कुशीनगर मस्जिद ब्लास्ट: मास्टरमाइंड हाजी कुतुबुद्दीन गोरखपुर और अशफाक हैदराबाद से गिरफ्तार

कुशीनगर मस्जिद में ब्लास्ट मामले में पुलिस ने गोरखपुर से मास्टरमाइंड हाजी कुतुबुद्दीन को गिरफ्तार कर लिया है. (Photo- इसी मस्जिद में हुआ था धमाका)

मामले में एटीएस लखनऊ के साथ वाराणसी आईबी की टीम पहुंच गई है. अब दोनों आरोपियों को आमने-सामने बिठाकर पूछताछ करने की तैयारी हो रही है.

  • Share this:
    कुशीनगर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कुशीनगर (Kushinagar) में मस्जिद में विस्फोट (Blast in Mosque) मामले में पुलिस ने मास्टरमाइंड हाजी कुतुबुद्दीन (Mastermind Haji Qutubuddin) को गोरखपुर (Gorakhpur) से गिरफ्तार किया है. पुलिस के अनुसार मास्टरमाइंड हाजी कुतुबुद्दीन ने ही मस्जिद में विस्फोटक रखा था. विस्फोट के बाद वो फरार हो गया था. जानकारी के अनुसार हाजी कुतुबुद्दीन ने इसी साल अप्रैल में मऊ से तीन साथियों के साथ इस विस्फोटक को लाकर कुशीनगर की मस्जिद में रखा था. हाजी कुतबुद्दीन की गिरफ्तारी के बाद सुरक्षा एजेंसियां उससे पूछताछ करने में जुट गई हैं.

    वहीं सूत्रों के मुताबिक एटीएस (ATS) ने मामले में दूसरे आरोपी अशफाक (Ashfaq) को हैदराबाद (Hyderabad) से गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि अशफाक मास्टरमाइंड हाजी कुतबुद्दीन का पोता है. अब दोनों आरोपियों को आमने-सामने बिठाकर पूछताछ करने की तैयारी हो रही है. मामले में एटीएस लखनऊ के साथ वाराणसी आईबी की टीम पहुंच गई है.

    कुशीनगर और बिजनौर ब्लास्ट में आतंकी कनेक्शन ढूंढ़ रही एटीएस

    बता दें कि उत्तर प्रदेश पुलिस की एंटी टेरेरिस्ट स्क्वॉड (UP ATS) कुशीनगर (Kushinagar) और बिजनौर (Bijnor) में हुए ब्लास्ट (Blast) केस में आतंकी कनेक्शन (Terrorist Connection) की तलाश में जुटी है. मामले में कुशीनगर मस्जिद (Mosque) से मिले विस्फोटक के नमूने फॉरेंसिक लैब, आगरा (Forensic Lab, Agra) भेजे गए हैं. वहीं बिजनौर में मिले विस्फोटक की भी फारेंसिक जांच कराई जाएगी. सूत्रों के अनुसार मेरठ (Meerut) और बिजनौर के कुछ युवकों से इस संबंध में पूछताछ हो रही है.

    11 नवंबर को कुशीनगर की मस्जिद में हुआ धमाका
    बता दें कि 11 नवंबर को कुशीनगर जिले के तुर्कपट्टी थाने में बैरागी पट्टी गांव की मस्जिद में विस्फोट होने से हड़कंप मच गया. पहले स्थानीय पुलिस इसे बैट्री से विस्फोट बताती रही, लेकिन बाद में मस्जिद में विस्फोटक पदार्थ होने की पुष्टि हुई. मामले में मस्जिद के मौलवी सहित सात लोगों पर केस दर्ज किया गया. इनमें से आरोपी मौलवी सहित चार लोग गिरफ्तार कर जेल भेज दिए गए हैं. वहीं मुख्य आरोपी हाजी कुतुबुद्दीन सहित तीन लोग फरार चल रहे थे. एटीएस और बम निरोधक दस्ते ने निरीक्षण किया, जिसमें विस्फोटक से धमाका होने की बात सामने आई है. ये लो ग्रेड विस्फोटक पदार्थ बताया जा रहा है. आशंका है कि इसे हथगोला बनाने के लिए मस्जिद में रखा गया था.

    बिजनौर में 12 नवंबर को मकान में विस्फोट, चोर की मौत
    वहीं बिजनौर में 12 नवंबर की रात को बंद पड़े एक मकान में ताला तोड़कर घुसा चोर उस वक्त बुरी तरह झुलस गया, जब कमरे में रखे विस्फोटक में ब्लास्ट हो गया. गंभीर रूप से जख्मी चोर को पुलिस ने अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां से उसे मेरठ रेफर कर दिया गया. इलाज के दौरान चोर की मौत हो गई थी.

    पता चला कि बिजनौर जिले के बास्टा इलाके में मंगलवार रात बंद पड़े मकान का ताला तोड़कर एक चोर चोरी के इरादे से घर में घुस गया. जिस कमरे में चोर घुसा था उस कमरे में पोटाश गंधक विस्फोटक सामग्री रखी थी. कमरे में तोड़फोड़ होने की वजह से कमरे में विस्फोट हो गया. विस्फोट इतना भयंकर था कि चोर करीब 80 फीसदी तक झुलस गया. धमाके की आवाज सुनकर मौके पर पहुंचे ग्रामीणों व पुलिस ने चोर को आनन-फानन में अस्पताल पहुंचाया.

    कुशीनगर और बिजनौर केस में लिंक ढूंढ रही एटीएस
    विस्फोट इतना भयंकर था कि आसपास के घरों के अलावा जो मुख्य घर था, उसमें भी विस्फोट से जहां-तहां दरारें साफ तौर से देखी जा सकती है. उधर मामले में एसपी संजीव त्यागी ने कहा कि चोर अपने साथ देसी बम लाया था. बम के फटने से चोर की मौत हुई. मौके पर फोरेंसिक और डॉग स्क्वाड की टीम जांच कर रही है. लेकिन एटीएस इस विस्फोट को गंभीरता से ले रही है और कुशीनगर व बिजनौर धमाके मामले में आतंकी लिंक ढूंढने की कोशिश कर रही है.

    (रिपोर्ट: अशोक कुमार शुक्ला)

    ये भी पढ़ें:

    कुशीनगर मस्जिद और बिजनौर ब्लास्ट में आतंकी कनेक्शन की तलाश में UP ATS

    मस्जिद में विस्फोट से हड़कंप, 4 आरोपी गिरफ्तार, UP ATS मौलवी से कर रही पूछताछ