UP: गंगा में लाशें प्रवाहित करने पर रोक, पुलिस 24 घंटे करेगी घाटों पर पेट्रोलिंग

नदियों में लाशें न बहाएं लोग इसके लिए एडीजी प्रशांत कुमार ने कई निर्देश जारी किए.

नदियों में लाशें न बहाएं लोग इसके लिए एडीजी प्रशांत कुमार ने कई निर्देश जारी किए.

पुलिस मुख्यालय ने निर्देश दिया है कि ग्रामीणों को पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम और मीटिंग के जरिये जागरूक किया जाए. कोरोना संक्रमण से हुई मौतों के मामले में कोविड प्रोटोकॉल के तहत शवों का अंतिम संस्कार किया जाए.

  • Share this:

लखनऊ. यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार की तरफ से सभी जिला कप्तानों-पुलिस कमिश्नरों को गंगा और अन्य नदियों में शव प्रवाहित करने के मामले को लेकर आज यानी सोमवार को निर्देश जारी किए गए हैं. जारी किए गए निर्देश में कहा गया है कि नदियों में शव प्रवाहित करने पर हर हाल में रोक लगाई जाए. इसके लिए पुलिस, पीएसी, एसडीआरएफ के जरिए 24 घंटे घाटों पर पैट्रोलिंग करने को कहा गया है. मुख्यालय से निर्देश आया है कि ग्रामीणों को पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम और मीटिंग के जरिये जागरूक किया जाए. इसके अलावा यह भी निर्देश है कि शव के अंतिम संस्कार के लिए सरकार की ओर से जो 5 हजार रुपये की आर्थिक सहायता किए जाने की घोषणा की गई है, उसका प्रचार-प्रसार किया जाए. पुलिस मुख्यालय ने कहा है कि कोरोना संक्रमण से हुई मौतों के मामले में कोविड प्रोटोकॉल के तहत शवों का अंतिम संस्कार किया जाए.

आपको बता दें कि उन्नाव में बक्सर घाट पर पुलिस पिकेट लगाने के साथ गंगा नदी में पेट्रोलिंग की जा रही है. घाट से 100 मीटर की दूरी पर पुलिस चौकी बक्सर और थाना बारा सगवर का कंट्रोल रूम बनाया गया है. अब तक वाराणसी में 7, गाजीपुर में 15-16 और चंदौली, बलिया में 8-8 शव नदियों में उतराते मिले हैं. इन सभी शवों का उचित रीति से अंतिम संस्कार कराया गया है. बलिया, गाजीपुर, वाराणसी में श्मशान घाटों पर पुलिस एवं राजस्व की स्टेटिक टीम की ड्यूटी लगाई गई है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज