लाइव टीवी

लोकसभा चुनाव 2019: अखिलेश के हिस्से आईं यूपी की ये सबसे 'सेफ' सीटें!

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: February 21, 2019, 7:49 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019: अखिलेश के हिस्से आईं यूपी की ये सबसे 'सेफ' सीटें!
मायावती-अखिलेश यादव (फाइल फोटो)

सीट शेयरिंग: क्या मायावती-अखिलेश यादव मिलकर भेद पाएंगे योगी आदित्यनाथ और केशव प्रसाद मौर्य का किला?

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2019, 7:49 PM IST
  • Share this:
लोकसभा चुनाव के लिए सपा-बसपा ने सीटों का बंटवारा कर लिया है. शेयरिंग फार्मूले में समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव के हिस्से में यूपी की तीन सबसे 'सेफ' सीटें भी आ गई हैं. जिन पर गठबंधन का फार्मूला पहले से ही टेस्टेड और सफल है. ये सीटें हैं गोरखपुर, फूलपुर और कैराना. योगी आदित्यनाथ की पारंपरिक सीट रही गोरखपुर में समाजवादी पार्टी के प्रवीण कुमार निषाद ने कब्जा किया था जबकि डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की सीट फूलपुर से सपा के नागेंद्र सिंह पटेल सांसद बने थे.

कैराना में सपा के समर्थन पर तबस्सुम हसन आरएलडी की सांसद हैं. ये तीनों सीटें इस बंटवारे में सपा के हिस्से आ गई हैं. सवाल ये है कि क्या सपा और बसपा मिलकर फिर से योगी आदित्यनाथ और केशव प्रसाद मौर्य का किला भेद पाएंगे? (ये भी पढ़ें: UP में गठबंधन के सीटों का ऐलान, इन सीटों पर सपा-बसपा मिलकर लड़ेगी चुनाव)

 UP Election Result 2018, Phulpur Chunav Parinam, Gorakhpur Chunav Parinam, Phulpur Election Result 2018, यूपी इलेक्शन रिजल्ट 2018, फूलपुर इलेक्शन रिजल्ट 2018, गोरखपुर इलेक्शन रिजल्ट 2018, फूलपुर चुनाव परिणाम, गोरखपुर चुनाव परिणाम, NISHAD PARTY,Nirbal Indian Shoshit Hamara Aam Dal, political party in India, Sanjay nishad, sp, bsp, congress, bjp, निषाद पार्टी, 'निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल, संजय निषाद, एसपी, बीएसपी, कांग्रेस, भाजपा, yogi aditynath, योगी आदित्यनाथ, gorakhpur bypoll, up bypoll,upendra datt shukla, उपेंद्र दत्त शुक्ल, up bypoll, Mayawati, Akhilesh yadav,Gorakhpur Lok Sabha bypoll, Phulpur Lok Sabha By-election, keshav prasad maurya, INC, congress, Samajwadi Party, Bahujan Samaj Party, Atique Ahamad,अतीक अहमद, केशव प्रसाद मौर्य, फूलपुर लोकसभा क्षेत्र, समाजवादी पार्टी, बीजेपी, भारतीय जनता पार्टी, फूलपुर उप चुनाव, गोरखपुर उप चुनाव         योगी आदित्यनाथ और केशव प्रसाद मौर्य  (file photo)


गोरखपुर और कैराना बीजेपी का बड़ा गढ़ रहे हैं. लेकिन जब 2018 में इन पर गठबंधन गणित का फार्मूला लगाया गया तो भगवा ब्रिगेड को हार का मुंह देखना पड़ा. फूलपुर भी समाजवादी पार्टी ने बीजेपी से छीन लिया था. राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि अकेले लड़ने पर इन सीटों पर बीजेपी भारी पड़ेगी लेकिन गठबंधन के लिहाज से ये काफी सेफ है और तीनों का संदेश बड़ा जाएगा. गोरखपुर और फूलपुर वो सीटें हैं जहां पर बीजेपी के विजय रथ को विपक्ष ने मिलकर सबसे पहले रोका था. इसके बाद ही तय हो गया था कि सपा-बसपा भविष्य में गठबंधन करेंगे.

गोरखपुर
2014 की मोदी लहर में गोरखपुर से योगी आदित्यनाथ को 51.80 फीसदी वोट मिले थे. सपा को 21.75,  बसपा को 16.95 जबकि कांग्रेस को सिर्फ 4.39 फीसदी वोट से संतोष करना पड़ा था. 2009 में आदित्यनाथ को 53.85 फीसदी वोट हासिल हुए थे. बीएसपी 24.43 और सपा के मनोज तिवारी (अब दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष) को 11.09 और कांग्रेस को सिर्फ 4.04 फीसदी वोट प्राप्त हुए थे. लेकिन 2018 के उप चुनाव में प्रवीण निषाद ने 4,56,513 वोट लेकर बीजेपी के उपेंद्र दत्त शुक्ल (4,34,632) से यह सीट छीन ली थी.


फूलपुर
2014 की मोदी लहर में फूलपुर से बीजेपी के केशव प्रसाद मौर्य को 52.43 फीसदी वोट मिले थे. सपा को 20.33, बसपा को 17.05 और कांग्रेस को सिर्फ 6.05 फीसदी वोट हासिल हुए. जबकि 2009 के चुनाव में यहां बीएसपी का सांसद था. बीएसपी को 30.36, सपा को 27.72, कांग्रेस को 12.25 और बीजेपी को सिर्फ 8.12 फीसदी वोट के साथ संतोष करना पड़ा था. इस सीट पर चार बार सपा के सांसद रहे हैं. 2018 के उप चुनाव में सपा के नागेंद्र सिंह पटेल ने 3,42,922 वोट लेकर बीजेपी के कौशलेंद्र सिंह पटेल (283462) को शिकस्त दी थी.

up bypoll, Mayawati, Akhilesh yadav,SP,BSP,BJP, Gorakhpur Lok Sabha bypoll, Phulpur Lok Sabha By-election, yogi adityanath, keshav prasad maurya, kamalnath, योगी आदित्यनाथ, INC, congress, BSP founder Kanshi Ram, mulayam singh yadav, Samajwadi Party, Bahujan Samaj Party, Atique Ahamad,बसपा के संस्थापक कांशी राम, बसपा, अतीक अहमद, केशव प्रसाद मौर्य, फूलपुर लोकसभा क्षेत्र, समाजवादी पार्टी, बीजेपी, भारतीय जनता पार्टी, फूलपुर उप चुनाव, गोरखपुर उप चुनाव       किसके लिए खतरा है एसपी-बीएसपी की दोस्ती?


कैराना
दलित और मुस्लिम बहुल कैराना सीट पर आरएलडी-सपा गठबंधन की प्रत्याशी तबस्सुम ने अपनी निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा की मृगांका सिंह को 44618 मतों से पराजित किया था.

ये भी पढ़ें:

अखिलेश-मायावती गठबंधन पर मुलायम का निशाना, कहा- पार्टी को अपने ही लोग कर रहे खत्म

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 21, 2019, 5:27 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर