• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • Lockdown: युवक का सुसाइड नोट- गरीबी का आलम ये कि मेरे परिवार के पास अंतिम संस्कार करने तक के पैसे नहीं

Lockdown: युवक का सुसाइड नोट- गरीबी का आलम ये कि मेरे परिवार के पास अंतिम संस्कार करने तक के पैसे नहीं

यूपी में मैगलगंज रेलवे स्टेशन पर एक शख्स ने आर्थिक तंगी से परेशान होकर आत्महत्या कर ली.

यूपी में मैगलगंज रेलवे स्टेशन पर एक शख्स ने आर्थिक तंगी से परेशान होकर आत्महत्या कर ली.

लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में मैगलगंज रेलवे स्टेशन पर एक शव (Deadbody) पड़ा मिला. शव की पहचान भानू प्रताप गुप्ता के नाम से हुई है. भानू की जेब से जो सुसाइड नोट बरामद हुआ है.

  • Share this:
लखीमपुर खीरी. उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में उस वक्त हड़कम्प मच गया, जब मैगलगंज रेलवे स्टेशन पर एक शव (Body) पड़ा मिला. रेलवे ट्रैक पर पड़े शव की पहचान भानू प्रताप गुप्ता के तौर पर की गई है. भानू की जेब से एक सुसाइड नोट (Suicide Note) भी बरामद हुआ है, जिसमें उन्होंने अपनी गरीबी और बेरोजगारी का जिक्र किया है.

भानू मैगलगंज के रहने वाले थे और शाहजहांपुर में एक होटल पर काम करते थे. लॉकडाउन (Lockdown) के बाद से भानू लम्बे समय से घर पर ही थे. भानू की आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं थी. इन दिनों घर में न खाने को कुछ था और न अपने और अपनी बूढ़ी मां के इलाज के लिए पैसे थे. दोनों ही सांस की बीमारी से जूझ रहे थे. भानू के तीन बेटियां और एक बेटा हैं. घर पर बूढ़ी मां और बीमारी का बोझ था. घर की पूरी जिम्मेदारी भानू के कंधे पर थी. जिम्मेदारियों के बोझ तले दबकर भानू ने जिंदगी से हार मान ली और रेलवे ट्रैक पर लेट मौत को गले लिया.

सुसाइड नोट में लिखा दर्द
भानू की जेब से जो सुसाइड नोट बरामद हुआ है, उसमें उसने लिखा है कि राशन की दुकान से उसको गेहूं-चावल तो मिल जाता था, लेकिन ये सब नाकाफी थे. चीनी, चायपत्ती, दाल, सब्जी, मसाले जैसी रोजमर्रा की चीजें अब परचून वाला भी उधार नहीं देता था. मैं और मेरी विधवा मां लम्बे समय से बीमार हैं. गरीबी के चलते तड़प-तड़प के जी रहे हैं. शासन-प्रशासन से भी कोई सहयोग नहीं मिला. गरीबी का आलम ये है कि मेरे मरने के बाद मेरे अंतिम संस्कार भर का भी पैसा मेरे परिवार के पास नहीं है.

Suicide lakhimpur
सुसाइड नोट में शख्स ने बयां किया दर्द.


बहन बोली- आर्थिक तंगी से परेशान था
भानु की बहन रेनू का कहना है कि आर्थिक तंगी के चलते कई दिनों से भानु काफी परेशान था. उसकी शारीरिक कमजोरी के चलते उसे काम मिल नहीं पा रहा था. घर में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था.

डीएम शैलेन्द्र सिंह ने कहा...
जिले के डीएम शैलेन्द्र सिंह का कहना है कि मृतक भानु गुप्ता शाहजहांपुर के होटल में काम करते थे. वह जिले के मैगलगंज के रहने वाले थे. उनकी डेड बॉडी मैगलगंज में रेलवे लाइन के किनारे मिली है. प्रारंभिक जांच में पता चला है कि उनको अंत्योदय कार्ड के द्वारा राशन मिल रहा था. इस महीने भी राशन दिया गया है. उनकी मौत के सभी कारणों की जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी.

ये भी पढ़ें:

इकबाल अंसारी ने की बाबरी विध्वंस केस को समाप्त करने की मांग

आगरा में आंधी-पानी से हुई जनहानि पर सीएम योगी ने जताया शोक, मुआवजे का ऐलान

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज