'मायावती ने अखिलेश से मोटी रकम लेकर बेच दिया अपना हाथी'

उत्‍तर प्रदेश सरकार में मंत्री स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि मायावती ने बाबा साहब के मिशन को बेच दिया और कांशीराम के मिशन को दफना दिया है.

Ashok Shukla | News18 Uttar Pradesh
Updated: May 13, 2019, 6:46 PM IST
Ashok Shukla | News18 Uttar Pradesh
Updated: May 13, 2019, 6:46 PM IST
'हाथी वालों का हाथी गायब है. ईवीएम में हाथी नहीं मिलेगा, क्योंकि मायावती ने अखिलेश से मोटी रकम लेकर हाथी बेच दिया है. वहीं, अखिलेश ने मायावती का हाथी सैफई में बंधवा दिया है.' ये कहना है यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य का. कुशीनगर के बेलवनिया चौराहे पर आयोजित नुक्कड़ सभा में बोलते हुए मंत्री जी ने मायावती और अखिलेश पर निशाना साधा.

स्वामी प्रसाद मौर्य ने आगे कहा कि जो लोग मायावती के चक्कर में फंसे हैं वो भाजपा में आ जाएं. उन्होंने सपा की तुलना गुंडों की पार्टी से करते हुए कहा कि गरीबों को घर से निकालने वाली सपा सरकार है. गलती से भी सांप को पड़कर दूध पिलाने की कोशिश मत कर देना. सपा की लाठी मजबूत होगी तो वो लाठी गरीबों की पीठ पर ही गिरोगी. इसलिए सपा को दफन करने की कसम खाओ. मायावती ने लोकतंत्र को व्यापारियों की मोटी-मोटी तिजोरियों में बंद कर दिया. मायावती ने बाबा साहब के मिशन को बेच दिया. कांशीराम के मिशन को दफना दिया. मायावती चौबीस घंटे भ्रष्टाचार के समंदर में गोता लगाती हैं.



स्वामी प्रसाद मौर्य यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा कि जो मायावती सपा के ऊपर जानलेवा हमला करने का आरोप लगाती रही हैं. आज उससे गठबंधन किया है तो कुछ राज की बात तो जरूर है. राजस्थान के अलवर में हुई घटना पर मोदी के सवाल पर मायावती द्वारा बयान दिए जाने के मसले पर उन्होंने कहा कि मायावती स्वयं महिला हैं और महिलाओं के विषय में सही उत्तर न देकर अनाप-शनाप बोलती हैं. इससे मायावती का असली चोहरा उजागर होता है.

फरार हुआ गठबंधन का प्रत्याशी, रेप का है आरोप, अब लोग परेशान किसे करें वोट

स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि मायावती दलितों, गरीबों की हमदर्द बनती हैं, लेकिन उनपर जब भी कोई मुसीबत आती है तो वह अपने महल से नहीं निकलती हैं. अखिलेश पर हमलावर स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि इस चुनाव में सपा और बसपा शून्य पर आउट होने जा रही है. इतना ही नहीं अखिलेश यादव स्वयं चुनाव हारने जा रहे हैं. इन दोनों के साथ अगर राहुल गांधी भी आ जाएं तो इनका सूपड़ा साफ होना तय है.

पीएम मोदी के खिलाफ नामांकन से लेकर मैदान छोड़ने तक, जानिए अतीक अहमद की पूरी कहानी
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार