायुक्त ने कहा, जांच के दौरान यह पाया गया कि उस व्यक्ति ने एक फर्जी आईडी पर नंबर खरीदा था या किसी और के नंबर का इस्तेमाल कर रहा था. यह नंबर गुजरात के आनंद जिले के पते पर लिया गया है. पुलिस के मुताबिक गौरीशंकर से पीड़ित अधिकांश महिलाएं उत्तर प्रदेश और हरियाणा से हैं.उसके पास थे कई अनजान लोगों के फोन नंबर
गिरफ्तार होने के बाद आरोपी ने पुलिस को बताया कि कुशीनगर में उसकी सिम कार्ड बेचने की दुकान थी जिसकी वजह से उसके पास कई अनजान लोगों के फोन नंबर थे. चार साल पहले एक दुर्घटना के बाद उसे अपनी दुकान बंद करनी पड़ी. उसके बाद वह दिल्ली में एक सुरक्षा गार्ड की नौकरी करने लगा. वह खुद को उत्तर प्रदेश का वरिष्ठ पुलिस अधिकारी बता महिलाओं को फोन करने लगा. गौरीशंकर 2010 में कुशीनगर में हुए दंगों में संलिप्त था. वह शादीशुदा है और उसके दो बच्चे भी हैं. पुलिस का कहना है कि वे आरोपी से पीड़ित दूसरी महिलाओं से संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं.

ये भी पढे़ं - 

हनीट्रैप मामला: ऑडियो और वीडियो जारी करने वाले मीडिया संस्थान के मालिक पर केस

शेल्टर होम केस: 'ब्रजेश ने सरकारी पैसे को निजी हित के लिए ट्रांसफर किया था'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कुशीनगर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 1, 2019, 11:43 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर