होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /लखीमपुर खीरी हिंसाकांड: जेल में बेचैनी से कटी मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा की पहली रात, 7 दिनों के लिए हुआ क्वारंटाइन

लखीमपुर खीरी हिंसाकांड: जेल में बेचैनी से कटी मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा की पहली रात, 7 दिनों के लिए हुआ क्वारंटाइन

Ashish Mishra Surrenders in Court: पीछले साल 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में हुए हिंसा में चार किसान समेत एक ...अधिक पढ़ें

    लखीमपुर खीरी.  सुप्रीम कोर्ट द्वारा जमानत रद्द किए जाने के बाद लखीमपुर खीरी हिंसा के मुख्य आरोपी गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा ने गुरुवार दोपहर कोर्ट के सामने सरेंडर कर दिया.  आशीष मिश्रा के अधिवक्ता ने सीजेएम कोर्ट में सरेंडर की अर्जी दी थी. जिसके बाद अर्जी पर सुनवाई करते हुए सीजेएम चिंताराम ने आशीष मिश्रा को न्यायिक अभिरक्षा लेते हुए जेल भेज दिया. आशीष मिश्रा को जेल के बैरक नंबर 21 में 7 दिनों के लिए क्वारंटाइन किया गया है. जेल सूत्रों के मुताबिक उसकी पहली रात बड़ी बेचैनी से कटी और वह पूरी रात सो नहीं पाया. गौरतलब है कि हाईकोर्ट से जमानत मिली जमानत को सुप्रीम कोर्ट चुनौती दी गई थी. जिसके बाद 18 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने आशीष मिश्रा की जमानत निरस्त कर दी थी.

    बता दें कि पीछले साल 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में हुए हिंसा में चार किसान समेत एक पत्रकार, ड्राइवर और दो बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या हुई थी. किसानों और पत्रकार की हत्या मामले मेंआशीष मिश्रा समेत 14 लोगों को आरोपी बनाया गया हैं. इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने 10 फ़रवरी को आशीष मिश्रा की जमानत मंजूर कर ली थी. जिसके बाद 15 फ़रवरी को आशीष मिश्रा जेल से बाहर आया था. आशीष मिश्रा को मिली जमानत को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई. जिस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने 18 अप्रैल को हाईकोर्ट के फैसले को पलटते हुए उसकी जमानत रद्द करते हुए एक सफ्ताह के अंदर सरेंडर करने का निर्देश दिया था.

    क्वारंटाइन बैरक में रखा गया
    आशीष मिश्रा के अधिवक्ता अवधेश सिंह ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने सरेंडर के लिए एक हफ्ते का समय दिया था. समय सीमा के आखिरी दिन कोई दिक्कत न हो इसलिए आशीष ने रविवार को सरेंडर कर दिया. बता दें कि आशीष मिश्रा को जेल में अन्य कैदियों से अलग क्वारंटाइन में रखा गया है.

    Tags: Ashish Mishra, Lakhimpur Kheri case, UP latest news

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें