Lockdown: UP का खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग डेढ़ लाख लोगों को देगा रोजगार
Lucknow News in Hindi

Lockdown: UP का खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग डेढ़ लाख लोगों को देगा रोजगार
सीएम योगी के प्रयासों से 'मरीन ड्राइव' बना गोरखपुर शहर का गटर (file photo)

उत्तर प्रदेश खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड (Khadi and Village Industries Board) द्वारा राज्य में स्वरोजगार के व्यापक अवसर सृजित करने तथा बेरोजगारों को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए ग्रामीण विकास की एक दर्जन योजनाएं शुरू करने की योजना है इससे प्रवासी कामगारों सहित बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
लखनऊ. वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Pandemic coronavirus) के संक्रमण से बचाव के चलते देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) के बाद एक बहुत बड़ी समस्या बेरोजगारी की खड़ी हो गई है. देश भर के विभिन्न इलाकों में काम करने वाले प्रवासी कामगार कोरोना संकट (corona crisis) के समय अपने-अपने घरों को लौट रहे हैं. उत्तर प्रदेश में भी बड़ी संख्या में प्रवासियों की वापसी हुई है. ऐसे में यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने घर वापस लौटे प्रवासियों को अपने प्रदेश में ही रोजगार मुहैया कराने का दावा किया है.

मुख्यमंत्री माटी कला कार्यक्रम को देंगे बढ़ावा
इसी क्रम में उत्तर प्रदेश खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा राज्य में स्वरोजगार के व्यापक अवसर सृजित करने तथा बेरोजगारों को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए ग्रामीण विकास की विभिन्न योजनाओं पर विशेष बल दिया गया है, इससे प्रवासी कामगारों सहित बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे. रोजगार सृजन की दिशा में बोर्ड द्वारा 12 योजनाओं एवं कार्यक्रमों को प्रमुखता से संचालित करने की रूप-रेखा तय करते हुए इसके प्रभावी क्रियान्वयन हेतु समय-सारिणी भी निर्धारित की गई है. प्रमुख सचिव, खादी एवं ग्रामोद्योग डा. नवनीत सहगल ने यह जानकारी देते हुए बताया कि निर्धारित समय सारिणी के अंतर्गत आगामी 01 से 07 माह की अवधि में विभिन्न योजनाओं के तहत 1,45,528 लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है. उन्होंने बताया कि राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी योजना मुख्यमंत्री माटी कला कार्यक्रम को और प्रभावी बनाने की व्यवस्था की गई है.

राज्य के 09 मण्डलों में 2700 माइक्रो माटीकला कॉमन फैसेलिटी सेंटर स्थापित करने का लक्ष्य रखा गया है, इन केन्द्रों के संचालन के उपरांत 10,500 लोगों को रोजगार के अवसर सुलभ हो सकेंगे. डा. सहगल ने बताया कि प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत 2,572 इकाइयों की स्थापना से 20,576 लोगों को रोजगार से जोड़ा जायेगा. मुख्यमंत्री ग्रामोद्योग रोजगार योजना के अन्तर्गत 800 इकाइयों की स्थापना का लक्ष्य है, जिसमें 16 हजार लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे. इसी प्रकार सोलर चर्खा वितरण और प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत एक हजार व्यक्तियों को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य रखा गया है. उन्होंने बताया कि पं दीन दयाल उपाध्याय खादी विपणन सहायता कार्यक्रम के माध्यम से 50 हजार लोगों को रोजगार के अवसर सुलभ कराये जायेंगे.



स्व-रोजगार के लिए किया जाएगा प्रशिक्षित


प्रमुख सचिव के अनुसार टूलकिट योजना के तहत स्व-रोजगार स्थापित करने के इच्छुक 1200 लोगों को टूलकिट देने के साथ ही उन्हें प्रशिक्षण भी प्रदान किया जायेगा. प्रदेश में 300 लाभार्थियों को हनी मिशन के तहत प्रशिक्षण देने का प्राविधान किया गया है. प्रदेश में संचालित कंबल कारखानों की क्षमता में वृद्धि कराते 300 अतिरिक्त लोगों को रोजगार के अवसर दिये जायेंगे. जनपद जालौन के कालपी में हाथ कागज केन्द्र का संचालन आगामी जून माह से प्रारम्भ करने की सभी औपचारिकताएं पूर्ण की जा चुकी हैं, इस केन्द्र के संचालन से बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे. उन्होंने बताया कि प्रदेश में 3075 नवयुवकों/महिलाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए खादी उत्पादन केन्द्रों का सुदृढ़ीकरण किया जा रहा है. साथ ही अन्य विभिन्न ट्रेडों में प्रशिक्षण देकर 42497 लोगों को स्वरोजगार से जोड़ा जायेगा.

ये भी पढ़ें- COVID-19: भदोही में बिना जांच 9 लोगों को बता दिया कोरोना पॉजिटिव, मचा बवाल तो बदली रिपोर्ट
First published: May 26, 2020, 8:46 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading