सीएम योगी के 'मिशन शक्ति' में नोएडा, प्रयागराज सहित 22 जिले नहीं ले रहे रुचि, अभियोजन विभाग ने भेजी रिपोर्ट

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (File Photo)
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (File Photo)

बता दें उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में पिछले एक सप्ताह में मिशन शक्ति के तहत कई जिलों ने अच्छा प्रदर्शन किया. जिसके चलते 1 सप्ताह के अभियान में महिला, बालिकाओं संबंधी अपराध के 11 मामलों में 18 को फांसी मिली. 86 आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा हुई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 27, 2020, 5:17 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा पिछले दिनों महिलाओं में सुरक्षा की भावना बढ़ाने और उन्हें आगे बढ़ाने के लिए महत्वाकांक्षी मिशन शक्ति की शुरुआत की गई है. मिशन की शुरुआत करते समय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने साफ किया था कि मुख्य सचिव कार्यालय के साथ ही सीएम कार्यालय इस मिशन पर नजर रखेगा. इस मिशन को औपचारिकता नहीं रह जाना है. लेकिन हफ्ते भर के अंदर मिशन शक्ति को लेकर अधिकारियों की लापरवाही और शिथिलता उजागर होने लगी है.

नोएडा, प्रयागराज, अलीगढ़ सहित ये जिले शामिल

इस संबंध में प्रदेश के अभियोजन विभाग ने गृह विभाग को रिपोर्ट भेजी है, जिससे सनसनी मच गई है. रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि सीएम योगी के 'मिशन शक्ति' में 22 जिले रुचि ही न हीं ले रहे हैं. महिला संबंधी अपराध में आरोपियों को सजा दिलाने में ये 22 जिले फिसड्डी हैं. इन जिलों में नोएडा, प्रयागराज, झांसी, गोंडा, अलीगढ़, बहराइच, रायबरेली, बलरामपुर समेत 22 जिले मिशन शक्ति में पिछड़े हैं. इन जिलों के कारण पूरे प्रदेश में मिशन शक्ति की कोशिशें कमजोर पड़ रही हैं.



एक सप्ताह में 18 को फांसी, 86 को उम्रकैद
बता दें उत्तर प्रदेश में पिछले एक सप्ताह में मिशन शक्ति के तहत कई जिलों ने अच्छा प्रदर्शन किया. जिसके चलते 1 सप्ताह के अभियान में महिला, बालिकाओं संबंधी अपराध के 11 मामलों में 18 को फांसी मिली. 296 शोहदे जिला बदर किए गए. 86 आरोपियों को आजीवन कारावास की सज़ा हुई, वहीं 96 को 10 साल से अधिक की सजा दिलाई गई. इसके अलावा 600 शोहदों की ज़मानत खारिज कर जेल भेजा गया. अभियोजन विभाग ने 10 दिन की रिपोर्ट गृह विभाग को भेजी है.

एडीजी अभियोजन, आशुतोष पांडेय ने कहा कि बालिकाओं, महिलाओं के खिलाफ अपराधों में कार्रवाई के मामले में 18-20 जिले आरोपियों को सज़ा दिलवाने में पिछड़ रहे हैं. जहां डीएम, एसपी रुचि ले रहे हैं, वहां जल्दी सज़ा मिल रही है. कुछ जिलों में कुछ कमियां रह गई हैं. कमियों को दुरुस्त किया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज