अखिलेश ने बताया कैसे और कब पड़ी सपा-बसपा के बीच गठबंधन की नींव

प्रधानमंत्री पद से जुड़े सवाल पर अखिलेश ने कहा कि मैं इस पद की रेस में नहीं हूं. प्रधानमंत्री बनने में सहयोग करुंगा. नई सरकार में क्षेत्रीय दलों की भूमिका होगी.

News18Hindi
Updated: May 11, 2019, 9:00 AM IST
अखिलेश ने बताया कैसे और कब पड़ी सपा-बसपा के बीच गठबंधन की नींव
अखिलेश यादव की फाइल फोटो (PTI Photo/Nand Kumar)
News18Hindi
Updated: May 11, 2019, 9:00 AM IST
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस राज का खुलासा किया है कि उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी के साथ गठबंधन की नींव कैसे पड़ी. हिन्दी अखबार अमर उजाला को दिए एक इंटरव्यू में अखिलेश ने कहा कि 'गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव के समय मुख्यमंत्री (योगी आदित्यनाथ) यह मान रहे थे कि वहां (गोरखपुर) कोई हरा नहीं सकता. हमने बसपा से सहयोग मांगा और मिलकर चुनाव लड़े. फूलपुर में भी किया. दोनों दलों के कार्यकर्ता साथ आए. उन्हें लगा कि हम मिलकर काम कर सकते हैं.'

अखिलेश के मुताबिक इसी के साथ गठबंधन की नींव पड़ गई. अखिलेश ने कहा कि 'गठबंधन ने नफरत की दीवार को गिरा दिया. हमने बीजेपी से ही संख्या बढ़ाना सीखा है.'



राजीव गांधी पर पीएम टिप्पणी पर यह बोले अखिलेश
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत राजीव गांधी पर की गई टिप्पणी पर अखिलेश ने कहा कि 'बीजेपी 'खोजो पॉलिटिक्स' कर रही है. तीस साल पहले INS विराट पर तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के जाने का आप आज जिक्र करेंगे तो 10-15 साल बाद कोई आपकी भी कोई बात खोजेगा. यह खतरनाक पॉलिटिक्स है. अभी सेना के युद्ध पोत पर अक्षय कुमार और कुछ दूसरे लोगों को ले जाने की बात सामने आई. कई पूर्व सैन्य अधिकारियों ने भी ऐसी बातों पर एतराज जाहिर किया है.'

यह भी पढ़ें:  26 मई 2014 से ही मैं दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के लिए आश्वस्त हूं: PM मोदी

सपा-बसपा के मोदी के दबाव में होने संबंधी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बयान पर अखिलेश ने कहा कि 'सपा पर कोई दबाव नहीं बना सका. सीबीआई, इनकम टैक्स, ईडी पर कांग्रेस और बीजेपी का रुख एक जैसा है. इस चुनाव में सत्ता की ताकत को जनता मात देगी.'

चुनावी रैली रद्द करने पर बोले
Loading...

अखिलेश ने आजमगढ़ में चुनावी रैली रद्द करने पर कहा कि 'जिला निर्वाचन अधिकारी ने टेंट, कुर्सी, खाने के रेट रिवाइज कर दिए. रैली में हमने खाना नहीं दिया, लेकिन खर्च जोड़ दिया. हमारी एक रैली का खर्च तीस लाख से ऊपर जोड़ा गया. पीएम की रैली का खर्च नहीं जोड़ रहे हैं. सरकारी मशीनरी का खूब दुरुपयोग हो रहा है.'

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी ने सपा-बसपा गठबंधन पर कसा तंज, कहा- खिचड़ी सरकार बढ़ाएगी असुरक्षा और अराजकता

प्रधानमंत्री पद से जुड़े सवाल पर अखिलेश ने कहा कि 'मैं इस पद की रेस में नहीं हूं. प्रधानमंत्री बनने में सहयोग करुंगा. नई सरकार में क्षेत्रीय दलों की भूमिका होगी.'

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...