लापरवाही: कुशीनगर पुलिस ने मासूम के शव को बिना सील किए ही भेज दिया पोस्टमॉर्टम हाउस

बिना सील डेडबॉडी लेकर पोस्टमॉर्टम हाउस पहुंची कुशीनगर पुलिस (Photo: News 18)
बिना सील डेडबॉडी लेकर पोस्टमॉर्टम हाउस पहुंची कुशीनगर पुलिस (Photo: News 18)

कुशीनगर (Kushinagar) के रामकोला थाने की पुलिस ने गन्ने के खेत में हत्या करके फेंके गए मासूम बच्चे के शव को बिना सील किए ही पोस्टमार्टम हाउस भेज दिया. शव को एसओ की गाड़ी से बाहर निकाला गया तो वहां शव बाहर लटक रहा था.

  • Share this:
कुशीनगर. उत्तर प्रदेश के कुशीनगर (Kushinagar) में पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आई है. यहां जिले के रामकोला थाने (Ramkola Police Station) की पुलिस ने एक मासूम के शव को बिना सील किए ही पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. हैरानी की बात यह है कि रामकोला थाने में मासूम का शव लगभग 3 घंटे तक रहा लेकिन पुलिस ने उसे सील करने की जहमत तक नहीं उठाई. बिना सील किए शव को गाड़ी में लादकर पोस्टमार्टम हाउस पर ले जाने की घटना ने पुलिस के शर्मनाक चेहरे को उजागर किया है. एसओ की गाड़ी में मासूम को शव पोस्टमार्टम हाउस लेकर पुलिसकर्मी पहुंचे तो वहां मासूम के परिजन दहाड़ मारकर रोने लगे. पुलिस ने शव को बाहर निकाला तो उसका पैर बाहर लटक रहा था. इस गंभीर मामले पर कोई अधिकारी बोलने को तैयार नहीं है.

गनने के खेत में मिला था मासूम का शव

कुशीनगर के रामकोला थाने की पुलिस ने गन्ने के खेत में हत्या करके फेंके गये मासूम बच्चे के शव को बिना सील किए ही पोस्टमार्टम हाउस भेज दिया. पोस्टमार्टम हाउस पर जब मासूम के शव को एसओ की गाड़ी से बाहर निकाला गया तो वहां शव बाहर लटक रहा था. इस तरह की लापरवाही करके रामकोला पुलिस ने परिजनों को फिर से रोने पर मजबूर कर दिया.




ग्राम प्रधान पर हत्या का आरोप

दरअसल रामकोला थाने भठहीं बुजुर्ग के विशुनपुरा टोला में घर से खेलने के लिए निकले आठ ‌वर्षीय मासूम के शव बरामद हुआ था, जिसके बाद परिजनों ने हंगामा करते हुए ग्राम प्रधान पर हत्या करने का आरोप लगाया था. आनन-फानन में पहुंची रामकोला पुलिस शव को बिना सील किये ही थाने पर लेकर चली आई.

3 घंटे थाने में रखा रहा शव, फिर जीप में लादा गया

थाने में मासूम का शव लगभग 3 घंटे तक रहा. वहां भी पुलिस ने शव को सील नहीं किया. बाद में बिना सील किए ही शव को एसओ की गाड़ी में लेकर पुलिसकर्मी पोस्टमार्टम हाउस पर पहुंच गये. इस गंभीर मामले पर पुलिस विभाग का कोई अधिकारी बोलने को तैयार नहीं है. रामकोला थाने के एसओ ने फोन पर बताया कि थाने से शव को सील करके भेजा गया गया था लेकिन सवाल यह है कि अगर थाने से शव को सील करके भेजा गया था तो शव खुल कैसे गया?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज