लाइव टीवी

यूपी के इस जिले में खेतों और तालाबों में पैदा होती है कच्ची शराब

Prashant Pandey | ETV UP/Uttarakhand
Updated: November 18, 2017, 4:26 PM IST
यूपी के इस जिले में खेतों और तालाबों में पैदा होती है कच्ची शराब
हजारों लीटर लहान को पुलिस ने किया नष्ट

कच्ची अवैध देशी शराब क्या खेतों में उग सकती है और तालाबों में पैदा हो सकती है. चौंकिए मत ये सच है. यूपी के लखीमपुर खीरी जिले में अवैध कच्ची शराब खेतों में उग रही है और तालाबों में पैदा हो रही है.

  • Share this:
कच्ची अवैध देशी शराब क्या खेतों में उग सकती है और तालाबों में पैदा हो सकती है. चौंकिए मत ये सच है. यूपी के लखीमपुर खीरी जिले में अवैध कच्ची शराब खेतों में उग रही है और तालाबों में पैदा हो रही है.

नेपाल बॉर्डर से सटे यूपी के लखीमपुर खीरी जिले में इन दिनों अवैध शराब की बाढ़ से आ गई है. खेतों में, तालाबों में, टायर और ट्यूब में, जहां देखिए वहां शराब ही शराब है. यूपी के सबसे बड़े इस जिले में के हर गांव में अवैध शराब की फैक्ट्रियां चल रहीं हैं. यहां इस कच्ची शराब को 'घरपाला' के नाम से भी पुकारते हैं.

सामाजिक कार्यकर्ता मृगांक शेखर कहते हैं,'शराब कानून व्यवस्था के लिए मुसीबत तो पैदा करती ही है, लेकिन वहीं यह कई परिवारों का पेट भी भरती है. हालांकि समाज में फैली तमाम बुराईयों और अपराध की मुख्य वजह भी शराब ही है.’

प्रदेश में योगी सरकार बनने के बाद खीरी पुलिस ने अवैध कच्ची शराब के खिलाफ अभियान छेड़ दिया है. जिसके बाद अब पुलिस को नदियों, नालों, पोखरों, नापदानों, कूड़े के ढेर और गन्ने के खेतों और जंगलों में अवैध शराब की फैक्ट्रियां मिल रही हैं.

खीरी के एसपी डॉ एस चनप्पा कहते हैं, 'हम लगातार रेड कर रहे हैं. सभी थानेदारों को खुफिया जानकारी एकत्र कर छापेमारी के आदेश हैं. लेकिन कच्ची शराब के मिलने का सिलसिला नहीं रुक रहा. हमने महीने भर में पांच हजार शराब जब्त की और दर्जन भर से ज्यादा लोगों को जेल भी भेजा. शराब कारोबारी खेतों, तालाबों और कूड़े करकट में शराब छिपा देते हैं, जिसे ढूंढना मुश्किल होता है. इसके बावजूद हमारा अभियान लगातार जारी है.'

शराब बनाने वाले सुनसान जगहों को खोजकर वहां बड़ी-बड़ी भट्टियां लगाते हैं. गुड़ से लहन उठाते हैं और फिर भट्टियों में चढ़ा शराब निकालते हैं. ये कारोबार गांव-गांव तक फैला है. कुछ लोग घरों में छिपकर भी शराब बनाते हैं, जिससे आगजनी की घटनाएं भी होती रहती हैं. सबसे ज्यादा शराब शारदा, घाघरा, कठिना, गोमती आदि नदियों के किनारे बनती है. अवैध शराब के इस धंधे में परिवार की महिलाओं का भी बड़ी भूमिका रहती है.

जिले के वरिष्ठ पत्रकार एनके मिश्रा कहते हैं, 'खीरी जिले में कच्ची का चलन एक समानांतर व्यवस्था है. जितनी सरकारी ठेकों से शराब नहीं बिकती उसकी दसों गुना शराब अवैध कारोबारी बेच देते हैं. यह समाज और कानून सबके लिए एक चुनौती साबित हो रहा है.'
Loading...

शनिवार को भी खीरी जिले के मोहम्मदी इलाके की पुलिस ने साहबगंज गांव मे छापा डाला तो उसके होश फाख्ता हो गए. हजार लीटर कच्ची शराब, सैकड़ों भट्टियां और हजारों लीटर लहन को पुलिस ने नष्ट कर दिया. फ़िलहाल अवैध शराब को खत्म करना पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती बनी हुई है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखीमपुर खेरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 18, 2017, 4:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...