लाइव टीवी

1993 मुंबई सीरियल ब्लास्ट का फ़रार आरोपी जलीस अंसारी कानपुर से गिरफ्तार

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 17, 2020, 5:05 PM IST
1993 मुंबई सीरियल ब्लास्ट का फ़रार आरोपी जलीस अंसारी कानपुर से गिरफ्तार
मुंबई सीरियल बम धमाके के सजायाफ्ता जलीस अंसारी की गिरफ्तारी की जानकारी देते यूपी के डीजीपी ओपी सिंह

डीजीपी ओपी सिंह (DGP OP Singh) के अनुसार कानपुर की एक मस्जिद से निकलते समय जलीस अंसारी (Jalees Ansari) को गिरफ्तार किया गया. उन्होंने बताया कि जलीस अंसारी मूल रूप से यूपी के संतकबीरनगर का रहने वाला है. वह यूपी होते हुए नेपाल भागने की फ़िराक में था.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स (UP STF) ने 1993 के मुंबई सीरियल बम ब्लास्ट केस (1993 Mumbai Serial Bomb Blast Case) में फरार आरोपी जलीस अंसारी (Jalees Ansari) को गिरफ्तार किया है. लखनऊ में यूपी के डीजीपी ओपी सिंह (DGP OP Singh) ने प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि आजीवन कारावास की सजा पा चुका जलीस अंसारी 21 दिन के परोल से गायब हो गया था. मुंबई एटीएस की जानकारी पर एसटीएफ ने उसे कानपुर से गिरफ्तार किया है. बता दें अंसारी 1993 के मुंबई सीरियल ब्लास्ट समेत कई ब्लास्ट में शामिल था. 26 दिसंबर को 21 दिन की परोल पर अजमेर जेल से छूटा था. 17 जनवरी को उसे वापस जेल पहुंचना था लेकिन वह नहीं पहुंचा.

डीजीपी के अनुसार कानपुर की एक मस्जिद से निकलते समय जलीस अंसारी को गिरफ्तार किया गया. उन्होंने बताया कि जलीस अंसारी मूल रूप से यूपी के संतकबीरनगर का रहने वाला है. वह यूपी होते हुए नेपाल भागने की फ़िराक में था. डीजीपी ने कहा कि आरोपी से एसटीएफ पूछताछ कर रही है.

ANI Jalees
डीजीपी ने कहा कि ये यूपी पुलिस की बड़ी सफलता है.


बांग्लादेश में भी जलीस अंसारी ने बम बनाने की ट्रेनिंग ली. आतंकवाद की दुनिया मे जलीस को डॉक्टर नाम से जानते हैं. डीजीपी ने कहा कि जलीस अंसारी को लखनऊ लाया जा रहा है. उसकी गिरफ्तारी यूपी पुलिस की बड़ी उपलब्धि है.

15 जनवरी को मुंबई से हुआ गायब

पुलिस के अनुसार पैरोल अवधि में रोज 10 से 12 बजे के बीच स्थानीय उपस्थिति दर्ज करवानी अनिवार्य थी. लेकिन 16 जनवरी को सुबह ही जलीस अपने अगटीपाड़ा, मुंबई स्थित आवास से गायब हो गया. इस संबंध में मुंबई एटीएस ने 16 जनवरी की रात को 11 बजे यूपी पुलिस से सहयोग मांगा गया. मुंबई एटीएस ने संभावता जताई कि वह अपने गांव अमरडोवा पोस्ट बकीरा, जनपद संत कबीरनगर जा सकता है. इसके साथ ही पूरे देश में रेड अलर्ट जारी किया गया.

यूपी में सरगर्मी से चल रही थी तलाशइधर पुलिस ने संतकबीर नगर के साथ ही नेपाल सीमा से सटे जिलों की पुलिस को अलर्ट कर दिया और एसएसबी से भी समन्वय स्थापित कर लिया गया. साथ ही मुंबई से लखनऊ की ओर आने वाली ट्रेनों आदि में भी सघन चेकिंग अभियान चलाया गया. इसी दौरान पुलिस को जलीस अंसारी के कानपुर नगर में छिपे होने की सूचना मिली. शुक्रवार दोपहर 1 बजे सूचना के आधार पर पुलिस  टीम ने फेथफुलगंज, कानपुर नगर से जलीस को गिरफ्तार कर लिया गया. उसके पास से पुलिस ने 47 हजार 780 रुपये नकद, आधार कार्ड, मोबाइल फोन और पॉकेट डायरी बरामद की है.

डॉक्टर के नाम से कुख्यात

पूछताछ में डॉ जलीस अंसारी ने बताया कि 1992 में वह बांग्लादेश के रास्ते से भारत आया. इससे पहले उसने पाकिस्तान में रहकर टेरर ट्रेनिंग हासिल की. वह हूजी संगठन के सदस्यों के भी संपर्क में रहा. भारत में इंडियन मुजाहिदीन संगठन को ट्रेंड अैर टेक्निकल हैंड होने के कारण उसे डॉक्टर के नाम से भी जाना जाता है.

इनपुट: ऋषभ मणि त्रिपाठी

ये भी पढ़ें:

लखनऊ: नृत्य का कार्यक्रम अचानक बंद कराने पर विवाद, कथक डांसर ने लगाया ये आरोप

देवर ने साल भर किया विधवा भाभी से रेप, विरोध करने पर बेटे को मारने की धमकी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अजमेर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 17, 2020, 4:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर