इंटरनेट की मदद से 8 साल बाद अपने परिवार से मिला 70 साल का बुजुर्ग

गुरदीप कुवैत से लेकर इराक तक में रहकर काम कर चुके हैं. जब काम में मंदी आने लगी तो वह डिप्रेशन का शिकार हो गए.

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 27, 2018, 8:26 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: April 27, 2018, 8:26 PM IST
लखीमपुर खीरी के एक परिवार में 8 साल बाद खुशिया वापस लौटी हैं. इंटरनेट की मदद से यहां का एक परिवार अपने बिछड़े सदस्य से फिर मिल सका. दरअसल गुरदीप सिंह नाम का शख्स 8 साल पहले अपने परिवार से बिछड़ गया था. गुरदीप के बिछड़ने के बाद परिवार वालों ने उन्हें तलाशने की बहुत कोशिश की लेकिन उनका कहीं कोई पता नहीं चला. अब जबकि गुरदीप वापस आ गए हैं तो परिवारवालों की खुशी को कोई ठिकाना नहीं है.

गुरदीप मूल रूप से पंजाब के गुरदासपुर जिले के रहने वाले हैं. उनका परिवार अब दिल्ली में रह रहा है. वह कुवैत से लेकर इराक तक में रहकर काम कर चुके हैं. जब काम में मंदी आने लगी तो वह डिप्रेशन का शिकार हो गए और दिल्ली वापस लौट आए. गुरदीप की पत्नी भूपिन्दर डाक विभाग में सरकारी कर्मचारी थीं. एक दिन पत्नी से कुछ सामान लेने की बात कहकर गुरदीप घर से निकले पर वापस नहीं लौटे. परिवार ने दिल्ली से लेकर पंजाब और सभी रिश्तेदारों के घर की खाक छानी पर उनका का कोई अता पता नहीं चला. पिछले 8 सालों में गुरदीप से मिलने की उनकी परिवार की आशा भी धूमिल पड़ गई थी.

8 साल ठोकर खाने के बाद एक दिन गुरदीप की मुलाकात वीरेंद्र सिंह और कमलजीत से हो गई. पंजाबी भाषा में बातचीत हुई. गुरदीप की हालत देखकर दोनों ने इंसानियत के नाते उन्हें शरण देने की सोची और गुलौला गांव में अपने घर ले आए. घर का पता पूछा तो गुरदासपुर जिले के किला नत्थूसिंह गांव का जिक्र आया.

वीरेंद्र सिंह ने इंटरनेट का सहारा लिया और उन्हें गुरदासपुर जिले के सिविल लाइंस थाने का फोन नम्बर मिल गया. इसके बाद फोन करके गुरदीप के बारे में जानकारी दी गई. जब परिवार को पता चला कि 8 साल पहले बिछड़ने वाले गुरदीप सही सलामत हैं तो उनकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर