Home /News /uttar-pradesh /

Nighasan Assembly Seat: केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री टेनी की सीट क्‍या बरकरार रख पाएगी भाजपा?

Nighasan Assembly Seat: केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री टेनी की सीट क्‍या बरकरार रख पाएगी भाजपा?

UP Chunav 2022: केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी के निघासन सीट पर इस बार रोचक होगी चुनावी जंग.

UP Chunav 2022: केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी के निघासन सीट पर इस बार रोचक होगी चुनावी जंग.

Nighasan Assembly Seat Election: लखीमपुर खीरी जिले की निघासन विधानसभा सीट पर केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री अजय मिश्रा उर्फ टेनी का प्रभाव माना जाता है. वह यहां से 2012 में विधायक बने थे. 2017 में भी यहां से भाजपा के रामकुमार वर्मा जीतेे थे. उनके निधन के बाद 2019 में हुए उपचुनाव में रामकुमार वर्मा के बेटे शशांक वर्मा ने जीत दर्ज की थी. तिकुनिया हिंसा के बाद टेनी से किसानों की नाराजगी इस चुनाव में भाजपा पर कहीं भारी न पड़ जाए.

अधिक पढ़ें ...

लखीमपुर खीरी. निघासन विधानसभा सीट पर किसी पार्टी का लंबे समय तक दबदबा नहीं रहा है. हर पार्टी को बारी-बारी से मौका मिलता रहा है. केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री अजय मिश्रा उर्फ टेनी के प्रभाव वाली इस सीट पर 2017 में यहां से भाजपा के रामकुमार वर्मा ने जीत दर्ज की थी. 2018 में उनके निधन के बाद 2019 में हुए उपचुनाव में उनके बेटे शशांक वर्मा ने भाजपा के टिकट पर जीत दर्ज की थी. शशांक को 1,20,269 वोट मिले थे. दूसरे नंबर पर रहे समाजवादी पार्टी के मोहम्‍म्‍द कय्यूम को 68,987 वोट प्राप्‍त हुए थे.

इस सीट पर 1952 में पहला चुनाव हुआ था. तब कांग्रेस के ठाकुर करन सिंह ने जीत दर्ज की थी. 1957 में प्रजा सोशलिस्‍ट पार्टी और 1962 के चुनाव में जनसंघ को जीत मिली थी. 1967 में ठाकुर करन सिंह ने फिर कांग्रेस की वापसी कराई. इसके बाद  1969 में भी वह कांग्रेस के टिकट पर जीते थे. कांग्रेस इस सीट पर कुल पांच बार जीती है. आखिरी बार उसे 1985 में जीत मिली थी. निर्वेंद्र कुमार मिश्र इस सीट से लगातार तीन बार जीत दर्ज करने वाले अकेले विधायक हैं. 1989 और 1991 का चुनाव उन्‍होंने निर्दलीय लड़कर जीता था. 1993 में समाजवादी पार्टी से जीते थे.

1996 में पहली बार राम कुमार वर्मा ने इस सीट पर भाजपा को जीत दिलाई थी. 2002 में बसपा से आरएस कुशवाहा, 2007 में सपा के कृष्‍ण गोपाल पटेल ने जीत दर्ज की थी. 2012 में वर्तमान केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री अजय मिश्रा उर्फ टेनी भाजपा से जीते. 2014 में उनके लोकसभा का सदस्‍य बनने के बाद हुए उपचुनाव में सपा के कृष्‍ण गोपाल पटेल ने भाजपा से यह सीट छीन ली. 2017 के चुनाव में रामकुमार वर्मा ने 46 हजार से अधिक वोटों से कृष्‍ण गोपाल को हराकर यह सीट फिर से भाजपा के खाते में डाल दी.

जातीय समीकरण
3.78 लाख मतदाताओं वाली निघासन सीट पर अनुसूचित जाति के करीब 61 हजार वोटर हैं. मौर्य 51 हजार, यादव 31 हजार, मुस्‍लिम 35 हजार, ब्राह्मण 28 हजार और वैश्‍य वोटर लगभग 27 हजार है.

Tags: Lakhimpur Kheri News, UP Assembly Election 2022, UP Election 2022

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर