योगी सरकार का दावा, प्रवासी मजदूरों को लेकर UP पहुंचीं 1337 श्रमिक स्‍पेशल ट्रेनें, गोरखपुर ने बनाया रिकॉर्ड
Lucknow News in Hindi

योगी सरकार का दावा, प्रवासी मजदूरों को लेकर UP पहुंचीं 1337 श्रमिक स्‍पेशल ट्रेनें, गोरखपुर ने बनाया रिकॉर्ड
गोरखपुर में 200 से अधिक ट्रेनें आ चुकी हैं.

उत्‍तर प्रदेश में विभिन्न राज्यों से प्रवासियों को लेकर अभी तक लगभग 1337 श्रमिक स्‍पेशल ट्रेनें (Shramik Special Train) आ चुकी हैं, तो अभी 104 और ट्रेनें आनी हैं.

  • Share this:
लखनऊ. इस समय कोरोना वायरस की महामारी (Coronavirus Epidemic) वजह से पूरे देश में लॉकडाउन (Lockdown) चल रहा है. जबकि इस बीच प्रवासी मजदूरों को सबसे अधिक परेशानियों को सामना करना पड़ रहा हैं. हालांकि तमाम राज्‍य सरकारें अपने प्रवासी मजदूरों (Migrant Laborers) को लाने की कवायद में लगी हुई हैं. वहीं, उत्‍तर प्रदेश में विभिन्न राज्यों से प्रवासियों को लेकर अभी तक लगभग 1337 श्रमिक स्‍पेशल ट्रेनें आ चुकी हैं, तो अभी 104 और ट्रेनें आनी हैं. यही नहीं, गोरखपुर ना सिर्फ उत्‍तर प्रदेश बल्कि देश का पहला जिला है जहां अब तक 200 से अधिक ट्रेनें आ चुकी हैं.

गोरखपुर ने बनाया रिकॉर्ड
उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में अब तक लगभग 1337 श्रमिक स्‍पेशल ट्रेनें आ चुकी है, तो अभी 104 और ट्रेनें आनी हैं. जबकि गोरखपुर देश का पहला जिला है जहां 200 से अधिक ट्रेनें आ चुकी हैं और अब तक 2,00,077 यात्रियों को घर पहुंचा दिया गया है. इसके अलावा उत्‍तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में 89 ट्रेनें पहुंची हैं. साथ ही उन्‍होंने कहा कि करीब 1511 ट्रेनों की व्यवस्था की गयी है. जबकि सबसे अधिक 474 ट्रेनें गुजरात से आयी हैं.





यहां भी पहुंचे एक लाख से अधिक मजूदर
अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने बताया कि करीब एक लाख 47 हजार प्रवासी श्रमिक सिध्दार्थनगर में आए हैं जबकि महाराजगंज जिले में एक लाख तीन हजार, सीतापुर में 50 हजार, हरदोई में 58 हजार श्रमिक आ चुके हैं. उन्होंने कहा कि अब तक गोरखपुर में कामगारों को लेकर 219 ट्रेनें आ चुकी हैं. इस प्रकार गोरखपुर रेलवे जंक्शन पूरे देश में सर्वाधिक श्रमिक स्पेशल ट्रेन ‘रिसीव’ करने वाला स्टेशन बन गया है. इसी प्रकार लखनऊ में करीब 89, जौनपुर में 99, बलिया में 64 ट्रेनें आ चुकी हैं .उन्होंने कहा कि प्रवासी श्रमिकों को लाने का सिलसिला लगातार जारी है.

सीएम ने कही ये बात
अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि केन्द्र के सहयोग से प्रदेश सरकार विभिन्न राज्यों से कामगारों की सुरक्षित व सम्मानजनक प्रदेश वापसी सुनिश्चित कर रही है. प्रदेश आने वाले समस्त कामगारों की जांच करते हुए उन्हें पृथक-वास या घर में अलग रखा जाए. इसके साथ ही कामगारों सहित सभी जरूरतमंदों को सामुदायिक रसोई के द्वारा शुद्ध और भरपेट भोजन की व्यवस्था की जाए. पृथक-वास केंद्रों में श्रमिकों के कौशल का पता करते हुए उनके मोबाइल नम्बर और बैंक खाता संख्या सहित सम्पूर्ण विवरण संकलित किया जाए. इससे इन्हें रोजगार प्रदान करने में सुविधा होगी. इसके अलावा मुख्यमंत्री ने कहा कि पृथक-वास के लिए घर जाने वाले कामगारों को खाद्यान्न किट उपलब्ध कराई जाए और इन्हें एक हजार रुपए का भरण-पोषण भत्ता अवश्य उपलब्ध कराया जाए; उन्होंने निर्देश दिए कि कामगारों के निष्क्रिय बैंक खातों को अविलम्ब सक्रिय कराया जाए ताकि ऐसे लोगों को भरण-पोषण भत्ते की धनराशि मिल सके.

ये भी पढ़ें
Lockdown 4.0: नोएडा-दिल्ली बॉर्डर पर फिर लगा लंबा जाम, बिना पास के नहीं हो रही एंट्री


 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading