नए आइडिया से बिहार में सप्लाई के लिए ले जायी जा रही थी अंग्रेजी शराब, ड्राइवर और सहायक गिरफ्तार

शराबबंदी के बाद बिहार में बढ़ी है मांग, हरियाणा पंजाब से तस्कर आलू, प्याज, चावल लदे ट्रक में शराब की पेटियां छुपाकर बिहार सप्लाई करते रहते हैं

News18 Uttar Pradesh
Updated: May 22, 2018, 9:16 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: May 22, 2018, 9:16 PM IST
बिहार में नीतीश राज में भले ही शराबबंदी हो पर अंतरराज्यीय शराब माफिया बिहार में शराब बेचकर अवैध तरीके से पैसा कमाना चाहते थे. बिहार में शराब पहुंचाने के लिए माफिया नए-नए आइडिया पर काम करते रहते थे. यूपी के लखीमपुर खीरी जिले की पुलिस ने माफियाओं का प्लान फेल कर दिया.

लखीमपुर खीरी पुलिस ने अंग्रेजी शराब की बड़ी खेप बरामद की है. पता चला है कि शराब की इस खेप को बिहार भेजने की योजना थी. चावल लदे ट्रक में छिपाकर अंग्रेजी शराब की बड़ी खेप हरियाणा के करनाल से बिहार ले जाई जा रही थी. अभी कुछ दिन पहले भी खीरी जिले से सटे हरदोई जिले में भी एक ट्रक शराब प्याज लदे ट्रक से बरामद हुई थी.

पसगवां इलाके से ही पकड़े गए ड्राइवर ने पुलिस की पूछताछ में कबूला है कि शराब की खेप बिहार के मधुबनी में उतारी जानी थी. शराब तस्करों का नेटवर्क खीरी जिले के एक सफेदपोश से भी जुड़ा बताया जा रहा है. शराब हरियाणा के करनाल से सिलीगुड़ी जा रहे चावल लदे ट्रक में छुपाई गई थी. मुखबिर की सूचना पर मोहम्मदी एसडीएम भगवानदीन वर्मा और सीओ विजय आनन्द ने छापा मारकर ट्रक को पकड़ लिया.

बताया जा रहा कि बिहार में शराब बंदी के बाद से शराब की मांग बहुत है. हरियाणा, पंजाब से तस्कर आलू, प्याज, चावल लदे ट्रक में शराब की पेटियां भरकर ले जाते हैं. ड्राइवर और सहायक को पुलिस ने गिरफ्तार कर जांच शुरू कर दी है. ड्राइवर खीरी जिले के मैजलगंज के खखरा गांव का है. इन तस्करों के तार खीरी के मैगलगंज इलाके से भी जुड़े बताए जा रहे हैं.

एक सफेदपोश नेता के रैकेट में शामिल होने का भी पुलिस को शक है. करीब छह महीने पहले भी मैजलगंज इलाके से बिहार भेजी जा रही एक ट्रक शराब बरामद हुई थी. पुलिस ने ट्रक से 400 से ज्यादा पेटी अंग्रेजी शराब और 1200 बोरी चावल बरामद किया है. एसपी रामलाल वर्मा ने बताया कि अभी यह पता लगाया जा रहा है कि इस शराब के अंतरराज्यीय गैंग में कौन-कौन शामिल है. पूछताछ चल रही है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर