Lakhimpur Kheri news

लखीमपुर खेरी

अपना जिला चुनें

हाथी, टाइगर और वाइल्ड बोर से निपटने के लिए किसान ने बनाई बंदूक, कर रही कमाल

लखीमपुर के किसान ने टाइगर और हाथी से निपटने के लिए गन बनाई है.

लखीमपुर के किसान ने टाइगर और हाथी से निपटने के लिए गन बनाई है.

किसान दुधवा टाइगर रिजर्व (Dudhwa Tiger Reserve) से निकलकर खेतों में आ रहे जंगली जानवरों को भगाने के लिए एक अनोखी बंदूक का इस्तेमाल कर रहा है. इसे लोग खासा पसंद कर रहे हैं.

SHARE THIS:
लखीमपुर खीरी. कहते हैं आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है. कुछ इसी तरीके का आविष्कार लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में एक किसान ने किया है. यह किसान दुधवा टाइगर रिजर्व (Dudhwa Tiger Reserve) से निकलकर खेतों में आ रहे जंगली जानवरों को भगाने के लिए एक अनोखी बंदूक का इस्तेमाल कर रहा है. इसे लोग खासा पसंद कर रहे हैं.

मामला लखीमपुर खीरी के दुधवा की तलहटी का है. दुधवा टाइगर रिजर्व 1084 वर्ग किलोमीटर में फैला है. दुधवा टाइगर रिजर्व की बफर जोन में बड़ी मात्रा में खेती की जाती है. अक्सर जंगल से बाहर निकलने वाले जानवर किसानों के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं. इस इलाके में बड़े पैमाने पर गन्ना, मक्का, गेहूं, धान की खेती की जाती है. जंगल से निकलने वाले हाथी, वाइल्ड बोर, हिरण, पाड़ा तमाम जानवर खेतों में आकर किसानों का भारी नुकसान करते हैं.

साथ ही इनके पीछे-पीछे टाइगर भी अक्सर खेतों में आ जाते हैं और किसानों पर हमला कर देते हैं. इन सब परेशानियों को देखते हुए एक किसान ने एक अनोखी प्लास्टिक की बंदूक बनाई है. इस बंदूक को बनाने में महज ₹200 का खर्च आता है. एक बंदूक से किसी तरीके का जंगली जानवरों को नुकसान नहीं होता है और इसके चलाने पर तेज आवाज होती है, जिससे डरकर कर जंगली जानवर वापस जंगल की तरफ चले जाते हैं और किसानों की फसल बच जाती है.

बलिया की ममता राय के नाम पर मऊ में टीचर थी रम्भा पांडेय, मामला खुला तो हुई फरार, FIR दर्ज

बस इन चीजों से बन जाती है बंदूक

एक बंदूक बनाने के लिए प्लास्टिक के बने पाइप, एक घर में इस्तेमाल होने वाला लाइटर और बाजार में आसानी से उपलब्ध होने वाले कार्बेट का इस्तेमाल किया जाता है.



किसान को यहां से आया आइडिया

किसान कन्हैया लाल ने न्यूज़ 18 से बातचीत में ताया अक्सर जंगल से निकले जंगली जानवर खेतों के नुकसान कर देते थे, जिससे इनको आर्थिक और मानसिक रूप से काफी परेशानी का सामना करना पड़ता था. एक दिन वह एक वेल्डिंग की दुकान पर बैठे हुए थे. उन्होंने कार्बेट से वेल्डिंग होते समय एक पटाखे की आवाज उस मशीन से सुनी तो उन्होंने उसको देखकर इस बंदूक को बनाने का आइडिया दिमाग में आया.

कोरोना संक्रमण के चलते 48 घंटे प्रभावित रहेगी यूपी 112 सेवा, कॉल न मिले तो यहां करें संपर्क

जानवरों को भी कोई नुकसान नहीं

उन्होंने सोचा कि अगर एक प्लास्टिक के पाइप में डालकर कार्बेट की गैस में अगर लाइटर से स्पार्क किया जाए तो तेज आवाज होती है और इस बंदूक के लिए न ही किसी तरह की लाइसेंस की जरूरत है, न ही जंगली जानवरों को नुकसान होता है. किसान का मानना है कि जंगली जानवर प्रकृति का दिया हुआ मनुष्य के लिए एक तोहफा हैं. इनको नुकसान नहीं किया जाना चाहिए और बिना नुकसान के फसल कोई भी बचाया जा सकता है. जबसे उन्होंने इस बंदूक का निर्माण किया है उसके बाद से उनकी फसल को किसी तरह का नुकसान नहीं हो रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

UP Monsoon Update: बंगाल की खाड़ी में बन रहा चक्रवाती तूफान, 15 अगस्त को पूर्वी यूपी में भारी बारिश की संभावना

UP: मौसम विभाग ने बारिश को लेकर ताजा अनुमान जारी किया है. (सांकेतिक तस्वीर)

UP Weather: अगले 5 दिनों के मौसम का अनुमान जारी करते हुए मौसम विभाग ने बताया है कि पूर्वी यूपी के ज्यादातर जिलों में हल्की से मध्यम बारिश जारी रहेगी. बारिश का ज्यादा जोर नेपाल से सटे जिलों में यानी तराई के इलाके में देखने को मिल सकता है.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में बारिश का दौर फिलहाल थमने वाला नहीं है. मौसम विभाग (Meteorological Department) के ताजा अनुमान के मुताबिक पूर्वांचल और तराई के 20 से ज्यादा जिलों में अगले कुछ घंटों में बारिश (Rainfall) की संभावना है. चिंताजनक बात यह है कि इनमें से ज्यादातर जिले पहले ही बाढ़ से प्रभावित हैं. ऐसे में लगातार बनी बारिश की संभावना से हालात और बदतर होने की आशंका है.

मौसम विभाग के ताजा अनुमान के मुताबिक पीलीभीत, लखीमपुर खीरी, बहराइच, श्रावस्ती, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, गोंडा, अयोध्या, बस्ती, सुल्तानपुर, आजमगढ़, अंबेडकर नगर, जौनपुर, प्रतापगढ़, गाजीपुर, मऊ, बलिया, देवरिया, गोरखपुर, संत कबीर नगर और महाराजगंज में बारिश की संभावना बनी हुई है. इन जिलों में मध्यम से हल्की बारिश का अनुमान है. तेज बारिश की संभावना फिलहाल नहीं दिखाई दे रही है.

अगले 5 दिनों के मौसम का अनुमान जारी करते हुए मौसम विभाग ने बताया है कि पूर्वी यूपी के ज्यादातर जिलों में हल्की से मध्यम बारिश जारी रहेगी. बारिश का ज्यादा जोर नेपाल से सटे यानी तराई के जिलों में देखने को मिल सकता है. पश्चिमी यूपी में बारिश की संभावना कम दिखाई दे रही है. बुंदेलखंड में भी व्यापक बारिश की संभावना फिलहाल नहीं दिखाई दे रही है. हालांकि, पूर्वी यूपी के लगभग सभी जिलों में बादल छाए रहेंगे और मौसम खुशनुमा बना रहेगा.

मौसम विभाग के आकलन के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में एक चक्रवाती तूफान बन रहा है. अगले 48 घंटे में इसका असर देखने को मिल सकता है. अभी तक के मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक 15 अगस्त को पूर्वी यूपी में भारी बारिश की संभावना जताई गई है. यदि ऐसा होता है तो पूर्वी यूपी में बाढ़ के हालात और बिगड़ सकते हैं. इसके बाद बारिश की तीव्रता में थोड़ी कमी देखने को मिल सकती है.

चौबीस घंटे में गोरखपुर में सबसे ज्यादा बारिश
बारिश की बात करें तो पिछले 24 घंटे में प्रदेश के 9 जिलों में बारिश दर्ज की गई है. सबसे ज्यादा बारिश गोरखपुर में 36.1 मिलीमीटर दर्ज की गई है. बलिया और बहराइच में 9 मिलीमीटर, चुर्क में 3, अयोध्या में 4 जबकि सुल्तानपुर में 2.4 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई.  इसके अलावा लखीमपुर खीरी, बनारस और रायबरेली में बहुत मामूली बारिश हुई है.

ज्यादातर शहरों का अधिकतम तापमान 35 डिग्री
उत्‍तर प्रदेश के ज्यादातर शहरों में दिन का अधिकतम तापमान 35 डिग्री सेल्सियस या इससे नीचे ही दर्ज किया गया. रात का तापमान 24 से 28 डिग्री सेल्सियस के बीच दर्ज किया गया है. वैसे तो पश्चिमी यूपी में ज्यादा बारिश नहीं हो रही है, लेकिन फिर भी तापमान में बढ़ोतरी देखने को नहीं मिल रही है. जिन जिलों में बादल छाए हैं, लेकिन बारिश नहीं हो रही है वहां उमस की समस्या झेलनी पड़ रही है.

UP Election 2022: BJP ने नए मंत्रियों को लेकर की बड़ी प्‍लानिंग, 16 अगस्‍त से शुरू होगा खास अभियान

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ हुई बैठक में शामिल यूपी बीजेपी के महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ला ने नई योजना के बारे में जानकारी दी है. (फाइल फोटो)

UP News: यूपी बीजेपी के महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ला ने कहा कि उत्तर प्रदेश में जन आशीर्वाद यात्रा बीजेपी संगठन के सभी छह क्षेत्रों के जिलों को कवर करेगी, जहां केंद्रीय मंत्रियों के साथ स्थानीय विधायक और सांसद भी हिस्सा लेंगे.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election) को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल नए मंत्रियों की जन आशीर्वाद यात्रा (Jan Ashirwad Yatra) शुरू कर रही है. यूपी में यह यात्रा 16 अगस्त को शुरू होगी. दिल्ली में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) के साथ हुई बैठक में शामिल यूपी बीजेपी के महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ला ने कहा कि प्रदेश में यह यात्रा बीजेपी संगठन के सभी 6 क्षेत्रों के जिलों को कवर करेगी. इसमें स्थानीय विधायक और सांसद भी हिस्सा लेंगे.

गोविंद नारायण शुक्‍ला ने कहा कि उत्त प्रदेश में ये यात्रा 19 अगस्त तक चलेगी. सभी मंत्रियों का रूट तैयार कर दिया गया है. इसके लिए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष और महामंत्री संगठन सुनील बंसल पहले ही मंथन कर चुके हैं.

गौरतलब है कि यूपी विधानसभा चुनाव के लिहाज से केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार में 7 मंत्रियों को शामिल किया गया, जिसमें बीजेपी कोटे से पंकज चौधरी, भानु प्रताप वर्मा, बीएल वर्मा, कौशल किशोर, एसपी सिंह बघेल और अजय मिश्र रहे. वहीं, अपना दल (एस) से अनुप्रिया पटेल को मंत्री बनाया गया. सातों नए मंत्री का चयन करने में जातिगत समीकरण और क्षेत्रीय संतुलन बनाने का ख्याल रखा गया. जन आशीर्वाद यात्रा के तहत अब सातों मंत्री अपने-अपने क्षेत्रों में सीधे न जाकर जन आशीर्वाद यात्रा करते हुए क्षेत्र में पहुंचेंगे.

UP Chunav 2022: टीम मोदी में शामिल यूपी के इन 6 सांसदों के साथ BJP ने बनाया बड़ा प्लान

बीजेपी के संगठनात्मक क्षेत्रों में से एक गोरखपुर क्षेत्र से महाराजगंज के सांसद पंकज चौधरी को मंत्री बनाया गया. पूर्वांचल में पिछड़ों में कुर्मी समुदाय भी यादवों की तरह सियासी तौर पर काफी ताकतवर है, जिस पर सभी पार्टियों की नजर रहती है. पंकज चौधरी छह बार के सांसद हैं और पूर्वांचल के कुर्मी समाज के बीच उनकी अच्छी पैठ मानी जाती है.

काशी क्षेत्र से अपना दल (एस) की अनुप्रिया पटेल को मंत्रिमंडल में जगह मिली. अनुप्रिया भी ओबीसी वर्ग के कुर्मी समुदाय से आती हैं. भाजपा ने अनुप्रिया को शामिल कर सहयोगी दलों के साथ-साथ यूपी के बड़े वोट वैंक को मजबूती के साथ जोड़े रखने का दांव चला है. मौजूदा समय में यूपी में कुर्मी समाज के बीजेपी के 6 सांसद और 26 विधायक हैं.

ब्रज क्षेत्र से दो मंत्री बनाए गए. इनमें आगरा के सांसद एसपी बघेल को मंत्रिमंडल में जगह मिली. ये अनुसूचित जाति से आते हैं. हालांकि, उन्हें पाल जाति से माना जाता है. बघेल समाज यूपी में अति पिछड़ी जाति में आती है, जिसका बृज के क्षेत्र में मजबूत सियासी आधार है. वे अपनी यात्रा से पाल और बघेल समुदाय को सियासी संदेश देने की कोशिश करेंगे.

पीएम मोदी ने अपनी कैबिनेट में ओबीसी से आने वाले बदायूं के बीएल वर्मा को भी शामिल किया. बीएल वर्मा ओबीसी के लोधी समाज से आते हैं. यूपी में लोध समुदाय लगभग 3 फीसदी है, लेकिन जिन इलाके में है, वहां पर जीतने की ताकत रखता है. खासकर मुलायम सिंह की बेल्ट में लोध वोटर ही बीजेपी का सियासी आधार है. और इस यात्रा से उस समाज के लिए संदेश रहेगा. आशीर्वाद यात्रा बृज क्षेत्र से लेकर रुहेलखंड और बुलंदेखंड तक के लोधी समुदाय के लिए संदेश होगा जो बीजेपी के लिए ट्रंप कार्ड साबित हो सकते हैं.

वहीं, अवध क्षेत्र में लखनऊ के मोहनलालगंज सीट से सांसद कौशल किशोर और लखीमपुर के सांसद अजय मिश्र को मंत्री बनाया गया. कौशल किशोर दलित वर्ग के पासी समुदाय से आते हैं, जो अवध और पूर्वांचल में सियासी तौर पर काफी महत्वपूर्ण माने जाते हैं. दलितों में जाटव-चमार के बाद सबसे बड़ी आबादी पासी समुदाय की है.

लखनऊ, बाराबंकी, हरदोई, रायबरेली, अमेठी, कौशांबी बहराइच, उन्नाव में पासी वोटर निर्णायक भूमिका में है. यूपी की सियासत में ब्राह्मण वोटर भी काफी निर्णायक है, जिसे देखते हुए लखीमपुर खीरी से सांसद अजय मिश्र को मंत्री भी बनाया गया और आशीर्वाद यात्रा में ब्राह्मणों के लिए संदेश देते हुए लखनऊ से लखीमपुर तक जाएंगे.

मोदी कैबिनेट में दलित समुदाय से आने वाले भानु प्रताप वर्मा कानपुर क्षेत्र से हैं. ये जालौन जैसे पिछड़े जिले से आते हैं और 30 साल से बुंदेलखंड में बीजेपी का झंडा बुलंद किए हैं. भानु प्रताप वर्मा जालौन से पांच बार के सांसद हैं. भानु प्रताप वर्मा बीजेपी के अनुसूचित मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रह चुके हैं और वे दलितों में कोरी समाज से आते हैं. यूपी में बुंदेलखंड और कानपुर के बेल्ट में कोरी समुदाय काफी अहम भूमिका में है. ऐसे आशीर्वाद यात्रा से क्षेत्रीय और जातीय समीकरण को दुरुस्त करना बीजेपी का लक्ष्य है.

UP: हिरण के बच्चे को निगलने के बाद गन्ने के खेत में जा बैठा अजगर, देखने के लिए उमड़ी भीड़

उसे ले जाकर दुधवा के जंगल में सुरक्षित छोड़ दिया गया. (सांकेतिक फोटो)

दुधवा टाइगर रिजर्व (Dudhwa Tiger Reserve) के जंगल से सटे एक गन्ने के खेत में विशालकाय अजगर पाया गया है. जब गांव वालों ने उसे पहली बार देखा तो वह हिरन के एक बच्चे निगल रहा था.

SHARE THIS:
लखीमपुर खीरी. उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. यहां के संपूर्णानगर थाना क्षेत्र स्थित बसई गांव (Basai Village) में एक विशालकाय अजगर मिला है. खास बात यह है कि इस अजगर (Python) ने हिरण के एक बच्चे को अपना निवाला बना लिया. इसके बाद वह गन्ने खेत में आराम फरमाने लगा. लेकिन जब ग्रामीणों ने अजगर को देखा तो उनके होश उड़ गए. इसके बाद जंगल की आग की तरह यह बात पूरे गांव में फैल गई. फिर देखते ही देखते अजगर को देखने के लिए खेत पर लोगों की भीड़ जुट गई. लोग उसकी तस्वीर लेने लगे.

जानकारी के मुताबिक, दुधवा टाइगर रिजर्व के जंगल से सटे एक गन्ने के खेत में विशालकाय अजगर पाया गया है. जब गांव वालों ने उसे पहली बार देखा तो वह हिरन के एक बच्चे निगल रहा था. इससे ग्रामीणों के होश उड़ गए. इसके बाद ग्रामीणों ने गन्ने के खेत में हिरण के बच्चे को निगल कर बैठे अजगर की जानकारी वन विभाग और दुधवा नेशनल पार्क के अधिकारियों को दी. फिर, मौके पर पहुंचे दुधवा टाइगर रिजर्व और वन विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों ने देखा तो गन्ने के खेत में करीब डेढ़ कुंतल वजन का अजगर बैठा हुआ था. इसके बाद उसको पकड़ने की कोशिश शुरू की गई. कहा जा रहा है कि मौके पर पहुंचे वन विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों को अजगर को पकड़े में पसीने छूट गए. करीब 2 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद अजगर को पकड़ा गया. इसके बाद उसे एक ड्रम में बंद कर दिया गया. फिर उसे ले जाकर दुधवा के जंगल में सुरक्षित छोड़ दिया गया.

तेजी से वायरल हो रहा था
बता दें कि पिछले साल रामपुर (Rampur) के मिलक इलाके के सिहारी गांव में मंदिर के पास सड़क पर एक अजगर ने किसी जानवर को निगल लिया था. फूले पेट के बाद वह वहीं आराम फरमाने लगा. देखते-देखते वहां ग्रामीणों की भीड़ लग गई. बाद में वन विभाग ने अजगर को ट्रैक्टर-ट्रॉली में लादकर डंडिया वन में छोड़ दिया था. इस दौरान मौजूद भीड़ में से एक शख्स ने वीडियो बना लिया. ये वीडियो सोशल मीडिया (Viral Video) में तेजी से वायरल हो रहा था.

Lakhimpur Kheri: तस्करों से दुर्लभ प्रजाति का सांप बरामद, कीमत सुनकर उड़ जाएंगे होश

Lakhimpur Kheri: दुर्लभ राजति के दोमुहां सांप के साथ चार तस्कर गिरफ्तार

Lakhimpur Kheri News: पुलिस को सूचना मिली थी कि दुर्लभ प्रजाति के रेड सैंड बोआ सांप को कुछ तस्कर बेचने की फिराक में हैं, जिसके बाद हरकत में आई पुलिस ने काकोरी तिराहे पर छापा मारकर 4 लोगों को गिरफ्तार किया.

SHARE THIS:
लखीमपुर खीरी. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) जिले के दुधवा टाइगर रिजर्व (Dushwa Tiger Reserve) के बफर जोन से पुलिस ने दुर्लभ रेड सैंड बोआ प्रजाति के सांप (Red Sand Boa Snake) के साथ चार तस्करों को गिरफ्तार किया है. बरामद सांप की कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में ढाई करोड़ रुपए बताई जा रही है. मामला लखीमपुर खीरी के मैलानी थाना क्षेत्र का है.

पुलिस को सूचना मिली थी कि एक दुर्लभ प्रजाति के रेड सैंड बोआ सांप को कुछ तस्कर बेचने की फिराक में हैं. इसके बाद हरकत में आई पुलिस ने काकोरी तिराहे पर छापा मारकर 4 लोगों को गिरफ्तार किया. उनके पास से लगभग 4 किलो वजन का एक रेड सैंड बोआ प्रजाति का शव बरामद हुआ. पकड़े गए आरोपियों ने स्वीकार किया कि इससे पहले भी वे 6 सांपों को पकड़ कर बेच चुके हैं.

दुधवा टाइगर रिज़र्व में पाए जाते हैं ये दुर्लभ सांप
गौरतलब है कि दुधवा टाइगर रिजर्व के जंगलों और खेतों में दुर्लभ प्रजाति के रेड सैंड बोआ प्रजाति के सांप अधिक मात्रा में पाए जाते हैं. यही वजह है कि मौका देख कर तस्कर सांप को पकड़कर अंतरराष्ट्रीय तस्करों को बेच देते हैं. इससे इनको अच्छी खासी कीमत मिलती है. पुलिस के अनुसार, पकड़े गए इस रेड सैंड बोआ प्रजाति के सांप की अंतरराष्ट्रीय बाजार में ढाई करोड़ रुपए कीमत है.

इन्हें किया गया गिरफ्तार
पकड़े गए लोगों में कासिम अली पुत्र आशिक अली निवासी मुन्नूगंज, गोला, संजय कुमार पुत्र ओम प्रकाश निवासी जलालपुर थाना गोला, सर्वेश कुमार पुत्र टीकाराम निवासी सिसनौर थाना मैलानी और महेंद्र वर्मा पुत्र शिव सहाय वर्मा निवासी नौगवां थाना भीरा शामिल हैं. चारों ने नगरिया गांव के जंगल में तालाब के पास एक गन्ने के खेत से सांप पकड़ने की बात बताई. आरोपियों के खिलाफ वन्य जीव अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीकृत का उनका चालान कर दिया गया है.

मुख्‍तार को पालने वाली प्रियंका किस मुंह से कर रहीं महिला सुरक्षा की बात- मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह

मुख्‍तार को पालने वाली प्रियंका किस मुंह से कर रहीं महिला सुरक्षा की बात (File photo)

सिद्धार्थ नाथ सिंह (Siddharth Nath Singh) ने कहा उनकी प्रियंका गांधी को सलाह है कि वह उत्तर प्रदेश में अपना ड्रामाबाजी बंद कर दें क्योंकि यहां कांग्रेस का कुछ होने वाला नहीं है.

SHARE THIS:
लखनऊ. लखीमपुर खीरी की अनीता यादव के बहाने यूपी की कानून व्‍यवस्‍था पर निशाना साधने की कोशिश कर रहीं प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) और कांग्रेस को कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह (Minister Siddharth Nath Singh) ने शनिवार को आइना दिखाया. उन्‍होंने कहा कि मुख्‍तार अंसारी जैसे दुर्दांत अपराधियों को पालने वाली प्रियंका गांधी और उनकी पार्टी किस मुंह से महिला सुरक्षा की बात कर रही है. कैबिनेट मंत्री ने कहा कि दर्जनों महिलाओं को विधवा और बच्‍चों को अनाथ बनाने वाला मुख्‍तार कांग्रेस के लिए हीरो है. मुख्‍तार अंसारी को बचाने के लिए प्रियंका और उनकी पार्टी की सरकारों ने हर कोशिश की लेकिन योगी सरकार ने महिलाओं और बच्‍चों के गुनाहगार को जेल की सलाखों के पीछे ला पटका.

राज्‍य सरकार के प्रवक्‍ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि योगी सरकार में महिलाओं को सबसे अधिक सुरक्षा और सम्‍मान मिला है. मिशन शक्ति के तहत थाने से लेकर जिला स्‍तर तक महिलाओं के लिए विशेष हेल्‍प डेस्‍क बनाई गई. पिंक बूथ और पिंक पेट्रोलिंग जैसी योजनाएं चल रही हैं. आज यूपी की महिलाएं सक्षम हैं. निजी क्षेत्र हो या सरकारी हर जगह निडर हो कर स्‍वाभिमान के साथ कार्य कर रही हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार वाले राज्‍यों में महिलाओं के हालात किसी से छिपे नहीं हैं.

लखीमपुर खीरी: SP कार्यकर्ता अनीता यादव से मिलीं प्रियंका गांधी, सपा से गठबंधन पर साधी चुप्पी

प्रियंका वाड्रा को महिलाओं के दर्द से मतलब होता तो वे राजस्‍थान, छत्‍तीसगढ़ और पंजाब जैसे राज्‍यों में महिलाओं का दुख बांटने जातीं. केवल राजनीति के लिए महिलाओं का नाम लेना शर्मनाक है. कांग्रेस को कोई ठोस मुद्दा तलाशना चाहिए जिसे लेकर कम से कम चुनाव में तो जा सकें. यूपी में सियासी पर्यटन पर आई प्रियंका वाड्रा की कोशिश भ्रम फैला कर प्रदेश का माहौल खराब करने की है, लेकिन वो इसमें कामयाब नहीं होंगी. अपराधी और आतंकी समर्थक देश विरोधी विपक्ष को सबक सिखाने के लिए यूपी की जनता तैयार बैठी है.

यूपी में कांग्रेस जीरो पर ही रहेगी
सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा उनकी प्रियंका गांधी को सलाह है कि वह उत्तर प्रदेश में अपना ड्रामाबाजी बंद कर दें क्योंकि यहां कांग्रेस का कुछ होने वाला नहीं है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस वर्षों से यूपी में जीरो पर है और अब भी वहीं रहेगी. यहां की जनता इसे हमेशा के लिए खारिज कर चुकी है.

लखीमपुर खीरी: SP कार्यकर्ता अनीता यादव से मिलीं प्रियंका गांधी, सपा से गठबंधन पर साधी चुप्पी

SP कार्यकर्ता अनीता यादव से मिलीं प्रियंका गांधी

इससे पहले शुक्रवार को कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) के मौन धरने पर एफआईआर (FIR) दर्ज हो गई है. हजरतगंज पुलिस ने ये एफआईआर बगैर सूचना और इजाज़त के धरना देने पर दर्ज की है.

SHARE THIS:
लखीमपुर खीरी. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में कांग्रेस महासचिव (Congress General Secretary) और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) की अनीता यादव (Anita Yadav) के साथ मुलाकात की. जिले के पसगवां की रहने वाली अनीता यादव के साथ ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान बदसलूकी हुई थी. प्रियंका गांधी वाड्रा और अनीता यादव की यह मुलाकात आज यानी शनिवार को हुई. प्रियंका गांधी ने अनीता यादव के साथ हुई अभद्रता के प्रति संवेदना व्यक्त की. उन्होंने कहा कि महिला सुरक्षा का मुद्दा हो या उत्तर प्रदेश की जनता से जुड़ा कोई मुद्दा. इसके लिए कांग्रेस पार्टी साथ खड़ी है.

करीब 20 मिनट तक बंद कमरे में प्रियंका दोनों से बात करती रहीं. उन्होंने उस दिन के पूरे घटनाक्रम की जानकारी ली. साथ ही महिलाओं को दिलासा दी कि वह उनके साथ हैं. इसके बाद बाहर निकल कर उन्होंने मीडिया से बातचीत में प्रियंका गांधी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में लोकतांत्रिक अधिकारों की धज्जियां उड़ाई गई है. महिलाओं से चुनाव लड़ने का अधिकार छीना गया है. उनके कपड़े फाड़े गए. इतना सब कुछ होता रहा और पुलिस देखती रही. जिस सीओ ने उनको बचाया उसे सस्पेंड कर दिया गया.

बहराइच: प्रेमी के खिलाफ FIR कराने आयी युवती का पुलिस ने थाने में कराया निकाह

प्रियंका ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उस चुनाव में विजय पर बधाई देते हैं, जिसमें इतनी हिंसा हुई, बम चले. प्रदेश के कई जिलों में हिंसक वारदातें हुई. प्रियंका गांधी ने पसगवां ब्लॉक प्रमुख पद का चुनाव रद्द करने की मांग की. उन्होंने कहा कि देश की हर महिला मेरी बहन है. मैं अपनी बहन से मिलने आई हूं. आने वाले चुनाव में समाजवादी पार्टी से गठबंधन के सवाल पर उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया. इससे पहले शुक्रवार को कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी के मौन धरने पर एफआईआर (FIR) दर्ज हो गई है. हजरतगंज पुलिस ने ये एफआईआर बगैर सूचना और इजाज़त के धरना देने पर दर्ज की है. (रिपोर्ट- मनोज कुमार शर्मा)

UP News Live Update: प्रियंका गांधी पहुंचीं लखीमपुर, बदसलूकी झेलने वाली महिला से की मुलाकात

UP: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ब्लॉक प्रमुख चुनाव में अभद्रता का शिकार प्रस्तावक अनीता यादव पसगवां लखीमपुर में मुलाकात की.

Uttar Pradesh News, 17 July 2021 Live: कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी आज लखीमपुर खीरी पहुंचीं. यहां उन्होंने पसगवां में ब्लॉक प्रमुख चुनाव में अभद्रता का शिकार हुईं प्रस्तावक अनीता यादव से मुलाकात की. बता दें चुनाव के दौरान अनीता सिंह से दो युवकों ने मारपीट की थी.

SHARE THIS:
UP News Live Update: यूपी दौरे पर आईं कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी आज दूसरे दिन लखीमपुर खीरी पहुंचीं. यहां पसगवां में प्रियंका वाड्रा ने ब्लॉक प्रमुख चुनाव में प्रस्तावक रहीं अनीता यादव से मुलाकात की. बता दें ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान अनिता सिंह से दो युवकों ने मारपीट की थी. इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू समेत तमाम कांग्रेसी नेता उपस्थित रहे.

UP में विधानसभा चुनाव लड़ने और CM बनने की बात पर बोलीं प्रियंका गांधी- आपको अभी क्यों बता दें

लखीमपुर खीरी पहुंची प्रियंका गांधी ने असगवां में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान बदसलूकी की शिकार महिलाओं से मुलाकात की.

Lakhimpur Kheri News: लखीमपुर खीरी में प्रियंका गांधी ने न्यूज 18 से बातचीत में कहा कि मैं यहां इसलिए आई हूं कि इन महिलाओं के साथ अत्याचार हुआ. ब्लॉक प्रमुख चुनाव में नामांकन पत्र भरना उनका संवैधानिक हक और अधिकार था. उन्हें घेरकर पीटा गया, उनकी साड़ी खींची गई.

SHARE THIS:
लखीमपुर खीरी. यूपी दौरे पर आईं कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) आज लखीमपुर खीरी पहुंचीं. यहां प्रियंका गांधी ने खीरी में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान बदसलूकी की शिकार हुईं रीतू सिंह और अनीता यादव से मुलाकात कर उनका दर्द जाना. इस दौरान प्रियंका गांधी ने यूपी में चुनाव लड़ने के सवाल पर कहा कि ये आगे देखा जाएगा. मैं यहां काम कर रही हूं और लगातार काम करती रहूंगी. जब उनसे पूछा गया कि क्या वह आगामी विधानसभा चुनाव में सीएम कैंडीडेट होंगीं? इस पर प्रियंका ने कहा कि आपको अभी से क्यों बता दें?

प्रियंका गांधी ने न्यूज 18 से बातचीत में कहा कि मैं यहां इसलिए आई हूं कि इन महिलाओं के साथ अत्याचार हुआ. ब्लॉक प्रमुख चुनाव में नामांकन पत्र भरना उनका संवैधानिक हक और अधिकार था. लेकिन संवैधानिक अधिकार को भी छीना गया. उन्हें घेरकर पीटा गया, उनकी साड़ी खींची गई. कपड़े फाडे गए, इन पर क्या बीती होगी? उन्होंने कहा कि किसी ने इस अत्याचार को रोकने का प्रयास नहीं किया. जिस सीओ ने बचाने का प्रयास किया, उसे निलंबित कर दिया. प्रशासन मौन है, चुनाव भी नहीं रद्द किया गया.

प्रियंका ने पूछा कि क्या आप चाहते हैं, इसी तरह लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाई जाए? प्रधानमंत्री जी तारीफ कर रहे हैं. पंचायत चुनाव के लिए बधाई दी है. हर जिले में यही हुआ, कहीं हिंसा हुई तो कही बम फूटे. प्रियंका ने कहा कि मैं यहां इसलिए आई हूं कि ये भी महिला है, हमारी बहन है. मेरी मांग है कि जहां-जहां हिंसा हुई, वहां चुनाव रद्द किए जाएं.

प्रियंका गांधी की ब्लॉक प्रमुख चुनाव में बदसलूकी की शिकार महिलाओं से मुलाकात

कांग्रेस महासचिव ने कहा कि हमारी यही रणनीति है, कि जहां-जहां संकट और पीड़ा है, वहां-वहां हम जाएंगे. हम लोगों के साथ खड़े रहेंगे, उनकी आवाज़ उठाएंगे. पिछले डेढ़ सालों में हमारी पार्टी ने बुलंद आवाज उठाई है. हमारे कार्यकर्ता जेल गए, बाकी पार्टी के लोग न बाहर आये, न आवाज उठाई. इस दौरान चुनाव लड़ने के सवाल पर प्रियंका बोलीं, “ये आगे देखा जाएगा. मैं यहां काम कर रही हूं और लगातार काम करती रहूंगी.” वहीं सीएम कैंडीडेट बनने पर प्रियंका ने कहा कि आपको अभी से क्यों बता दें?

लखीमपुर खीरी: प्रियंका गांधी ने ब्लॉक प्रमुख चुनाव में बदसलूकी की शिकार महिलाओं से की मुलाकात

UP: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ब्लॉक प्रमुख चुनाव में अभद्रता का शिकार प्रस्तावक अनीता यादव पसगवां लखीमपुर में मुलाकात की.

UP News: लखीमपुर खीरी में कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी पसगवां में ब्लॉक प्रमुख चुनाव में बदसलूकी की शिकार अनीता यादव से मुलाकात करेंगी. बता दें ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान अनिता सिंह से दो युवकों ने मारपीट की थी.

SHARE THIS:
लखनऊ. कांग्रेस की महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) तीन दिनों के यूपी दौरे पर हैं. आज दूसरे दिन प्रियंका गांधी लखनऊ से लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) पहुंचीं. यहां प्रियंका गांधी ने खीरी में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान बदसलूकी की शिकार हुईं रीतू  सिंह एवं अनीता यादव से मुलाकात कर उनका दर्द जाना.

पसगवां में प्रियंका वाड्रा ने ब्लॉक प्रमुख चुनाव में प्रस्तावक अनीता यादव से मुलाकात की. बता दें ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान अनिता सिंह से दो युवकों ने मारपीट की थी. इस पर प्रियंका ने ट्वीट भी किया था. उधर प्रियंका के दौरे को लेकर पुलिस प्रशासन अलर्ट रहा.

लखीमपुर में प्रियंका गांधी



बता दें इससे पहले शुक्रवार को प्रियंका गांधी लखनऊ पहुंची. यहां उनके स्वागत के लिए हवाई अड़्डे पर कार्यकर्ताओं का हुजूम मौजूद रहा. प्रियंका गांधी लखनऊ एयरपोर्ट से सीधे हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा पहुंचीं. जहां उन्होंने राष्ट्रपिता की मूर्ति पर माल्यार्पण किया. उन्होंने यूपी में फैले कथित जंगलराज, पंचायत चुनाव में हुई हिंसा, महिला उत्पीड़न, ध्वस्त कानून व्यवस्था के खिलाफ दो मिनट का मौन भी रखा. इस दौरान बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता मौजूद रहे.

दरअसल यूपी में विधानसभा चुनाव की तैयारियों को देखते हुए प्रियंका का यूपी दौरा काफी अहम माना जा रहा है. कांग्रेस जिला स्तर पर संगठन को मजबूत बनाने की कोशिशों में जुटी हुई हैं. सभी सीटों पर उम्मीदवार चुनने की भी प्रक्रिया शुरू हो गई है. प्रियंका तीन दिन तक लखनऊ में रुककर पदाधिकारियों के साथ बैठक कर चुनावी रणनीति पर चर्चा करेंगी.

इनपुट: राजीव पी सिंह

UP Block Pramukh Chunav: मुजफ्फरनगर, अमरोहा समेत कई जिलों में BJP-SP कार्यकर्ताओं में झड़प, प्रतापगढ़ में फायरिंग

मुजफ्फनगर, अमरोहा समेत कई जिलों में BJP-SP कार्यकर्ताओं में झड़प

हंगामा कर रहे लोगों को काबू में करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा, वहीं प्रतापगढ़ में बवाल बढ़ता देख पुलिस ने कई राउंड फायर भी किए.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख चुनाव (Block Pramukh Chunav) के 476 पदों के लिए शनिवार को मतदान जारी है. मतदान के दौरान कुछ इलाकों से झड़पें, बवाल, और हंगामा की खबरें सामने आ रही हैं. हमीरपुर में बीजेपी और सपा के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई. जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया. मुजफ्फरनगर, अमरोहा, प्रतापगढ़ और लखीमपुर खीरी इलाके से हंगामे की खबरें सामने आई हैं.

लखीमपुर खीरी के सदर ब्लॉक में मतगणना स्थल पर जाने के लिए बसपा नेता मोहन वाजपेयी व उनके समर्थक गाड़ियों के काफिले संग पहुंचे. बैरियर पर मुस्तैद पुलिस ने मोहन को रोककर वापस जाने के लिए कहा, तो मोहन व उनके समर्थकों ने नारेबाजी शुरू कर दी. स्थिति तनावपूर्ण होते देख सीओ सिटी अरविंद कुमार वर्मा ने मोर्चा संभाला और उपद्रव करने का प्रयास करने वालों पर हल्का लाठीचार्ज किया. पुलिस ने मौके से दो युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

वाराणसी ब्लॉक प्रमुख चुनाव: BDC सदस्यों के हाथ में 'हैंड बैग' बना चर्चा का केंद्र, जानिए पीछे की वजह

वहीं मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना में मतदान के दौरान भाजपा विधायक उमेश मलिक के आते ही विरोधी गुट के समर्थकों ने हंगामा किया. उमेश मलिक को वहां से चले जाने की मांग की. इसी दौरान भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत भी वहां पहुंच गए. टिकैत ने एसपी क्राइम को इमानदारी से चुनाव करवाने की बात कही.

अमरोहा में मतदान के दौरान जमकर बवाल
उधर, अमरोहा के जोया ब्लॉक प्रमुख चुनाव में मतदान के दौरान जमकर बवाल हुआ. यहां सपा औऱ बीजेपी सर्मथकों के बीच मारपीट हुई. घटना से पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया है. बता दें कि अमरोहा जनपद के जोया ब्लाक से समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता अमरोहा के विधायक पूर्व कैबिनेट मंत्री महबूब अली के भतीजे जुल्फिकार अली सपा के बैनर पर चुनाव लड़ रहे हैं जबकि बीजेपी ने पूर्व सांसद हरगोविंद सिंह के पुत्र कुशल को अपना प्रत्याशी बनाया है.

प्रतापगढ़ में कई राउंड फायरिंग
खबर प्रतापगढ़ से भी है. जिले के आसपुर देवसरा विकासखंड में ब्लॉक प्रमुख के चुनाव के दौरान सपा व पुलिस में भिड़ंत हो गई. सपा समर्थित प्रत्याशी के समर्थकों द्वारा पथराव के बाद पुलिस ने उन पर काबू पाने के लिए कई राउंड फायर किए जिसके बाद हंगामे के चलते मतदान बाधित हुआ. बताया जा रहा है कि बीडीसी सदस्य का वोट पहले से पड़ने पर सपा कार्यकर्ता भड़क गए.

सीएम योगी ने दिया कड़ी कार्रवाई का निर्देश
इसी कड़ी में सीएम योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि एक-एक विकास खंड की स्थिति पर सीधी नजर रखी जाए. विजयी और पराजित प्रत्याशियों को पुलिस निगरानी में उनके आवास तक पहुंचाने की व्यवस्था हो. उन्होंने कहा कि माहौल बिगाड़ने वाले लोगों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति के साथ तत्काल कठोरतम कार्रवाई की जाए.

(इनपुट- मनोज शर्मा, शिव ओम शर्मा, रोहित सिंह, बिनेश पंवर)

योगी आदित्यनाथ पर राबड़ी देवी का बड़ा प्रहार, बोलीं- यूपी में राक्षस राज, गुंडों के हाथ में कानून

राबड़ी देवी ने योगी आदित्यनाथ सरकार की तुलना राक्षस राज से की.

UP Politics: राबड़ी देवी ने अपने ट्वीट में लिखा, उत्तर प्रदेश में राक्षस राज है. किस मुंह से वह अपने आपको बाबा और योगी कहते हैं. यह ढोंग की पराकाष्ठा है. राबड़ी ने आगे लिखा- उत्तर प्रदेश पुलिस के वेश में गुंडे कानून की रखवाली कर रहे हैं.

SHARE THIS:
पटना. उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुखों के चुनाव नामांकन में हुई हिंसा और लखीमपुर खीरी जिले में एक समाजवादी पार्टी की महिला कार्यकर्ता के साथ अभद्र व्यवहार ने सियासी रंग पकड़ लिया है. बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी नेता राबड़ी देवी ने इस मसले पर यूपी की योगी आदित्य नाथ सरकार (Yogi Aditya Nath Government) को कटघरे में खड़ा किया है. राबड़ी देवी (Rabri Devi) ने उत्तर प्रदेश सरकार को गुंडों की रखवाली करनेवाली सरकार बताते हुए द्रौपदी चीरहरण की एक तस्वीर अपने पोस्ट में साझा की है. उन्होंने इस तस्वीर के माध्यम से यह बताने की कोशिश की है कि उत्तर प्रदेश में इसी तरह से महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार हो रहा है.

राबड़ी देवी ने मुख्यमंत्री आदित्यनाथ से सवाल पूछा है कि जिस राज्य में महिलाएं असुरक्षित हों वहां के मुख्यमंत्री किस मुंह से अपने आप को बाबा और योगी कहते हैं? राबड़ी देवी ने अपने ट्वीट में लिखा, उत्तर प्रदेश में राक्षस राज है. किस मुंह से वह अपने आपको बाबा और योगी कहते हैं. यह ढोंग की पराकाष्ठा है. राबड़ी ने आगे लिखा उत्तर प्रदेश पुलिस के वेश में गुंडे कानून की रखवाली कर रहे हैं.

इससे पहले बहुजन समाजवादी पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने भी यूपी सरकार पर यूपी में जंगलराज के आरोप लगाए थे. मायावती ने अपने ट्वीट में लिखा, यूपी में वर्तमान बीजेपी सरकार में भी कानून का नहीं बल्कि जंगलराज चल रहा है, जिसके तहत यहां पंचायत चुनाव में हुई हिंसा व लखीमपुर खीरी की एक महिला के साथ की गई बदसलूकी अति शर्मनाक है. क्या यही कानून का राज व लोकतंत्र है? यह सोचने की बात है.

बता दें कि बीते दिनों उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख के चुनाव के नामांकन में लखीमपुर खीरी जिले का एक वीडियो वायरल हुआ था. यहां समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी रितु सिंह ने सत्ता पक्ष के लोगों पर आरोप लगाया था कि जब वह नामांकन करने जा रही थीं तो रास्ते में बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने उनकी प्रस्तावक अनीता देवी के साथ मारपीट की थी. आरोप यह भी था कि उनके कपड़े तक फाड़ दिए थे.

हालांकि इस मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसएचओ समेत थाने के सभी पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया था. साथ ही मामले में कड़े एक्शन लेने की बात कही थी. फिलहाल दो आरोपी भी गिरफ्तार किए जा चुके हैं इस मामले पर अखिलेश यादव राहुल गांधी प्रियंका गांधी समेत तमाम बड़े नेताओं ने योगी सरकार पर निशाना साधा है.

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर कसा तंज, बोले- यूपी में 'लोपतंत्र'

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर कसा तंज (File photo)

Block Pramukh Chunav Violence: पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी उन अधिकारियों को चिह्नित कर रही है, जिन्होंने यह सब कराया है. समय आने पर उनके खिलाफ भी कार्रवाई करेंगे.

SHARE THIS:
लखनऊ. ब्लॉक प्रमुख चुनाव (Block Pramukh Chuav) के लिए नामांकन प्रक्रिया के दिन हुई हिंसा और लखीमपुर खीरी में महिला प्रस्तावक के साथ बदसलूकी पर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव (SP Chief Akhilesh Yadav) ने प्रदेश की योगी सरकार पर हमला बोला है. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को ट्वीट करते हुए एक पोस्ट शेयर किया है. पोस्ट पर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की फोटो के साथ लिखा है, 'यूपी में 'लोपतंत्र', चारों खाने चित योगी प्रशासन, जमकर चल रहा है गुंड़ातंत्र! ब्लॉक प्रमुख चुनाव नामांकन में बवाल.'

इससे पहले अखिलेश यादव ने कहा कि अपने आप को अनुशासित पार्टी होने का दावा करने वाली बीजेपी के गुंडों ने महिला की इज्जत को तार-तार किया. हमें दुख है कि चुनाव जीतने के लिए भाजपा के लोग इस स्तर तक उतर आए हैं. जिन्होंने महिला के साथ दुर्व्यवहार किया, सब भाजपा के गुंडे हैं. भाजपा ने पहले जिला पंचायत अध्यक्ष और अब ब्लॉक प्रमुख का चुनाव जीतने के लिए पूरे प्रदेश के हर ब्लॉक में नंगा नाच और खुली गुंडागर्दी की.



पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी उन अधिकारियों को चिह्नित कर रही है, जिन्होंने यह सब कराया है. समय आने पर उनके खिलाफ भी कार्रवाई करेंगे. बीजेपी के कार्यकर्ता के तौर पर काम करने वाले अधिकारियों की लिस्ट तैयार है. अखिलेश यादव ने कहा कि जिस तरह से महंगाई, बेरोजगारी बढ़ी है, लोगों को अपमानित किया जा रहा है, उससे जनता में आक्रोश है. जनता बदलाव चाहती है. प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार बनेगी.

ब्लॉक प्रमुख चुनाव हिंसाः लखीमपुर खीरी में महिला प्रत्याशी के साथ भी मारपीट और बदसलूकी, एक आरोपी गिरफ्तार

मीडिया के सामने अपनी बात रखती प्रत्याशी रितू सिंह.

Block Pramukh Chunav Violence: लखीमपुर खीरी पुलिस ने कहा है कि महिला प्रत्याशी के साथ दुर्व्यवहार के मामले में नामजद अभियुक्त यश वर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया है. आगे की कानूनी कार्रवाई की जा रही है.

SHARE THIS:
लखीमपुर खीरी. उतर प्रदेश के लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में महिला प्रस्तावक के साथ-साथ एक महिला प्रत्याशी के साथ भी दुर्व्यवहार और मारपीट करने का मामले सामने आया है. जानकारी के मुताबिक, लखीमपुर में प्रखंड अध्यक्ष चुनाव के नामांकन दाखिल करने के दौरान महिला प्रत्याशी ऋतु सिंह के साथ मारपीट और बदसलूकी की गई है. ऋतु सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा है कि मैं अपना नामांकन दाखिल करने गई थी, लेकिन रेखा वर्मा के गुंडों ने मेरा नामांकन पत्र फाड़ दिया. वे मेरा पर्स लेकर भाग गए और मेरे कपड़े भी फाड़ दिए. उन्होंने कहा कि इस दौरान पुलिस भी मौके पर थी और कुछ नहीं किया.

वहीं, ऋतु सिंह की शिकात के बाद मामले में पुलिस की कार्रवाई शुरू हो गई है. लखीमपुर खीरी पुलिस ने ट्वीट कर इसके बारे में जानकारी दी है. पुलिस ने कहा है कि शुक्रवार को पसगवां ब्लॉक (Pasgwan Block) में क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष के नामांकन के दौरान, महिला प्रत्याशी के साथ दुर्व्यवहार किया गया था. अब इस संबंध में थाना पसगवां पर मु.अ.सं. 213/21 अन्तर्गत धारा 147,171(F),354,392,427 भादवि पंजीकृत किया गया है.



साथ ही लखीमपुर खीरी पुलिस ने कहा है कि इस प्रकरण में नामजद अभियुक्त यश वर्मा पुत्र ब्रह्मादीन वर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया है. अब आगे की कानूनी कार्रवाई की जा रही है. पुलिस ने बताया कि आरोपी यश वर्मा थाना पसगवां थाना क्षेत्र स्थित मकसूदपुर गांव का रहने वाला है. पुलिस की माने तो इसके अलावा शेष अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए अपर पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में 4 पुलिस टीमों का गठन किया गया है. साथ ही छापेमारी भी की जा रही है.



निलंबित करने के निर्देश
इससे पहले लखीमपुर खीरी में महिला प्रस्तावक के साथ बदसलूकी का मामले में प्रदेश सरकार ने बड़ा एक्शन लिया है. सूबे के उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पंचायत चुनावों में हुई हिंसा को लेकर सीओ, एसओ और एक इंस्पेक्टर समेत तीन एसआई को निलंबित करने के निर्देश दे दिए थे. इसके अलावा उन्होंने आरोपी के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट और रासुका के तहत कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं. आरोपी निर्दलीय प्रत्याशी का समर्थक है, न कि भाजपा का.

मायावती ने लखीमपुर में महिला के साथ बदसलूकी को बताया अति-शर्मनाक, बोलीं- भाजपा सरकार में भी जंगलराज

मायावती ने लखीमपुर में महिला के साथ बदसलूकी को बताया अति-शर्मनाक (फाइल फोटो)

उधर, लखीमपुर में महिला प्रस्तावक के साथ बदसलूकी का मामले में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कड़ा रुख अपनाया है.

SHARE THIS:
लखनऊ. लखीमपुर में महिला प्रस्तावक के साथ बदसलूकी का मामले में बसपा सुप्रीमो मायावती (BSP Supremo Mayawati) ने घटना की निंदा की हैं. शनिवार को मायावती ने ट्वीट करके कहा, यूपी में वर्तमान भाजपा सरकार में भी कानून का नहीं बल्कि जंगलराज चल रहा है, जिसके तहत यहाँ पंचायत चुनाव में हुई असंख्य हिंसा व लखीमपुर खीरी की एक महिला के साथ की गई बदसलूकी भी अति-शर्मनाक. क्या यही इनका कानून का राज व लोकतन्त्र है? यह सोचने की बात है.

पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा कि आज़मगढ़ जिले की तरह चन्दौली जिले के बर्थरा खुर्द गाँव में भी दलितों के घरों को दबंगों द्वारा उजाड़ना व उत्पीड़न आदि करना क्या यही इनका दलित प्रेम है? व दुःख यह भी है कि अभी भी केन्द्र व यूपी सरकार के दलित मंत्री चुप हैं, क्यों? यह अति-चिन्तनीय. इससे पहले मायावती ने कहा है कि यूपी पंचायत चुनाव में भाजपा द्वारा पहले जिला पंचायत अध्यक्ष, फिर ब्लॉक प्रमुख के चुनाव के दौरान सत्ता और धनबल का घोर दुरुपयोग किया गया. यह सपा शासनकाल किया गया दिलाता है.



उधर, लखीमपुर में महिला प्रस्तावक के साथ बदसलूकी का मामले में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा रुख अपनाया है. सीएम योगी के आदेश पर 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड किए गए हैं. जिन्हें सस्पेंड किया गया है उनमें: सीओ मोहम्मदी- अभय प्रताप मल्ल, एसएचओ -आदर्श कुमार सिंह, इंस्पेक्टर हनुमान प्रसाद यादव, एसआई दुर्वेश गंगवार, एसआई उग्रसेन सिंह और एसआई महेश प्रताप शामिल हैं. सीएम ने निर्देश दिया कि घटनास्थल पर तैनात जिम्मेदार अधिकारियों और माहौल बिगाड़ने वाले लोगों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति के साथ तत्काल कठोरतम कार्रवाई की जाए. किसी भी दशा में माहौल खराब करने की एक भी कोशिश स्वीकार नहीं की जाएगी.

लखीमपुर की घटना पर डिप्टी CM दिनेश शर्मा बोले- अराजकता फैलाने की छूट किसी भी पार्टी को नहीं, NSA लगाने के आदेश

उत्‍तर प्रदेश डिप्टी सीएम डॉ दिनेश शर्मा (File photo)

Lakhimpur Kheri News: डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा बोले- सपा मुखिया को यह समझना चाहिए कि यह भाजपा सरकार है, जिसमें अराजकता, गुंडई और अपराधियों को संरक्षण देने के बजाय जेल की सलाखों में भेज दिया जाता है.

SHARE THIS:
लखीमपुर खीरी. उतर प्रदेशल के लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में महिला प्रस्तावक के साथ बदसलूकी का मामले में प्रदेश सरकार ने बड़ा एक्शन लिया है. सूबे के उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पंचायत चुनावों में हुई हिंसा को काफी गंभीरता से लिया है. उन्होंने सुबह ही लखीमपुर मामले में सीओ, एसओ, एक इंस्पेक्टर समेत तीन एसआई को निलंबित करने के निर्देश दे दिए थे. इसके अलावा उन्होंने आरोपी के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट और रासुका के तहत कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं. आरोपी निर्दलीय प्रत्याशी का समर्थक है, न कि भाजपा का.

यह बातें उन्होंने आज अपने आवास पर पत्रकारों से बातचीत में कहीं. उन्होंने पंचायत चुनाव में सपा मुखिया का नाम लिए बिना कहा कि सपा सरकार की गुंडई जगजाहिर है. पिछली सरकार में ऐसा कोई चुनाव नहीं हुआ था, जिसमें लोगों की जानें नहीं गईं. सपा की गुंडई की आदत अभी गई नहीं है और वह पंचायत चुनाव में अराजकता की हदें पार कर रहे हैं और जब उनकी मनमानी नहीं हो पा रही है, तब कानून व्यवस्था संभाल रहे पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों पर गलत आरोप लगा रहे हैं. सपा के ही एक एमएलसी का वीडियो वायरल हो रहा, जिसमें वह खुद सपा की गुंडई को सर्टिफाइड कर रहे हैं.

अराजकता फैलाने की छूट किसी को नहीं
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार अपराध को लेकर जीरो टॉलरेंस की नीति के तहत कार्य कर रही है. प्रदेश में किसी को भी अराजकता फैलाने की छूट नहीं दी गई है, चाहे वह किसी भी पार्टी का हो. डिप्टी सीएम ने दिनेश शर्मा ने कहा कि सीएम योगी ने सुबह ही उच्चाधिकारियों की बैठक में ब्लॉक प्रमुख निर्वाचन प्रक्रिया शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने चेतावनी दी है कि किसी भी दशा में माहौल खराब करने की एक भी कोशिश स्वीकार नहीं की जाएगी.

अपराधियों को संरक्षण देने के बजाय भेजा जाता है जेल
डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने कहा कि पिछले सवा चार साल में प्रदेश में जितने भी चुनाव हुए हैं, वह पूरी पारदर्शिता और निष्पक्षता के साथ हुए हैं. उन्होंने आरोप लगाया है कि लोगों ने समाजवादी पार्टी की सरकार में गुंडई की चरम सीमा को देखा है. सत्ता से दूर जाने के बाद भी आज भी सपा नेता अपने हरकतों से बाज में नहीं आ रहे. सपा मुखिया को यह समझना चाहिए कि यह भाजपा सरकार है, जिसमें अराजकता, गुंडई और अपराधियों को संरक्षण देने के बजाय जेल की सलाखों में भेज दिया जाता है.

लखीमपुर खीरी : महिला प्रस्तावक से बदसलूकी मामले में सीएम योगी सख्त, 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड

सपा की महिला प्रत्याशी रितु वर्मा की प्रस्तावक अनिता के साथ अभद्र व्यवहार के मामले में यश वर्मा को पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

UP News: पसगवां ब्लॉक प्रमुख की सपा प्रत्याशी रितु सिंह की तहरीर पर बृजकिशोर व यश वर्मा सहित अन्य अज्ञात के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है. CM योगी के आदेश पर 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड किए गए हैं.

SHARE THIS:
लखीमपुर खेरी. लखीमपुर में महिला प्रस्तावक के साथ बदसलूकी का मामले में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा रुख अपनाया है. CM योगी के आदेश पर 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड किए गए हैं.
जिन्हें सस्पेंड किया गया है उनमें: सीओ मोहम्मदी- अभय प्रताप मल्ल, एसएचओ -आदर्श कुमार सिंह, इंस्पेक्टर हनुमान प्रसाद यादव, एसआई दुर्वेश गंगवार,  एसआई उग्रसेन सिंह और एसआई महेश प्रताप शामिल हैं. सीएम ने निर्देश दिया कि घटनास्थल पर तैनात जिम्मेदार अधिकारियों और माहौल बिगाड़ने वाले लोगों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति के साथ तत्काल कठोरतम कार्रवाई की जाए. किसी भी दशा में माहौल खराब करने की एक भी कोशिश स्वीकार नहीं की जाएगी. पुलिस बल अतिरिक्त सतर्कता और संवेदनशीलता के साथ मुस्तैद रहे. असलहा आदि का प्रदर्शन करने वालों के हथियार जब्त कर यथोचित कार्रवाई की जाए.

इस बीच स्थानीय पुलिस मामले की गहनता से जांच-पड़ताल करने में जुट गई है. पसगवां ब्लॉक प्रमुख चुनाव का पर्चा भरने के दौरान सपा की महिला प्रत्याशी रितु वर्मा की प्रस्तावक अनिता के साथ अभद्र व्यवहार करने के मामले में यश वर्मा नाम के युवक को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. पसगवां ब्लॉक प्रमुख की सपा प्रत्याशी रितु सिंह ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर मारपीट करने का आरोप लगाया है. रितु सिंह की तहरीर पर बृजकिशोर व यश वर्मा सहित अन्य अज्ञात के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है.



बीजेपी के समर्थकों पर समाजवादी पार्टी की रितु सिंह की प्रस्तावक अनिता के कपड़े फाड़ने का सपा ने आरोप लगाया है. मौके पर समर्थकों ने जमकर हंगामा काटा. इस हंगामे से अफरातफरी का माहौल बन गया था. समाजवादी पार्टी के नेताओं ने प्रशासन पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है. पसगवां ब्लॉक से बीजेपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष रेखा वर्मा की करीबी शिखा सिंह चुनाव लड़ रही हैं.

Modi Cabinet Expansion: कौन हैं अजय मिश्रा उर्फ टेनी, जानिए खेल के मैदान से संसद तक का सफर

UP: मोदी सरकार के कैबिनेट विस्तार में खीरी सांसद अजय मिश्रा टेनी का नाम चर्चाओं में है. (File Photo)

Lakhimpur Kheri News: मोदी सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार में खीरी से सांसद अजय मिश्रा टेनी के नाम शामिल होने को लेकर अटकलें तेज हैं. इसकी वजह अजय मिश्रा की साफ-सुथरी छवि और लंबे समय से संघ परिवार से जुड़ा होना बताया जा रहा है. वैसे इसके सियासी मायने भी निकाले जा रहे हैं.

SHARE THIS:
मनोज शर्मा

लखीमपुर खीरी. उतर प्रदेश में लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) की खीरी लोकसभा सीट से दो बार के सांसद अजय मिश्रा उर्फ टेनी (MP Ajay Mishra) को बीजेपी हाईकमान से दिल्ली बुलावा आने के बाद उनके मोदी के कैबिनेट विस्तार में जगह मिलने की अटकलें तेज हो गई हैं. अजय मिश्रा को कैबिनेट में जगह देने की वजह उनकी साफ-सुथरी छवि और लंबे समय से संघ परिवार से जुड़ा होना बताया जा रहा है.

वैसे मोदी सरकार के इस कदम के सियासी मायने भी निकाले जा रहे हैं. इसमें 2022 के यूपी विधानसभा इलेक्शन में ब्राह्मण मतदाताओं को रिझाने के प्रयास से भी जोड़कर देखा जा रहा है. दरअसल अजय मिश्रा की लखीमपुर खीरी, पीलीभीत, सीतापुर, बहराइच समेत कई जिलों में ब्राह्मण मतों पर अच्छी खासी पकड़ मानी जाती है. जिसका 2022 के विधानसभा चुनाव में पार्टी को खासा लाभ मिल सकता है.



राजनीतिक जीवन
अजय मिश्रा का जन्म 25 सितम्बर 1960 को लखीमपुर खीरी के निघासन में बनबीरपुर में हुआ. उन्होंने ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई की है और व्यवसाय कृषिविद उद्योगपति हैं. पिता का नाम अंबिका प्रसाद मिश्रा और माता प्रेमदुलारी मिश्रा हैं. उनकी पत्नी का नाम पुष्पा मिश्रा है. उनके दो पुत्र और एक पुत्री हैं.

2012 के विधानसभा चुनाव में अजय मिश्रा जीते और विधानसभा पहुंचे. इसके बाद 2016 में 16वीं लोकसभा के लिए खीरी से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार के रूप में चुने गए. उन्होंने 2,88,304 मतों से कांग्रेस पार्टी के अरविंद गिरि को हराया. 2019 के लोकसभा चुनाव में खीरी सीट से भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी के रूप में अजय मिश्रा टेनी ने 5,84,285 वोट पाकर 2,16,769 मतों के अंतर से जीत दर्ज कराई. गठबंधन से सपा प्रत्याशी डॉ. पूर्वी वर्मा 3,67,516 मत पाकर दूसरे नंबर पर और कांग्रेस प्रत्याशी जफर अली नकवी 88,588 मतों के साथ तीसरे नंबर पर रहे.

संसद रत्न अवार्ड के लिए हुए नामित
मौजूदा 17वीं लोकसभा के लिए खीरी सांसद अजय मिश्रा टेनी को मुख्य संसद रत्न अवार्ड के लिए नामित किया गया. यह सम्मान उन्हें सर्वाधिक सदन में मौजूदगी, आचरण और सक्रियता के चलते दिया गया. यह सम्मान हासिल करने वाले अजय मिश्र यूपी के पहले सांसद हैं. दरअसल पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की पहल पर 2010 में इस अवार्ड को शुरू किया गया. इसके लिए सांसदों का चयन सदन उनकी में उपस्थिति, आचरण, कार्य व्यवहार एवं कार्यक्षमता के आधार पर निर्धारित कमेटी करती है. इसमें सांसदों को प्रमाण पत्र एवं प्रतीक चिह्न देकर सम्मानित किया जाता है.

इसके अलावा सितंबर, 2014 वह ग्रामीण विकास पर स्थायी समिति के सदस्य बने. उन्हें कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय के तहत परामर्श समिति के सदस्य नियुक्त किया गया था.

खेलों से खासा जुड़ाव
अजय मिश्रा स्वास्थ्य के बारे में ग्रामीण युवाओं के बीच जागरूकता पैदा करते हैं और उनकी क्रिकेट, पावर लिफ्टिंग और कुश्ती में विशेष रुचि है. यही नहीं कॉलेज के जमाने में अजय मिश्रा ने विश्वविद्यालय और जिला स्तर पर कई प्रतियोगिताओं में जीत हासिल की है. वह कुश्ती, क्रिकेट और पावर लिफ्टिंग प्रतियोगिताओं का आयोजन भी कराते हैं.

गलियों में घूम रहा था मगरमच्छ; चीख उठे बच्चे, वन विभाग ने किया रेस्क्यू

लखीमपुर खीरी: शारदा नदी से शहर में घुसा मगरमच्छ, वन विभाग ने बड़ी मुश्किल में काबू कर वापस नदी में छोड़ा.

लखीमपुर खीरी में नदी से निकलकर एक विशालकाय मगरमच्छ शहर में घुस गया. यहां शहर की गलियों में मगरमच्छ को घूमता देख भगदड़ मच गई. वन विभाग ने मौके पर पहुंचकर कड़ी मशक्कत के बाद विशालकाय मगरमच्छ को काबू में कर पकड़ लिया.

SHARE THIS:
लखीमपुर खीरी. उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में नदी से निकलकर एक विशालकाय मगरमच्छ (Crocodile) शहर में घुस गया. यहां शहर की गलियों में मगरमच्छ को घूमता देख भगदड़ मच गई. वन विभाग (Forest Department) ने मौके पर पहुंचकर कड़ी मशक्कत के बाद विशालकाय मगरमच्छ को काबू में कर पकड़ लिया. मगर को पापस नदी में छोड़ दिया गया है.

मामला लखीमपुर खीरी के पलिया कोतवाली का है, जहां पर शारदा नदी में इन दिनों बाढ़ आई हुई है. नदी में बाढ़ के चलते एक विशालकाय मगरमच्छ नदी से निकलकर पलिया शहर में आ गया. यह मगरमच्छ शहर की गलियों में पहुंच गया. मगरमच्छ को गलियों में घूमता जब बच्चों ने देखा तो बच्चे घबरा गए. बच्चों के चिल्लाने की आवाज सुनकर जब लोगों ने अपने घर से बाहर निकल कर देखा तो एक विशालकाय मगरमच्छ सड़क पर घूमता दिखा. मगरमच्छ को यू सड़कों पर घूमता देखकर मौके पर अफरा तफरी का माहौल हो गया. आनन-फानन में मगरमच्छ के शहर की सड़कों पर घूमने की जानकारी लोगों ने फोन पर वन विभाग को दी.

मौके पर पहुंचकर वन विभाग की टीम ने लगभग 2 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद प्लास्टिक की मजबूत राशियों के सहारे मगरमच्छ को अपने काबू में किया. मगरमच्छ को काबू में करने के बाद दो बड़ी-बड़ी लकड़ियों को रस्सी में बांधकर वन विभाग की टीम ने मगरमच्छ को उठाकर अपनी गाड़ी में रखा. इसके बाद विशालकाय मगरमच्छ को शारदा नदी में ले जाकर छोड़ दिया.

मौके पर मौजूद पलिया शहर के रहने वाले पिंटू चौधरी का कहना है बच्चों के जोर से चिल्लाने की आवाज सुनकर वह जब घर से बाहर निकले तो उन्होंने सड़क पर एक विशालकाय मगरमच्छ को टहलते हुए देखा. मगरमच्छ को देखकर वह भी घबरा गए थे. उन्होंने वन विभाग की टीम को इसकी सूचना दी. वन विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर इस मगरमच्छ को काबू करके अपने साथ ले जाकर नदी में छोड़ दिया.

सरकार ने नहीं सुनी तो ग्रामीणों ने रातों-रात बना लिया पुल, दूल्हे ने फीता काटा और निकाली बारात

ग्रामीणों ने मिलकर बनाया पुल, दूल्हे ने फीता काटकर किया उद्घाटन.

लखीमपुर खीरी में जब जनप्रतिनिधि और प्रशासन ने कई सालों से की जा रही पुल निर्माण की बात नहीं सुनी तो ग्रामीणों ने खुद ही यह काम कर दिखाया. ग्रामीणों ने प्रधान की मदद से शारदा नदी से निकलने वाले ब्रांच लाइन नाले पर पुल बना लिया.

SHARE THIS:
लखीमपुर खीरी. लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में जब जनप्रतिनिधि और प्रशासन ने कई सालों से की जा रही पुल निर्माण (Bridge Construction) की बात नहीं सुनी तो ग्रामीणों ने खुद ही यह काम कर दिखाया. ग्रामीणों ने प्रधान की मदद से शारदा नदी से निकलने वाले ब्रांच लाइन नाले पर पुल बना लिया. ग्रामीणों ने रातों रात इस पुल का निर्माण कर दिया. पुल बनने के बाद बरात लेकर जा रहे दूल्हे से फीता कटवाकर इस पुल का उद्घाटन भी करा दिया. फीता काटकर पुल से गांव से जाने वाली बारात इसी पुल से गुजर कर गई. ग्रामीणों ने पुल बनने की खुशी में मिठाई बांटी और खुशी से झूम उठे.

लखीमपुर खीरी के निघासन कोतवाली के बैलाह गांव के लोग बरसात के दौरान जब इलाके में बाढ़ आती थी, तो शारदा नदी से निकलने वाले ब्रांच नहर पर पानी भर जाने से परेशान होते थे. लगभग एक दर्जन गांव का जिला मुख्यालय से संपर्क काट जाता था, जिससे इलाके के लगभग 20 हजार लोगों को खासी मुसीबतों का सामना करना पड़ता है. लगातार कई वर्षों से ग्रामीण इस पर पुल बनाने की मांग कर रहे थे. जब जनप्रतिनिधि और प्रशासन ने कोई सुनवाई नहीं की तो गांव के लोगों ने प्रधान के साथ मिलकर रातों-रात लकड़ी के पुल का निर्माण कर दिया. पुल बन जाने के बाद गांव से जाने वाली एक बारात के दूल्हे ने पुल का फीता काटकर उद्घाटन किया और पूरी बरात इसी पुल से होेकर गांव के लिए निकल गई. पुल बनने की खुशी में ग्रामीणों ने आपस में मिठाई बांट कर खुशी जाहिर की.

बैलाह गांव के रहने वाले रामप्रसाद का कहना है पिछले 20 वर्षों से हम लगातार शासन और प्रशासन से इस शारदा नदी के नाले पर पुल बनाने की मांग कर रहे हैं. बरसात के दिनों में आधा किलो मीटर पानी भर जाता है. इसके चलते काफी लंबा सफर तय कर जिला मुख्यालय तक पहुंच पाते हैं. इस मार्ग से 12 गांव का रास्ता जाता है. प्रशासन और शासन की तरफ से अभी तक कोई मदद नहीं मिली. थक हार कर नए ग्राम प्रधान के मदद से ग्रामीणों ने इस पुल का निर्माण किया है. पुल बन जाने से हम लोगों को जिला मुख्यालय आवागमन में काफी मदद मिलेगी.

वहीं सरदार सुखदेव सिंह का कहना है लगातार हम लोग प्रशासन से मांग कर रहे थे, लेकिन किसी ने हमारी सुनवाई नहीं सुनी तो हम सब ग्रामीणों ने मिलकर पुल को बनाया. बिना पुल के काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था.

UP Weather News: लखनऊ, आगरा सहित इन 20 जिलों में जोरदार बारिश की संभावना

मौसम विभाग ने यूपी के 20 जिलों में आज बारिश का अनुमान लगाया है. (सांकेतिक फोटो)

Weather Update: मौसम विभाग के ताजा अनुमान के मुताबिक आगरा, मथुरा, लखनऊ, सीतापुर, बहराइच, लखीमपुर खीरी, बलरामपुर, श्रावस्ती, संत कबीर नगर, शाहजहांपुर और फर्रूखाबाद जिलों में दोपहर बाद तेज बारिश हो सकती है.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में मौसम विभाग (Meteorological Department) के ताजा अनुमान के मुताबिक दोपहर बाद तक लगभग 20 जिलों में बारिश की संभावना बनी हुई है. कुछ जिलों में तो बौछारें पड़ भी रही हैं. लखनऊ (Lucknow) और इसके आसपास के जिलों में भी हवा के तेज झोंकों के साथ बरसात की संभावना है. इसके अलावा तराई के जिले और ब्रज क्षेत्र के जिलों में भी बौछारों से सुकून मिलने वाला है.

ताजा अनुमान के मुताबिक जिन जिलों में दोपहर बाद तेज बारिश हो सकती है वे जिले हैं- आगरा, मथुरा, लखनऊ, सीतापुर, बहराइच, लखीमपुर खीरी, बलरामपुर, श्रावस्ती, संत कबीर नगर, शाहजहांपुर और फर्रूखाबाद. इन जिलों में बारिश के दौरान 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा भी चल सकती है. साथ ही बारिश वाले जिलों में बिजली गिरने के खतरे के प्रति भी लोगों को आगाह किया गया है. लखनऊ के कई इलाकों में तो हल्की बारिश भी हुई है. सुकून देने वाली बात ये है कि सुबह से ही उमस भी कम हुई है. जिन इलाकों में बारिश हो जा रही है वहां तो ठण्डा हो ही जा रहा है, लेकिन बाकी इलाकों में ठंडी हवाओं के चलने से राहत है.

इन जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट
इसके अलावा कानपुर नगर, कानपुर देहात, उन्नाव, फतेहपुर, हरदोई, बाराबंकी, रायबरेली, गोंडा और बस्ती के लिए मौसम विभाग ने ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. इन जिलों में 87 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवा के साथ तेज बारिश हो सकती है.

आगरा सबसे गर्म
लगातार बारिश होने और हवाओं के चलने से गर्मी से राहत मिली है. प्रदेश के तीन-चार जिलों को छोड़ दें तो बाकी सभी शहरों में बुधवार को दिन का अधिकतम तापमान 35 डिग्री सेल्सियस के नीचे ही दर्ज किया गया था. सबसे ज्यादा आगरा में 41.1 डिग्री सेल्सियस जबकि झांसी में 40.7 डिग्री सेल्सियस दिन का तापमान दर्ज किया गया.

प्रदेश में अगले चार दिनों तक हल्की से मध्यम बारिश का अनुमान मौसम विभाग ने लगाया है. हालांकि ये भी सच है कि मॉनसून के शुरुआती दौर में जितनी बारिश हुई थी, अब उसकी रफ्तार बहुत सुस्त हो गयी है. पिछले 24 घण्टे के दौरान प्रदेश के बहुत कम इलाके में बारिश दर्ज की गयी है. प्रदेश के सिर्फ 7 जिलों में ही बारिश दर्ज की गयी है. सबसे ज्यादा बारिश 13.2 मिलीमीटर वाराणसी में बारिश हुई. इसके अलावा बहराइच में 10 जबकि गोरखपुर में 8 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी.
Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज