मुद्दा बना नेशनल हाईवे के बीच खड़ा ये पेड़, सपा एमएलसी ने कसा तंज- विकास पैदा हुआ...

नेशनल हाईवे बना रही कम्पनी एरा इंफ्रा कंस्ट्रक्शंस लिमिटेड के प्रोजेक्ट इंचार्ज अरुण चौधरी ने बताया कि 9 साल से वन विभाग के चक्कर लगा लगा थक गए. एनओसी नहीं मिली तो पेड़ को सड़क के बीच छोड़ दिया है. मजबूरी है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 3, 2018, 2:30 PM IST
मुद्दा बना नेशनल हाईवे के बीच खड़ा ये पेड़, सपा एमएलसी ने कसा तंज- विकास पैदा हुआ...
हाइवे के बीच खड़ा पेड़. Photo: Facebook
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 3, 2018, 2:30 PM IST
नेशनल हाईवे  24 पर सड़क के बीचों-बीच खड़ा एक पेड़ इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है.  इसी पेड़ के मुद्दे पर सियासत भी शुरू हो गई है. मामले में समाजवादी पार्टी के एमएलसी शशांक यादव ने पेड़ को  दिखाते हुए फेसबुक पोस्ट में बीजेपी सरकार पर तंज कसा है. उधर सड़क के बीच में लगे इस पेड़ पर जब संबंधित हाईवे निर्माण कंपनी अौर वन विभाग से संपर्क किया गया तो दोनों के अपने-अपने तर्क हैं.

दरअसल समाजवादी पार्टी के कई सालों तक जिलाध्यक्ष रह चुके और वर्तमान में एमएलसी शशांक यादव ने अपने फेसबुक पेज पर नेशनल हाइवे नम्बर 24 की एक तस्वीर साझा की और लिखा कि लो विकास पैदा हो गया. पर एनएच 24 पर. इस तस्वीर में नेशनल हाई-वे नम्बर 24 पर डिवाइडर के एक तरफ सड़क के बीचो बीच एक आम का पेड़ लगा है. हॉटमिक्स से बनी इस सड़क के बीचोबीच लगे इस पेड़ के चारों तरफ सड़क बना दी गई है.

लखनऊ दिल्ली हाई-वे पर सड़क के बीचो-बीच खड़े इस पेड़ से हमेशा ही आने जाने वाले वाहनों और लोगों को जान माल का बड़ा खतरा है. न्यूज 18 ने फोन पर एमएलसी से जब इस पेड़ के बारे में पूछा तो एमएलसी शशांक यादव बोले,'ये एक व्यंग्य है मोदी और योगी सरकार विकास के झूठे विकास पर. सरकार झूठे सब्जबाग जनता को दिखा रही है. हाईवे पर खड़े इस पेड़ से विकास का पता चलता है. ऐसा ही खतरनाक है सरकार का विकास जनता को समझना होगा.'

सपा एमएलसी की फेसबुक पोस्ट





एमएलसी ने आगे कहा कि सरकार विकास-विकास चिल्ला रही है, पर नेशनल हाईवे के बीच खड़े इस पेड़ को कटवाने में विभागों के कोआर्डिनेशन की सच्चाई सामने आ रही है. यूपी सरकार अखिलेश यादव के कामों के फीते अभी तक काट रही है. बीजेपी सरकार को समाजवादी सरकार के एक्सप्रेसवे से सबक लेना चाहिए. जब नेशनल हाईवे जैसे महत्वपूर्ण प्रोजेक्टों का ये हाल है, जो लखनऊ और दिल्ली को जोड़ते हैं तो बाकी का क्या होगा. शशांक कहते हैं न सरकार को विकास करना आता है, न आम जनता की जान माल की ही सरकार को फिक्र है. इसीलिए लिख दिया कि विकास पैदा हो गया.

9 साल से वन विभाग से मांग रहे हैं पेड़ काटने की अनुमति: कंपनी

उधर एनएच 24 पर बीचोंबीच लगे इस पेड़ के बारे में न्यूज 18 संवाददाता ने जब नेशनल हाई वे बना रही कम्पनी एरा इंफ्रा कंस्ट्रक्शंस लिमिटेड के प्रोजेक्ट इंचार्ज अरुण चौधरी से बात की तो उन्होंने बताया कि पेड़ काटने के लिए खीरी के वन विभाग से एनओसी नहीं मिली है. जब उनसे संवाददाता ने ये कहा कि ये तो जानलेवा है तो वो बोले 9 सालों से वन विभाग के चक्कर लगा लगा थक गए. एनओसी नहीं मिली तो सड़क के बीच छोड़ दिया है. मजबूरी है. अरुण चौधरी ने बताया कि हरदोई और खीरी जिले की सीमा से लगे इस नेशनल हाइवे पर हरदोई जिले में पड़ने वाले महमूदपुर सरैया अंडर पास के पास भी यही हाल है. पेड़ो के काटने की जब एनओसी मिलेगी, तभी काट सकते हैं.

पेड़ काटने को एनओसी के लिए किसी कंपनी का कोई पत्र जानकारी में नहीं: डीएफओ

इधर इसम मामले में दक्षिण खीरी, वन प्रभाग के डीएफओ समीर कुमार ने बताया कि ऐसी किसी कम्पनी से एनओसी के लिए कोई पत्र उनके संज्ञान में नहीं है. अगर यातायात में कोई पेड़ बाधक है या विकास की जनहित की किसी भी परियोजना के लिए आमतौर पर विभाग परमीशन दे देता है. एनएच 24 के इस पेड़ के बारे में वह पता करवाते हैं.

ये भी पढ़ें: 

एनकाउंटर पर मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा, पुलिस पर गोली चलाने वालों को बुके नहीं, गोली से देंगे जवाब

News 18 Impact: बीजेपी विधायक के गोद लिए स्कूल में छात्रों से झाड़ू लगवाने वाली टीचर निलंबित
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर